Prabhasakshi Logo
बुधवार, अगस्त 23 2017 | समय 21:06 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageदो हजार रुपये के नोट पर प्रतिबंध लगाने का विचार नहीं: जेटलीTicker Imageबैंकों के एकीकरण के लिए वैकल्पिक व्यवस्था बनाएगी सरकारTicker Imageराणे को शामिल करने से पहले उनका रिकॉर्ड पढ़ ले भाजपाः शिवसेनाTicker Imageओबीसी में क्रीमी लेयर की वार्षिक आय सीमा 8 लाख रुपये की गयीTicker Imageभ्रष्टाचार मामले में विजयन को आरोपमुक्त किये जाने का फैसला बरकरारTicker Imageडेरा प्रमुख के खिलाफ फैसला आने से पहले पंजाब और हरियाणा में अलर्टTicker Imageरूपा ने कहा, जेल के नजदीक विधायक के घर गयी थी शशिकलाTicker Imageरिजर्व बैंक 200 रुपये का नोट जारी करेगा: वित्त मंत्रालय

अंतर्राष्ट्रीय

नए परमाणु रिएक्टर बनाने की योजनाओं को खत्म करेगा दक्षिण कोरिया

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jun 19 2017 1:28PM
नए परमाणु रिएक्टर बनाने की योजनाओं को खत्म करेगा दक्षिण कोरिया

सोल। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने आज परमाणु रिएक्टर निर्मित करने की सभी योजनाओं को खत्म कर देश को एशिया की परमाणु क्षमताओं से रहित चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने का संकल्प लिया। मून ने परमाणु ऊर्जा को चरणबद्ध तरीके से खत्म करने का अभियान चलाया और सौर एवं पवन ऊर्जा जैसे पर्यावरण के अनुकूल एवं अधिक सुरक्षित स्रोतों को अपनाने की बात कही। मार्च 2011 में आए भीषण भूकंप के दौरान जापान के फुकुशिमा परमाणु संयंत्र के हादसे से दक्षिण कोरिया के लोगों में उसके अपने परमाणु संयंत्रों को लेकर चिंता उत्पन्न हो गई थी।

 
मून ने कहा, 'हम अपनी सभी परमाणु केंद्रित ऊर्जा आपूर्ति को खत्म कर और परमाणु रहित युग के लिए अपना दरवाजा खोलेंगे।' उन्होंने कहा, 'मैं नए परमाणु रिएक्टर निर्मित करने की सभी परियोजनाओं को खत्म कर दूंगा और वर्तमान रिएक्टरों के जीवनकाल को भी और नहीं बढ़ाया जाएगा।' मून ने कहा कि कई रिएक्टर खतरनाक रूप से घनी आबादी वाले आवासीय इलाके के समीप स्थित हैं और परमाणु के पिघलने पर इससे अकल्पनीय परिणामों को सामना करना पड़ सकता है।
 
उन्होंने कहा, 'दक्षिण कोरिया भूकंप के खतरे से सुरक्षित नहीं है और भूकंप से होने वाली परमाणु दुर्घटना का विनाशकारी प्रभाव होगा।' दक्षिण कोरिया फिलहाल 25 परमाणु संयंत्रों का संचालन करता है, जो देश की ऊर्जा आपूर्ति का लगभग 30 प्रतिशत निर्माण करता है। सरकारी परमाणु ऊर्जा एजेंसियों में हाल ही के वर्षों में हुए प्रमुख भ्रष्टाचार, घोटालों और पिछले साल आए सिलसिलेवार भूकंप से प्लांट की सुरक्षा पर सार्वजनिक अविश्वास एवं चिंता उत्पन्न हुई है।