Prabhasakshi
शनिवार, सितम्बर 23 2017 | समय 21:58 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageकांग्रेस ने दाऊद की पत्नी के मुंबई आने पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरणTicker Imageप्रवर्तन निदेशालय ने शब्बीर शाह के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कियाTicker Imageमोहाली में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां मृत मिलींTicker Imageमैटेरियल रिसर्च के लिये प्रोफेसर राव को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मानTicker Imageमस्जिद के बाहर विस्फोट, म्यामां सेना ने रोहिंग्याओं को जिम्मेदार ठहरायाTicker Imageसंयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगी विदेश मंत्री सुषमा स्वराजTicker Imageआर्थिक नीतियों पर संदेह करने वाले गलत साबित हुए: मनमोहन सिंहTicker Imageयूट्यूब द्वारा उ. कोरिया के सरकारी चैनल पर रोक

उद्योग जगत

नोटबंदी का प्रभाव मध्यम अवधि में समाप्त होगा: विश्वबैंक

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 5:49PM
नोटबंदी का प्रभाव मध्यम अवधि में समाप्त होगा: विश्वबैंक

वाशिंगटन। विश्वबैंक ने आज कहा कि भारत में नोटबंदी का ‘प्रतिकूल प्रभाव’ मध्यम अवधि में समाप्त हो जाएगा। विश्वबैंक ने कहा कि किसी भी सुधार को लेकर दिक्कतें अल्पकाल में ही देखने को मिलती हैं। विश्वबैंक में डेवलपमेंट प्रोस्पेक्ट्स ग्रुप के निदेशक अहान कोस ने कान्फ्रेंस कॉल के दौरान संवाददाताओं से कहा, ‘‘किसी भी सुधार को लेकर दिक्कतें अल्पकाल में होती हैं लेकिन अंतत: सुधारों से दीर्घकाल में लाभ होगा। भारत के इस मामले में हम उम्मीद करते हैं कि नोटों के बदलने के जो प्रतिकूल प्रभाव हैं, वे मध्यम अवधि में समाप्त हो जाएंगे।’’

 
विश्वबैंक ने अपनी ताजा रिपोर्ट में 2016-17 के लिये भारत की वृद्धि दर के अनुमान को संशोधित कर 7.0 प्रतिशत कर दिया है। पहले इसके 7.6 प्रतिशत रहने की बात कही गयी थी। हालांकि कोस के अनुसार विश्वबैंक का अनुमान है कि आर्थिक वृद्धि दर 2017-18 और 2018-19 में बढ़ेगी और इसे निजी खपत, बुनियादी ढांचा खर्च तथा निवेश वृद्धि में में तेजी लौटने से मदद मिलेगी। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘भारत पहले ही सुधारों की दिशा में कई कदम उठाया है। इन सुधारों से हमें उम्मीद है कि घरेलू आपूर्ति बाधा कम होगी और उत्पादकता बढ़ेगा तथा आने वाले वर्ष में मुद्रास्फीति में नरमी एवं सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि से वास्तविक आय तथा खपत को समर्थन मिलना चाहिए।’’