राष्ट्रीय

एमजीपी ने गोवा सरकार से समर्थन वापस लिया

एमजीपी ने गोवा सरकार से समर्थन वापस लिया

पणजी। महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी (एमजीपी) ने गठबंधन सहयोगियों के बीच गंभीर मतभेदों के चलते हाल ही में गोवा कैबिनेट से अपने दो मंत्रियों को बर्खास्त कर दिये जाने के बाद आज भाजपा नीत राज्य सरकार से आज अपना समर्थन वापस ले लिया। एमजीपी अध्यक्ष दीपक धवलीकर ने गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को दिए एक पत्र में कहा कि उनके तीन विधायक लक्ष्मीकांत पारसेकर सरकार से अपना समर्थन वापस ले रहे हैं।

 
समर्थन वापसी के कारण भाजपा नीत सरकार के पास 23 विधायकों का समर्थन रह गया है। इसमें भाजपा के 21 और दो निर्दलीय विधायक हैं। धवलीकर ने पत्र में कहा, ‘‘मैं आपके सामने यह तथ्य प्रस्तुत करना चाहता हूं कि हमारी पार्टी ने गोवा विधानसभा 2012 के चुनाव के लिए चुनाव पूर्व गठबंधन किया था और पार्टी ने एक प्रस्ताव पारित किया था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘चुनाव परिणामों के मुताबिक, भाजपा-एमजीपी सरकार ने प्रशासन का कार्यभार संभाल लिया और विभन्न मुद्दों पर मतभेदों के बावजूद हमारा सहयोग जारी रहा। इन मतभेदों के चलते हाल में कैबिनेट से एमजीपी विधायकों को हटा दिया गया।’’
 
उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग द्वारा 2017 के विधानसभा की घोषणा होने पर एमजीपी की केन्द्रीय समिति अब तत्काल प्रभाव से भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ने के अपने निर्णय की पुष्टि करती है। एमजीपी ने अब भाजपा के साथ रिश्ता तोड़ने का निर्णय लिया है। चुनाव वाले राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ नाराजगी जताए जाने के बाद पिछले महीने एमजीपी नेता दीपक और सुदीप धवलीकर को कैबिनेट से बर्खास्त कर दिया गया था।
 

खबरें