Prabhasakshi
मंगलवार, दिसम्बर 12 2017 | समय 04:07 Hrs(IST)

स्तंभ

कश्मीर की अशांति के वास्तविक कारण समझने होंगे

By कुलदीप नैय्यर | Publish Date: May 17 2017 2:20PM
कश्मीर की अशांति के वास्तविक कारण समझने होंगे

कश्मीर में पत्थरबाजी पाकिस्तान के आदेश पर हो रही हो या यह कट्टरपंथियों की पुकार पर, वास्तविकता यही है कि घाटी अशांत है। कई स्कूल जला दिए गए और छात्रों को डर है कि वे अगर क्लास में गए तो उन्हें सजा दी जाएगी। कहा जाता है कि अलगाववादी पढ़ाई के बहिष्कार के आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं।

नतीजा यह हुआ है कि बाकी छात्रों के लिए परीक्षा की तैयारी और इसमें शामिल होना कठिन हो रहा है, जब कि देश के बाकी हिस्से में यह शांति से हो रहा है। अलगाववादियों को यह समझना चाहिए कि राजनीतिक आंदोलन छात्रों को असहाय न बनाए और उन्हें कष्ट में न धकेले। आंदोलन का परिणाम यह हुआ कि पर्यटकों की संख्या घट गई है। हालत ऐसी हो गई है कि सैयद अली शाह गिलानी ने पर्यटकों को किसी भी हाल में सुरक्षा देने का आश्वासन देने के लिए श्रीनगर की सड़कों पर जुलूस का नेतृत्व किया।
 
जो भी आश्वासन हो, पर्यटक कश्मीर के बदले दूसरे पर्यटन स्थलों को पसंद करने लगे हैं। पर्यटकों के नजरिए से तो इसका मतलब समझा जा सकता है, लेकिन इसके करण डल झील के शिकारा और नागिन बाग के ड़ोगांओं को काम नहीं मिल रहा है। एक साधारण कश्मीरी को भुगतना पड़ रहा है। वैसे भी राज्य की अर्थव्यवस्था को काफी चोट पहुंची है।
 
लगता है मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को हालात के बारे में कुछ पता नहीं है। वह कई बार कह चकुी हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही ऐसे व्यक्ति हैं जो कश्मीर के संकट का समाधान कर सकते हैं। शायद वह पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और केंद्र में शासन करने वाली भाजपा के बीच गठबंधन पर जोर दे रही हैं। नर्इ दिल्ली को इसका विश्लेषण करना चाहिए कि क्यों शब्बीर शाह जैसे भारत समर्थक ने खुद को आजादी का समर्थक बना लिया है। शायद, घाटी में उन्हें अपने काम को दिशा देने के लिए जगह नहीं मिल रही है जिसकी उन्हें सख्त जरूरत है। भाजपा का उनके जैसे लोगों के साथ कोर्इ संपर्क नहीं रहा है। यही बात यासिन मलिक के साथ है जो भारतीय संघ के भीतर कोर्इ समाधान चाहते थे। लेकिन नर्इ दिल्ली धारा 370 को इस हद तक खींच ले गई कि सत्ता नर्इ दिल्ली में केंद्रित होने लगी है।
 
उनकी उर्दू भाषा के प्रति नर्इ दिल्ली के सौतेले व्यवहार को लेकर भी कश्मारी काफी महसूस करते हैं। आमतौर पर यही माना जाता है कि उर्दू उपेक्षा में पड़ी है क्योंकि इसे मुसलमानों की भाषा समझा जाता है। अगर नर्इ दिल्ली उर्दू को अपना माने और प्रोत्साहित करे तो कश्मीरियों की नाराजगी का कम से कम एक कारण तो कम हो जाएगा। लोग आम तौर पर गरीब हैं और वे रोजगार चाहते हैं। उन्हें लगता है कि सिर्फ विकास जिसमें पर्यटन शामिल है, से ही रोजगार आ सकता है।
 
हाल तक, कश्मीरी नर्इ दिल्ली के विरोध में बंदूक उठाने के खिलाफ थे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह कश्मीर को सामान्य हालत में लौटने में मदद के लिए कुछ तरीके अमल में लाते रहे हैं। लेकिन, दुर्भाग्य से, कश्मीरियों में ऐसी भावना है कि उग्रवादी जो करने की कोशिश कर रहे हैं उससे उन्हें पहचान मिलती है। इसलिए उग्रवादियों का अंदर से कोर्इ विरोध नहीं होने की जो आलोचना है उसे लोगों के अलगाव का हिस्सा समझना चाहिए।
 
