Prabhasakshi
रविवार, सितम्बर 24 2017 | समय 19:43 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageसाल की ये यात्रा देशवासियों की, भावनाओं की, अनुभूति की एक यात्रा है ‘मन की बात’Ticker Imageआठ शीर्ष कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 54,539 करोड़ रुपये घटाTicker Imageहमने IIT, IIM, AIIMS बनाये और पाक ने आतंकी बनायेः सुषमाTicker Imageकांग्रेस ने दाऊद की पत्नी के मुंबई आने पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरणTicker Imageप्रवर्तन निदेशालय ने शब्बीर शाह के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कियाTicker Imageमोहाली में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां मृत मिलींTicker Imageमैटेरियल रिसर्च के लिये प्रोफेसर राव को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मानTicker Imageमस्जिद के बाहर विस्फोट, म्यामां सेना ने रोहिंग्याओं को जिम्मेदार ठहराया

समसामयिक

टूरिस्ट सीजन में कश्मीर के बिगड़े हालात से चिंता बढ़ी

By सुरेश एस डुग्गर | Publish Date: Apr 21 2017 1:00PM
टूरिस्ट सीजन में कश्मीर के बिगड़े हालात से चिंता बढ़ी

पिछले डेढ़ महीने से कश्मीर में हिंसा में आई तेजी के बाद अधिकारियों की चिंता अमरनाथ यात्रा को लेकर बढ़ने लगी है। यह चिंता इसलिए भी है क्योंकि सीमा पार से मिले संदेश भी कहते हैं कि पाकिस्तान की कोशिश इस बार अमरनाथ यात्रा में जबरदस्त खलल डालने की होगी जिसकी खातिर बीसियों आतंकियों को भी वह इस ओर धकेलने में कामयाब हुआ है।

इस बीच ऐसे में जबकि कश्मीर में टूरिस्टों का इंतजार सभी को हो रहा है, कश्मीर पुलिस यह कह कर सभी को डराने में जुटी है कि सेना एलओसी से होने वाली घुसपैठ को रोकने में नाकाम साबित हो रही है। पुलिस ने यह भी दावा किया है कि पिछले तीन महीनों में दो दर्जन से आतंकी बरास्ता एलओसी कश्मीर में घुसने में कामयाब रहे हैं।
 
आंकड़ों पर एक नजर दौड़ाएं तो पिछले डेढ़ महीने के भीतर आतंकी करीब तीन दर्जन हमलों को अंजाम दे चुके हैं। पांच लोगों को भी मौत के घाट उतारा जा चुका है तथा आठ हथगोलों के हमले भी हो चुके हैं। पत्थरबाज भी कश्मीर को उबाल पर रखे हुए हैं।
 
आतंकी हमलों में तेजी ऐसे समय में आई है जबकि राज्य सरकार अमरनाथ यात्रा की तैयारियों में जुटी हुई है। अभी तक राज्य में शांति के लौटने के दावे करने वाली राज्य की गठबंधन सरकार अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा के प्रति बेफिक्र थी लेकिन आतंकी हमलों में आई अचानक और जबरदस्त तेजी ने उसके पांव तले से जमीन खिसका दी है।
 
नतीजतन केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी राज्य सरकार की मदद को आगे आना पड़ा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के कई अधिकारी पिछले कई दिनों से राज्य में डेरा डाले हुए हैं और उनके द्वारा कई सूचनाओं को कश्मीर पुलिस के साथ साझा करने के बाद कश्मीर पुलिस ने यात्रियों की सुरक्षा की खातिर थ्री टियर सुरक्षा व्यवस्था आरंभ कर दी है।
 
जानकारी के मुताबिक, आतंकी बेस कैम्पों पर हमलों की योजनाओं को अंजाम दे सकते हैं जिनको रोकने की खातिर जम्मू स्थित बेस कैम्प की सुरक्षा का जिम्मा कमांडो के हवाले करने की तैयारी की जा रही है तथा भगवती नगर स्थित बेस कैम्प के साथ सटे निक्की तवी के एरिया में तलाशी अभियानों के लिए सेना की मदद इसलिए ली जा रही है क्योंकि कई बार इस इलाके से हथियार और गोला बारूद बरामद किया जा चुका है। यह इलाका घुसपैठियों का खास रहा है।
 
दूसरी ओर जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्रालय को भिजवाई गई पुलिस की रिपोर्ट कहती है कि कश्मीर के तीन सेक्टरों से- केरण, उड़ी और गुरेज- करीब दो दर्जन आतंकियों ने घुसपैठ करने में कामयाबी हासिल की है।
 
हालांकि कश्मीर पुलिस की रिपोर्ट तीन महीनों में दो दर्जन से अधिक आतंकियों के घुसने का दावा करती है तो कश्मीर पुलिस के अधिकारी 15 से 16 के घुसने की पुष्टि करते हुए कहते थे कि यह डाटा विभिन्न तरीकों से जुटाया जाता है। पर सेना प्रवक्ता ऐसी किसी जानकारी और डाटा के प्रति इंकार करते हुए कहते थे कि फिलहाल वे इस रिपोर्ट की प्रति का इंतजार कर रहे हैं।
 
ऐसे में हालत यह है कि आतंकियों की घुसपैठ और उन्हें रोकने में पाई जाने वाली नाकामी के दावों के बीच कश्मीर आने वाले खौफजदा होने लगे हैं। दरअसल यह मुद्दा ऐसे समय में उठा है जबकि कश्मीर में टूरिस्ट सीजन आरंभ होने वाला है। पर पुलिस के नए दावों से टूरिज्म इंडस्ट्री पर नया खतरा मंडराने लगा है। इसे टूरिज्म से जुड़े लोग भी मानने लगे हैं। जिनका कहना था कि पुलिस और सेना की यह लड़ाई अगर यूं ही चली तो कश्मीर में इस बार का पर्यटन सीजन आरंभ ही नहीं हो पाएगा।
 
- सुरेश एस डुग्गर