1. सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स देखकर फिर कहेंगे- सचिन, सचिन

    सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स देखकर फिर कहेंगे- सचिन, सचिन

    फिल्म में मनोरंजन के नाम पर चालू मसाला परोसने की बजाय एक साधारण बच्चे को अपनी लगन, कड़ी मेहनत, धैर्य के साथ सचिन तेंदुलकर बनते दिखाया गया है।

  2. 'हॉफ गर्लफ्रेंड' में दर्शकों को मिलेगा हॉफ मनोरंजन

    'हॉफ गर्लफ्रेंड' में दर्शकों को मिलेगा हॉफ मनोरंजन

    फिल्म चेतन भगत की किताब ''हाफ गर्लफ्रेंड'' पर आधारित है। निर्देशक मोहित सूरी ने चेतन की कहानी को पर्दे पर उतारने में पहले हाफ पर ज्यादा मेहनत की है क्योंकि दूसरे हाफ में दर्शक बोर होते दिखे।

  3. 'हिंदी मीडियम' में इरफान का शानदार अभिनय, दमदार कहानी

    'हिंदी मीडियम' में इरफान का शानदार अभिनय, दमदार कहानी

    साकेत चौधरी ने यह साबित करने की कोशिश की है कि अगर दमदार और अच्छी स्क्रिप्ट हो तो वह एक ऐसी फिल्म बनाने का दम भी रखते हैं जो दर्शकों की हर क्लास की कसौटी पर खरा उतरने का दम रखती हो।

  4. सरकार 3 में भव्यता पर ज्यादा ध्यान, कहानी में दम नहीं

    सरकार 3 में भव्यता पर ज्यादा ध्यान, कहानी में दम नहीं

    अमिताभ बच्चन की उपस्थिति वाली फिल्म भी यदि दर्शकों को निराश करे तो इसमें ज्यादा खामी निर्देशक और पटकथा लेखक की ही मानी जायेगी।

  5. मेरी प्यारी बिंदु में सिर्फ परिणीति ही याद रहती हैं

    मेरी प्यारी बिंदु में सिर्फ परिणीति ही याद रहती हैं

    दूसरे भाग में जाकर कहानी कुछ ट्रैक पर आती है। फिल्म की खास बात यह है कि इसमें अभिनेत्री परिणति चोपड़ा ने अभिनय करने के साथ-साथ गाने भी गाये हैं। गीतों का फिल्मांकन मन को भाता है।

  6. ''बाहुबली-2'' भारतीय सिनेमा की सबसे ऊँची उड़ान

    ''बाहुबली-2'' भारतीय सिनेमा की सबसे ऊँची उड़ान

    यदि आपने पहली फिल्म देखी है तो उसके अन्य रहस्य भी इस फिल्म को देखने के बाद आपको समझ आ जाएंगे। यदि आपने पहली फिल्म नहीं देखी है तो अच्छा होगा कि बाहुबली-2 देखने से पहले उसे देख लें।

  7. नूर में सोनाक्षी सिन्हा नहीं दिखा पायीं कोई ''नूर''

    नूर में सोनाक्षी सिन्हा नहीं दिखा पायीं कोई ''नूर''

    ऐसा नहीं है कि बॉलीवुड में बनने वाली नायिका प्रधान फिल्में नहीं चलतीं दरअसल सोनाक्षी से फिल्म के चयन में गड़बड़ियां हो रही हैं जिससे वह लंबे अर्से से एक अदद हिट की तलाश में हैं।

  8. मातृ में रवीना टंडन ने अपने अभिनय को फिर साबित किया

    मातृ में रवीना टंडन ने अपने अभिनय को फिर साबित किया

    फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि एक बार विद्या (रवीना) और उसकी बेटी टीया रास्ता भटक जाते हैं और अपूर्व मलिक (मधुर मित्तल) के घर पहुंच जाती हैं जो एक बड़े राजनेता का बिगड़ैल बेटा है।

  9. बेगम जान में विद्या बालन का शानदार अभिनय

    बेगम जान में विद्या बालन का शानदार अभिनय

    भारत-पाक विभाजन की पृष्ठभूमि पर आधारित इस कहानी में बोल्डनेस बहुत ज्यादा है और कहानी की मांग के चलते बोल्ड दृश्यों पर ज्यादा कैंची चलाने से सेंसर बोर्ड भी बचा है।

  10. लाली की शादी में लड्डू दीवानाः दूर ही रहें इस शादी से

    लाली की शादी में लड्डू दीवानाः दूर ही रहें इस शादी से

    सभी कलाकारों ने इतनी ओवर एक्टिंग की है कि गर्मी के मौसम में दर्शकों का गुस्सा और बढ़ जायेगा। वैसे तमाम तरह के विवादों में आई इस फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं है जोकि विवादित हो।

  11. लीक से हट कर बनी फिल्म है मुक्ति भवन

    लीक से हट कर बनी फिल्म है मुक्ति भवन

    इस फिल्म का और प्रचार किया जाता तो अच्छा रहता। फिल्म को जो हल्की ओपनिंग मिली है वह दर्शाती है कि आज भी लीक से हटकर बनी फिल्मों को दर्शकों के लिए तरसना पड़ता है।

  12. 'नाम शबाना' में सिर्फ तापसी पन्नू ही कमाल दिखा सकीं

    'नाम शबाना' में सिर्फ तापसी पन्नू ही कमाल दिखा सकीं

    फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि शबाना खान (तापसी पन्नू) बचपन से ही घर में अपने माता-पिता को झगड़ते हुए देख रही है। उसके माता-पिता की हालांकि लव मैरिज है।

वीडियो