1. एड्स से बचाव ही एड्स का सबसे बेहतर इलाज

    एड्स से बचाव ही एड्स का सबसे बेहतर इलाज

    अधिकतर एड्स के मरीजों को सर्दी, जुकाम या विषाणु बुखार हो जाता है पर इससे एड्स होने का पता नहीं लगाया जा सकता। एच.आई.वी. वायरस का संक्रमण होने के बाद उसका शरीर में धीरे धीरे फैलना शुरू होता है।

  2. भागदौड़ भरे युग में महामारी बनती जा रही है अनिद्रा

    भागदौड़ भरे युग में महामारी बनती जा रही है अनिद्रा

    अनिद्रा आजकल एक महामारी की तरह फैलती जा रही है। एक अनुमान के मुताबिक आज विश्व में हर पांचवां व्यक्ति अनिद्रा का शिकार है। अनिद्रा का अर्थ है नीद में व्यवधान, नींद उचटना या कम नींद आना।

  3. बलवर्धक रसायन अश्वगंधा क्षय रोग में भी है लाभकारी

    बलवर्धक रसायन अश्वगंधा क्षय रोग में भी है लाभकारी

    अश्वगंधा मुख्यतः एक बलवर्धक रसायन है सभी प्रकार के जीर्ण रोगों और क्षय रोग आदि के लिए इसे उपयुक्त माना गया है। इसके लिए अश्वगंधा पाक का प्रयोग किया जा सकता है।

  4. चश्मे का नंबर बार बार बदलना मधुमेह का लक्षण

    चश्मे का नंबर बार बार बदलना मधुमेह का लक्षण

    मधुमेह के रोगी के चश्मे का नंबर बार−बार बदलता रहता है क्योंकि इस रोग के कारण आंखों के लैंस की फोकस करने की क्षमता बिगड़ जाती है। चश्मे का नंबर बार−बार बदलना, मधुमेह का एक प्रमुख लक्षण है।

  5. कम्प्यूटर ने सिरदर्द दिया तो क्या! योग से मिलेगी राहत

    कम्प्यूटर ने सिरदर्द दिया तो क्या! योग से मिलेगी राहत

    टेक्नोलॉजी के विस्तार ने भले ही आपकी जिंदगी को आसान बना दिया हो लेकिन दिनभर कंप्यूटर पर बैठे रहने की आदत ने आपको सिरदर्द तोहफे में दिया है।

  6. हृदय को उचित पोषण मिलता है सदा हरित अर्जुन से

    हृदय को उचित पोषण मिलता है सदा हरित अर्जुन से

    अर्जुन से रक्तवाही नलिकाओं का संकुचन होता है। सूक्ष्म कोशिकाओं तथा छोटी धमनियों पर विशेष रूप से इसके प्रभाव से रक्त मिश्रण क्रिया बढ़ती है। इससे हृदय को उचित पोषण मिलता है।

  7. पटाखों में होता है खतरनाक रसायनों का उपयोग

    पटाखों में होता है खतरनाक रसायनों का उपयोग

    पटाखों में जिन रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है वह बेहद खतरनाक है। कॉपर, कैडियम, लेड, मैग्नेशियम, सोडियम, जिंक, नाइट्रेट और नाइट्राइट जैसे रसायन का मिश्रण पटाखों को घातक बना देते हैं।

  8. सर्दियों में भी खूब पीयें पानी तो रहेंगे स्वस्थ

    सर्दियों में भी खूब पीयें पानी तो रहेंगे स्वस्थ

    जल ही जीवन है। मनुष्य का शरीर जिन तत्वों से बना है, उसमें जल मुख्य घटक है। अगर शरीर में जल की मात्रा कम हो जाए, तो मनुष्य का जीवन खतरे में पड़ जाता है।

  9. प्राकृतिक तरीकों से करें डायबिटीज को कंट्रोल

    प्राकृतिक तरीकों से करें डायबिटीज को कंट्रोल

    सिर्फ वयस्क या उम्रदराज ही नहीं, बल्कि छोटे बच्चे व गर्भवती महिलाएं भी इसकी चपेट में आ चुकी हैं। ऐसे में डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए अक्सर लोग दवाईयों या इंसुलिन का सहारा लेते हैं।

  10. सेहत और सौंदर्य के लिए बेहद फायदेमंद है आंवला

    सेहत और सौंदर्य के लिए बेहद फायदेमंद है आंवला

    आपने अक्सर लोगों को कहते हुए सुना होगा कि आंवला सेहत के लिए बहुत लाभकारी है। लेकिन क्या आपको पता है कि यह आपकी सेहत से लेकर सौंदर्य तक हर पहलू में आपके काफी काम आ सकता है।

  11. आयुर्वेद के जरिये बच्चों को पेट के कीड़ों से मुक्ति दिलाएँ

    आयुर्वेद के जरिये बच्चों को पेट के कीड़ों से मुक्ति दिलाएँ

    पेट में कीड़ों के कारण बच्चे के पेट में दर्द होता है। कभी बच्चे की भूख मर जाती है कभी उसका पेट साफ नहीं होता। कभी−कभी सर्दी−बुखार और टांसिल्स की शिकायत भी हो जाती है।

  12. दिल्ली में बिकने वाली सब्जियां स्वास्थ्यवर्धक नहीं

    दिल्ली में बिकने वाली सब्जियां स्वास्थ्यवर्धक नहीं

    कभी दिल्ली के लोगों की प्यास बुझाने वाली यमुना आज इतनी प्रदूषित हो चुकी है कि इस नदी के किनारे उगले वाली सब्जियों तक पर इसके जहरीले पानी का असर हो रहा है। एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

वीडियो