दुनिया-जहान
prabhasakshi.com

 

ख़बरें:   राजनीति  |  देश-प्रदेश  |  दुनिया-जहान  |  कारोबार  |  दुनिया खेलों की  |  बॉलीवुड-हॉलीवुड  |  दिलचस्प  |  व्रत-त्योहार  |  कार्टून   स्तंभः   कुलदीप नैयर  |  स्व. खुशवंत सिंह  |  राजनाथ सिंह 'सूर्य'  |  बालेन्दु शर्मा दाधीच

यूनिकोड फॉन्ट


भारतए पाक ने परमाणु हादसों संबंधी करार की अवधि बढ़ायी

प्रभासाक्षी
21 फरवरी 2012    नयी दिल्लीए इस्लामाबाद

भारत और पाकिस्तान ने आज परमाणु हथियार समझौते से जुड़े हादसों से उत्पन्न खतरों को कम करने संबंधी समझौते की अवधि को और पांच साल के लिए बढ़ाने की घोषणा की। दोनों देशों ने इस समझौते की अवधि को और पांच साल के लिए बढ़ाने का फैसला किया जिसका मकसद परमाणु हथियारों से जुड़े हादसों के खतरे को कम करना है। इस समझौते की अवधि सोमवार को समाप्त हो चुकी थी। इस्लामाबाद में 27 दिसंबर 2011 को दोनों पक्षों के बीच परमाणु विश्वास निर्माण उपायों पर हुई द्विपक्षीय विशेषज्ञ स्तरीय छह दौर की वार्ता के दौरान बनी सहमति के अनुसार यह फैसला लिया गया है। भारतीय गणतंत्र तथा पाकिस्तान इस्लामिक गणतंत्र के बीच हुए समझौते के अनुच्छेद आठ के अनुसार दोनों पक्ष और पांच साल की अवधि के लिए इस समझौते को विस्तार देने पर सहमत हुए हैं। विदेश मंत्रालय ने नयी दिल्ली में एक बयान में यह जानकारी दी। दोनों देशों के बीच यह समझौता 21 फरवरी 2007 को हुआ था। यह समझौता शुरुआती पांच साल की अवधि के लिए 21 फरवरी 2007 को प्रभाव में आया था। पाकिस्तान विदेश विभाग ने इस्लामाबाद में अलग से जारी एक बयान में कहा हैए श्श्इसका मकसद परमाणु हथियारों संबंधी हादसों से उत्पन्न खतरे को कम करना है।श्श् दिसंबर में हुई वार्ता के दौरान भारत और पाकिस्तान ने बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षणों की पूर्व अधिसूचना संबंधी समझौते तथा परमाणु हथियारों संबंधी हादसों के खतरे को कम करने संबंधी समझौते की अवधि बढ़ाने के प्रस्तावों पर आगे बढ़ने का फैसला किया था। इस बैठक में दोनों पक्षों ने मौजूदा परमाणु और पारंपरिक सीबीएम की विस्तार से समीक्षा की और उन क्षेत्रों में अतिरिक्त उपायों के प्रस्तावों पर विचार विमर्श किया जहां दोनों देश आगे कदम बढ़ा सकते हैं। इन वार्ताओं में दोनों देशों के नौसैन्य पोतों को लेकर श्श्समुद्र में घटनाओं को रोकनेश्श् संबंधी समझौते का प्रस्ताव भी आया। परमाणु तथा पारंपरिक सीबीएम पर चर्चा दोनों देशों के बीच दो साल के अंतराल के बाद पिछले साल शुरू हुई शांति वार्ता प्रक्रिया का हिस्सा है। वर्ष 2008 के मुंबई आतंकवादी हमलों के बाद यह शांति प्रक्रिया ठप पड़ गयी थी। इन हमलों के लिए पाकिस्तान स्थित लश्कर.ए.तय्यबा आतंकवादी संगठन को जिम्मेदार ठहराया गया था।


18:06

कृति फॉन्ट


;g vkys[k d`fr QkWUV esa miyC/k ugha   


   

;g vkys[k d`fr QkWUV esa miyC/k ugha