Hindi word processor
  विदेश सचिव रंजन मथाइर् की हिलेरी से मुलाकात
स्रोतः प्रभासाक्षी
स्थानः
वाशिंगटन
तिथिः
08 Qjojh 2012
 

   

भारतीय विदेश सचिव रंजन मथाई ने आज अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से मुलाकात की और कई द्विपक्षीयए क्षेत्रीय तथा वैश्विक मुद्दों पर विदेश विभाग एवं व्हाइट के अधिकारियों से सिलसिलेवार चर्चा की। समझा जाता है कि विदेश सचिव के तौर पर पहली बार अमेरिका यात्रा पर गये मथाई ने ईरान समेत व्यापक क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर भारत का दृष्टिकोण प्रस्तुत किया। उन्होंने तालिबान के साथ शांति वार्ता एवं क्षेत्र के हालात पर भी रुख व्यक्त किया। विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नुलैंड ने बताया कि मथाई के साथ हिलेरी क्लिंटन की मुलाकात का उद्देश्य यह स्पष्ट करना था कि हम इस सभी मुद्दों पर चर्चा का समर्थन करते हैं। नुलैंड ने कहा कि वह इस साल के आखिर में होने वाली अमेरिकाए भारत रणनीतिक वार्ता को लेकर आशान्वित हैं। बाद में राजनीतिक मामलों की सहायक विदेश मंत्री विंडी शरमैन ने मथाई के साथ बैठकों की मेजबानी की। मथाई ने राजनीतिक सैन्य मामलों के सहायक विदेश मंत्री एंड्रयू शापिरोए दक्षिण और मध्य एशिया मामलों के सहायक विदेश मंत्री राबर्ट ब्लैक तथा असैन्य सुरक्षाए लोकतंत्र व मानवाधिकार मामलों की सहायक विदेश मंत्री मारिया ओटेरो समेत विदेश विभाग के अन्य आला अधिकारियों से भी मुलाकात की। मथाई ने व्हाइट हाउस में भी अधिकारियों से विचार विमर्श किया। शाम को अमेरिका में भारतीय राजदूत निरूपमा राव ने भारत से आये शिष्टमंडल के लिए रात्रिभोज का आयोजन किया जिसमें विदेश विभाग के अधिकारियों ने शिरकत की। मथाई ने एक दिन पहले ही आतंकवाद से मुकाबले के समन्वयक डेनियल बेंजामिन से मुलाकात की थी। उन्होंने डॉ॰ शंभू एन बानिक के नेतृत्व में भारतीय अमेरिकी समुदाय के नेताओं के साथ भी बैठक की। बानिक ने विदेश सचिव से घंटे भर तक चली मुलाकात के बाद कहाए श्श्उनका प्राथमिक काम पाकिस्तान समेत सभी देशों से समानता के आधार पर बेहतर रिश्ते बनाना होगा।श्श् मुलाकात करने वाले अन्य भारतवंशी नेताओं में डॉ॰ टीवी जॉर्जए सन्नी वाईक्लिफए डॉ॰ पीसी नायर और डॉ॰ जॉय चेरियन रहे। मथाई ने 1981 से 1984 के बीच प्रथम सचिव के रूप में अमेरिका में अपने कार्यकाल के दौरान साथ में काम करने वाले नेताओं का गर्मजोशी से स्वागत किया। उस वक्त भारत के पूर्व राष्ट्रपति दिवंगत केआर नारायणन भारत के राजदूत थे। मथाई ने मुलाकात के दौरान वाशिंगटन में अपने दिनों को याद किया।


समयः
11%16