Prabhasakshi Logo
शुक्रवार, जुलाई 28 2017 | समय 08:01 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageलालू यादव ने कहा- नीतीश कुमार तो भस्मासुर निकलेTicker Imageबिहार में जो हुआ वो लोकतंत्र के लिये शुभ संकेत नहीं: मायावतीTicker Imageलोकसभा में राहुल गांधी ने आडवाणी के पास जाकर बातचीत कीTicker Imageप्रधानमंत्री ने रामेश्वरम में कलाम स्मारक का उद्घाटन कियाTicker Imageकेंद्र ने SC से कहा- निजता का अधिकार मूलभूत अधिकार नहींTicker Imageसंसद के दोनों सदनों में भाजपा का समर्थन करेंगे: जद (यू)Ticker Imageकर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एन धरम सिंह का निधनTicker Imageसरकार गौ रक्षकों के मसले पर चर्चा कराने को तैयार: अनंत

उद्योग जगत

नोटबंदी का प्रभाव मध्यम अवधि में समाप्त होगा: विश्वबैंक

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 5:49PM
नोटबंदी का प्रभाव मध्यम अवधि में समाप्त होगा: विश्वबैंक

वाशिंगटन। विश्वबैंक ने आज कहा कि भारत में नोटबंदी का ‘प्रतिकूल प्रभाव’ मध्यम अवधि में समाप्त हो जाएगा। विश्वबैंक ने कहा कि किसी भी सुधार को लेकर दिक्कतें अल्पकाल में ही देखने को मिलती हैं। विश्वबैंक में डेवलपमेंट प्रोस्पेक्ट्स ग्रुप के निदेशक अहान कोस ने कान्फ्रेंस कॉल के दौरान संवाददाताओं से कहा, ‘‘किसी भी सुधार को लेकर दिक्कतें अल्पकाल में होती हैं लेकिन अंतत: सुधारों से दीर्घकाल में लाभ होगा। भारत के इस मामले में हम उम्मीद करते हैं कि नोटों के बदलने के जो प्रतिकूल प्रभाव हैं, वे मध्यम अवधि में समाप्त हो जाएंगे।’’

 
विश्वबैंक ने अपनी ताजा रिपोर्ट में 2016-17 के लिये भारत की वृद्धि दर के अनुमान को संशोधित कर 7.0 प्रतिशत कर दिया है। पहले इसके 7.6 प्रतिशत रहने की बात कही गयी थी। हालांकि कोस के अनुसार विश्वबैंक का अनुमान है कि आर्थिक वृद्धि दर 2017-18 और 2018-19 में बढ़ेगी और इसे निजी खपत, बुनियादी ढांचा खर्च तथा निवेश वृद्धि में में तेजी लौटने से मदद मिलेगी। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘भारत पहले ही सुधारों की दिशा में कई कदम उठाया है। इन सुधारों से हमें उम्मीद है कि घरेलू आपूर्ति बाधा कम होगी और उत्पादकता बढ़ेगा तथा आने वाले वर्ष में मुद्रास्फीति में नरमी एवं सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि से वास्तविक आय तथा खपत को समर्थन मिलना चाहिए।’’