राष्ट्रीय

मोदी ने दिखाये डीडीएलजे जैसे सपने, निकला गब्बरः राहुल

मोदी ने दिखाये डीडीएलजे जैसे सपने, निकला गब्बरः राहुल

रायबरेली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज करते हुए कहा कि मोदी ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में देश के सामने ‘अच्छे दिन’ की बात कहने वाली ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ (डीडीएलजे) जैसी फिल्म दिखायी। लेकिन देश को नोटबंदी का दर्द दिया और हिन्दुस्तानियों के हाथों में ‘झाड़ू’ पकड़ा दी। राहुल ने रायबरेली शहर के जीआईसी मैदान में आयोजित रैली में कहा, ‘‘मोदी जहां भी जाते हैं, कुछ ना कुछ वादा करके आ जाते हैं। वर्ष 2014 में मोदी आये और देश के सामने एक पिक्चर बनायी। आपको शाहरख खान की फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे तो याद ही होगी। उसमें भी अच्छे दिन की बात थी। मोदी ने भी वैसी ही पिक्चर बनायी और कहा कि सबकुछ साफ हो जाएगा, हिन्दुस्तान चमकेगा। क्या ऐसा हुआ..नहीं, उल्टे ढाई साल बाद शोले का गब्बर आ गया।’’

 
राहुल के साथ उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा भी मंच पर नजर आयीं। इस बार विधानसभा चुनाव में वह पहली बार प्रचार के मैदान में उतरीं। हालांकि उन्होंने भाषण नहीं दिया। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘मोदी जहां जाते हैं, रिश्ता बनाते हैं। वाराणसी गये तो कहा कि गंगा मेरी मां है, मैं वाराणसी का बेटा हूं और कहा कि वाराणसी को बदल दूंगा, गंगा को साफ कर दूंगा। अरे मोदी जी..रिश्ता बताने से नहीं निभाने से बनता है। मीडिया जरा मोदी के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी का हाल देश की जनता को दिखाये।’’ केन्द्र की भाजपानीत सरकार के स्वच्छता अभियान पर तंज करते हुए कहा ‘‘मोदी ने कहा कि हिन्दुस्तान में बहुत कचरा है। सफाई करनी है। मैं अमेरिका जा रहा हूं ओबामा जी से मिलने। तुम लोग झाडू़ उठा लो। मैं वापस आउंगा तो रिपोर्ट कार्ड मांगूंगा। हो गयी सफाई, क्या हिन्दुस्तान साफ हो गया।’’
 
नोटबंदी के मुद्दे पर भी मोदी पर हमला करते हुए राहुल ने कहा, ‘‘मोदी जी आठ नवम्बर को खड़े होते हैं और कहते हैं कि माताओं-बहनों, कांग्रेस ने बहुत दबाव डाल दिया है। हम पर सूटबूट का इल्जाम लगा दिया है। अब मुझे एक नया आइडिया आया है। आपने जो थोड़ी-थोड़ी बचत की है, उसे मैं अब कागज में बदलना चाहता हूं। जाओ, सब बैंक के सामने लाइन में खड़े हो जाओ। फिर कहते हैं कि भ्रष्टाचार के खिलाफ मेरी लड़ाई है। बताइये कि क्या उस लाइन में कोई सूटबूट वाला खड़ा था।’’ प्रधानमंत्री पर काफी आक्रामक तेवर में नजर आ रहे कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि मोदी ने उद्योगपति विजय माल्या को 1200 करोड़ रुपये कर्ज की टाफी खिलायी। मोदी गरीब और मेहनतकश को कर्ज देने के बजाय ‘माल्या जैसे चोर’ को पैसा देते हैं। मोदी की सरकार हमें 50 हजार का कर्ज नहीं देती और माल्या जैसे लोगों की जेब में हजारों करोड़ रुपये डाल देती है।
 
उन्होंने कहा ‘‘माल्या हिन्दुस्तान में शराब बेचता है। जो शराब बेचता है उसे 10 हजार करोड़ और जो खून, पसीना और जिंदगी देता है, उसे मोदी पांच रुपये नहीं देते। उत्तर प्रदेश में सपा-कांग्रेस गठबंधन की सरकार होगी तो अपना कारोबार करने की इच्छुक हर महिला और उद्यमी को कर्ज दिया जाएगा।’’ राहुल ने कहा कि मोदी ने छह लाख करोड़ रुपये हिन्दुस्तान के 50 अमीरों को दे रखा है, अगर यह धन उत्तर प्रदेश के युवाओं को दिया होता, अगर किसानों की मदद की होती, तो कितना भला होता।
 
उत्तर प्रदेश की सत्ता में आने पर किसानों का कर्ज माफ करने के भाजपा के चुनावी वादे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘मैंने मोदी से किसानों की कर्जमाफी का आग्रह किया था लेकिन उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला। उत्तर प्रदेश में चुनाव आया तो कहते हैं कि यहां भाजपा की सरकार बनते ही मोदी किसानों का कर्ज माफ कर देगा। आपको याद होगा कि कांग्रेस ने 70 हजार करोड़ रुपये कर्ज माफ किया था। उस समय केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी।’’
 
राहुल ने कहा कि मोदी को अगर कर्ज ही माफ करना है तो वह 15 मिनट में ऐसा कर सकते हैं। मगर, वह तो सौदा करने आये हैं। किसान दब जाए या मर जाए, उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि वह यहां फूड पार्क लगाना चाहते थे। आज रायबरेली, अमेठी, सुलतानपुर और मोहनलालगंज का किसान मण्डी में सामान बेचता है। हम चाहते थे कि यहां का किसान सीधा फैक्ट्री में माल बेचे। अगर ऐसा होता तो अमेरिका में राष्ट्रपति पिपरमिंट खाते और उस पर मेड इन रायबरेली लिखा होता। राहुल ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री ने रायबरेली को फूड पार्क दिया होता तो कितना अच्छा होता। मगर उन्होंने युवाओं का रोजगार, उनका भविष्य छीना। उनसे आपको बदला लेना होगा। उन्होंने कहा कि मोदी ‘मेक इन इंडिया’ की बात करते हैं लेकिन उसकी कोई तैयारी नहीं है। आप उत्तर प्रदेश में सपा-कांग्रेस की युवाओं की सरकार लाइये। हम ‘मेड इन यूपी’ बनाएंगे। अमेठी का टमाटर, कन्नौज का इत्र, मिर्जापुर का कालीन, फिरोजाबाद का कांच, बाराबंकी का पिपरमिंट, इन सबको हम विदेश में पहचान दिलाएंगे।
 

सम्बंधित खबरें

खबरें

वीडियो