यह दुर्भाग्य की बात है कि नर्इ दिल्ली ने कुछ साल पहले कश्मीर में आई विनाशकारी बाढ़ के बाद जिस पैकेज की घोषणा की थी उसे अभी तक नहीं दिया है। मीडिया या राजनीतिक पार्टियों की ओर से इसकी कोर्इ आलोचना नहीं हुई। किसी नेता ने भी नहीं ध्यान नहीं दिलाया कि नर्इ दिल्ली वायदे से मुकर गई। इन सभी बातों का कश्मीर में यही अर्थ निकाला जाता है कि यह उपेक्षापूर्ण रवैए का चिन्ह है। मेरा अभी भी विश्वास है कि 1953 का समझौता, जिसने भारत को रक्षा, विदेशी मामलों और संचार पर नियंत्रण दिया है, से राज्य में स्थिति सुधर सकती है।
 
कश्मीरी नौजवान, जो राज्य की हैसियत और हालत के कारण गुस्से में है, को इस आश्वासन से जीता जा सकता है कि उनके लिए पूरा भारतीय बाजार व्यापार या सेवा के लिए खुला है। लेकिन सिर्फ इससे काम नहीं चलेगा। नर्इ दिल्ली को रक्षा, विदेशी मामलों और संचार को छोड़ कर बाकी क्षेत्रों से संबंधित सारे कानून वापस लेने होंगे। आर्म्ड फोसेर्से (स्पेशल पावर्स) एक्ट, जिसे असाधारण परिस्थितियों से निपटने के लिए 20 साल पहले जारी किया गया था, वह भी लागू है। अगर सरकार इसे वापस ले लेती तो यह एक तरफ काश्मीरियों को तसल्ली देता और सेना को भी ज्यादा जिम्मेदार बनाता।
 
महराजा हरि सिंह से छुटकारा पाने के लिए नेशनल कांफ्रेंस ने लंबी लड़ाई लड़ी़ और राज्य को सेकुलर और लोकतांत्रिक शासन देने के लिए उसके पास शेख अब्दुल्ला जैसी शख्सियत थे। लेकिन नर्इ दिल्ली से निकटता के कारण इसे विधान सभा चुनावों में पराजय का सामना करना पड़ा। पीडीपी इसलिए जीती कि इसके संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद ने नर्इ दिल्ली को बिना पराया बनाए इससे दूरी रखी।
 
कश्मीरियों ने पीडीपी को वोट दिया क्योंकि इसने उन्हें पहचान की एक भावना दी। उमर और फारूख अब्दुल्ला को नेशनल कांफ्रेंस के नर्इ दिल्ली समर्थक होने की छवि की कीमत देनी पड़ी। भारत के साथ कश्मीर का संबंध इतना करीबी है कि इसे एक सीमा से ज्यादा चुनौती नहीं दी जा सकती। फिर भी कितना भी छोटा विरोध क्यों न हो, यह कश्मीरियों को अप्रत्यक्ष संतुष्टि देता है।
 
लार्ड सायरिल रेडक्लिफ ने कश्मीर को कोर्इ महत्व नहीं दिया। वे लंदन में एक जज थे जिन्होंने भारत और पाकिस्तान को अलग देश बनाने के लिए विभाजन की रेखा खींची। उन्होंने कर्इ साल बाद मुझे दिए गए इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने कल्पना नहीं की थी कि कश्मीर इतना महत्वपूर्ण हो जाएगा जैसा वह अभी हो गया है। मैंने इसकी चर्चा कुछ साल पहले श्रीनगर में की थी जब मैं वहां एक उर्दू पत्रिका की पहली वर्षगांठ की अध्यक्षता कर रहा था। बिना किसी औपचारिकता के उर्दू को सभी राज्यों से बाहर कर दिया गया जिसमें पंजाब भी शामिल है जहां कुछ साल पहले तक वह मुख्य भाषा थी। वास्तव में, पाकिस्तान में इसे राष्ट्रभाषा बनाने के तुरंत बाद इस भाषा ने भारत में अपना महत्व खो दिया।
 
सामान्य अवस्था में होना मन की एक स्थिति है। कश्मीरियों को यह महसूस करना चाहिए कि उनकी पहचान खतरे में नहीं है और नर्इ दिल्ली इसका महत्व समझे कि कश्मीरियों की क्या इच्छा है। नर्इ दिल्ली को यह समझना है कि भारत से दूर होने की कश्मीरियों की इच्छा को नर्इ दिल्ली से श्रीनगर को किसी तरह का साथर्क सत्ता−हस्तांतरण न समझा जाए। लेकिन फिर भी कश्मीरी अपना शासन खुद चला रहे हैं ऐसी धारणा किसी भी कीमत पर बनाए रखनी है। 
 
- कुलदीप नैय्यर