Prabhasakshi Logo
रविवार, अगस्त 20 2017 | समय 05:47 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageशरद यादव अपने बारे में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्रः नीतीशTicker Imageएनडीए का हिस्सा बना जदयू, अमित शाह ने किया स्वागतTicker Imageमुजफ्फरनगर के पास पटरी से उतरी उत्कल एक्सप्रेस, 6 मरे, 50 घायलTicker Imageटैरर फंडिंगः कश्मीरी कारोबारी को एनआईए हिरासत में भेजा गयाTicker Imageमहाराष्ट्र के सरकारी विभागों में भर्ती के लिए होगा पोर्टल का शुभारंभTicker Imageकॉल ड्रॉप को लेकर ट्राई सख्त, 10 लाख तक का जुर्माना लगेगाTicker Imageआरोपों से व्यथित, उचित समय पर जवाब दूंगा: नारायणमूर्तिTicker Imageबोर्ड ने सिक्का के इस्तीफे के लिए नारायणमूर्ति को जिम्मेदार ठहराया

राष्ट्रीय

भाजपा में UP CM पद की दौड़ में दिनेश शर्मा सबसे आगे

By नीरज कुमार दुबे | Publish Date: Feb 17 2017 10:41AM
भाजपा में UP CM पद की दौड़ में दिनेश शर्मा सबसे आगे

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा उत्तर प्रदेश में भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद का चेहरा हो सकते हैं। वर्तमान में लखनऊ के मेयर और एक कॉलेज में प्रोफेसर शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बेहद करीबी हैं। शर्मा प्रदेश की राजनीति में किसी गुट में नहीं बंधे हैं यही बात उनके पक्ष में जा रही है। विधानसभा चुनावों में भाजपा अपनी जीत के प्रति आश्वस्त नजर आ रही है और चूंकि वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ओबीसी वर्ग से हैं इसलिए मुख्यमंत्री पद पर सर्वण चेहरा पेश किया जा सकता है।

 
शर्मा की मोदी से करीबी उस समय उजागर हो गयी थी जब 2014 के लोकसभा चुनावों के तुरंत बाद उन्हें गुजरात में पार्टी का प्रभारी बना दिया गया था। यही नहीं अमित शाह ने जब बतौर अध्यक्ष पार्टी का सदस्यता अभियान शुरू किया तो उसकी जिम्मेदारी दिनेश शर्मा को ही सौंपी गयी थी। इस अभियान के तहत पार्टी ने दस करोड़ सदस्य बनाने की बात कहते हुए खुद के विश्व की सबसे ज्यादा सदस्यों वाली राजनीतिक पार्टी बनने का दावा किया था।
 
हनुमानजी के अनन्य भक्त शर्मा सौम्य स्वभाव के हैं और कोई विवाद भी उनके साथ नहीं जुड़ा है। वह दूसरी बार लखनऊ के मेयर हैं और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के लखनऊ का सांसद रहने के दौरान उनके साथ भी काम कर चुके हैं। पंडित दीनदयाल उपाध्याय के साथ शर्मा के पिताजी का काफी जुड़ाव रहा है इसलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी उनके नाम पर राजी बताया जा रहा है। पिछले साल दशहरा पर लखनऊ में प्रधानमंत्री का सफल कार्यक्रम कराने का श्रेय भी उन्हीं को गया था।
 
मुख्यमंत्री पद के लिए चल रहे नामों में केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्रा, स्मृति ईरानी और उमा भारती के अलावा गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ का नाम भी चल रहा है लेकिन पार्टी केंद्र से कोई नेता भेजने की बजाय स्थानीय नेता को ही तवज्जो देने के मूड में है।