Hindi word processor
  जारवा समुदाय का वीडियो साढ़े 3 साल पुराना
स्रोतः प्रभासाक्षी
स्थानः
नई दिल्ली
तिथिः
05 Qjojh 2012
 

   

अंडमान के जारवा आदिवासी समुदाय की अर्धनग्न महिलाओं के नृत्य संबंधी वीडियो फुटेज को लेकर की गई जांच में खुलासा हुआ है कि यह फुटेज करीब साढ़े तीन साल पुराना है। अंडमान निकाबोर द्वीप समूह प्रशासन की ओर से इस वीडियो फुटेज को लेकर तैयार जांच रिपोर्ट में इन दावों को खारिज किया गया है कि जारवा जनजाति की महिलाओं के नृत्य संबंधी यह वीडियो हाल ही में बनाया गया है। आयोग के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने बतायाए श्श्अंडमान में आदिवासी कल्याण विभाग के सहायक निदेशक ने हमें बताया है कि जांच पूरी हो चुकी है। इसमें यह बात सामने आई है कि यह वीडियो साढ़े तीन साल पुराना है और इस तरह का कोई भी नया वीडियो नहीं बनाया गया है।श्श् पिछले महीने इस वीडियो फुटेज के सामने आने के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग ने अंडमान प्रशासन को इस मामले की जांच करने और जल्द से जल्द रिपोर्ट भेजने का आदेश दिया था। अंडमान प्रशासन ने पूरी जांच के बाद यह रिपोर्ट तैयार कर ली है और अब यह रिपोर्ट शीघ्र ही आयोग के पास आने वाली है। उरांव ने कहाए श्श्सहायक निदेशक यआदिवासी कल्याण विभागद्ध ने फिलहाल हमें मौखिक जानकारी दी है और अब वे जल्द ही यह रिपोर्ट आयोग को भेजेंगे। आयोग रिपोर्ट मिलने के बाद इस पर चर्चा करेगा और आगे का कदम उठाएगा।श्श् उरांव ने कहा कि अंडमान के अधिकारियों ने उन्हें बताया है कि अब पर्यटकों के अंडमान ट्रंक मार्ग पर बीच में उतरने और वहां वीडियो बनाने या फोटो लेने पर रोक का कड़ाई से पालन किया जा रहा है। पर्यटक पहले इसी मार्ग के जरिये जारवा समुदाय के सदस्यों तक पहुंचते थे। उन्होंने कहा कि इस मार्ग पर जाने के लिए देशी और विदेशी पर्यटकों के लिए स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों को ले जाना अनिवार्य कर दिया गया है। गौरतलब है कि लंदन के अखबार श्आब्जर्वरश् ने पिछले महीने जनवरी में अर्धनग्न आदिवासी महिलाओं को नृत्य करते हुए दिखाने वाले वीडियो फुटेज जारी किये थे जिससे खासा विवाद पैदा हो गया था। इस प्रकरण के बाद जांच के आदेश दिये गये थे और स्थानीय पुलिस ने वीडियो फिल्माने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इस संबंध में कुछ लोगों की गिरफ्तारियां भी हुई हैं।


समयः
12%08