Prabhasakshi Logo
सोमवार, जुलाई 24 2017 | समय 18:25 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker ImageHPCL के शेयरों की बिक्री पर निगरानी रखने वाली समिति के प्रमुख होंगे जेटलीTicker Imageचीनी सीमा तक दूरी घटाने के लिए सुरंगें बनाएगा बीआरओTicker Imageचीन, पाक पर कोई भी भारत का खुलकर समर्थन नहीं कर रहा: ठाकरेTicker Imageसरकार ने यौन उत्पीड़न शिकायतों के लिए ‘शी बॉक्स’ पोर्टल शुरू कियाTicker Imageलोकसभा में बोफोर्स मामले पर हंगामा, सच्चाई सामने लाने की मांगTicker Imageसरकार गंगा कानून लाने पर कर रही है विचार: उमा भारतीTicker Imageट्रेनों में मिलने वाले खराब भोजन पर राज्यसभा में जतायी गयी चिंताTicker Imageईसी रिश्वत मामले के आरोपी ने हिरासत में हिंसा का आरोप लगाया
जुगनु सिर्फ प्रकाश ही नहीं देते, मधुर संगीत भी सुनाते हैं

जुगनु सिर्फ प्रकाश ही नहीं देते, मधुर संगीत भी सुनाते हैं

भारत में हिमालय की तलहटी में पाए जाने वाले कुछ जुगनु रंग-बिरंगी रोशनी के साथ ही मधुर संगीतमय आवाज भी निकालते हैं। आइए इस आलेख में जानते हैं विभिन्न जुगनुओं और उनकी खूबियों के बारे में-
मूर्ख बन्दर और बया का घोंसला (बाल कथा)

मूर्ख बन्दर और बया का घोंसला (बाल कथा)

जंगल में एक वृक्ष पर बहुत से पक्षी रहते थे। सबने बरसात का मौसम शुरू होने से पहले ही अपने−अपने घोंसलों की मरम्मत आदि करके उसमें दाना−पानी भर लिया था। जंगल के दूसरे जीवों ने भी वैसा ही इन्तजाम कर लिया था।
'स्वराज' का भाव हर देशवासी के मन में जगाया था तिलक ने

'स्वराज' का भाव हर देशवासी के मन में जगाया था तिलक ने

उन्होंने घोषित किया था कि, "स्वतंत्रता तो मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है"। जब तक यह भाव मेरे दिल में है मुझे कौन लांघ सकता है। मेरी इस भावना को काट नहीं सकते। अगर उसको भस्म नहीं कर सकती मेरी आत्मा अमर है।