Prabhasakshi Logo
गुरुवार, जुलाई 27 2017 | समय 07:57 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageनीतीश ने भाजपा के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश कियाTicker Imageभाजपा ने दिया नीतीश को समर्थन, नीतीश ने मोदी को कहा शुक्रियाTicker Imageगुजरात से राज्यसभा चुनाव लड़ेंगे अमित शाह, स्मृति को भी मिला टिकटTicker Imageप्रधानमंत्री ने नीतीश को भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने पर बधाई दीTicker Imageनीतीश ने इस्तीफा दिया, बिहार की राजनीति में बड़ा भूचालTicker ImageNitish Kumar resigns as Bihar Chief MinisterTicker Imageस्नैपडील निदेशक मंडल ने फ्लिपकार्ट से सौदे पर शेयरधारकों से राय मांगीTicker Imageयोगी को नहीं चलाना आ रहा शासन, सीबीआई से ना डराएंः अखिलेश

अंतर्राष्ट्रीय

अल-कायदा ने वीडियो में स्विस बंधक को जिंदा दिखाया

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 12:44PM
अल-कायदा ने वीडियो में स्विस बंधक को जिंदा दिखाया

वाशिंगटन। उत्तरी अफ्रीका में अल-कायदा के सहयोगी एक गुट ने स्विटजरलैंड की मिशनरी के जिंदा होने के सबूत के रूप में एक नया वीडियो जारी किया है। स्विस मिशनरी बीट्रिस स्टोकली पिछले साल जनवरी से माली में इस आतंकी संगठन की बंधक हैं। अमेरिका स्थित निगरानी समूह एसआईटीई के अनुसार ‘अल-कायदा इन द इस्लामिक मघरेब’ (एक्यूआईएम) गुट का दो मिनट 17 सेकेंड का वीडियो सोशल मीडिया साइट टेलीग्राम और ट्विटर पर मंगलवार को पोस्ट किया गया था।

 
इस वीडियो क्लिप में एक महिला दिख रही है जिसका सिर काले लबादे से ढका हुआ है। उसने अपनी पहचान स्टोकली के रूप में बताते हुए कहा कि इस वीडियो के रिकॉर्डिंग की तारीख 31 दिसंबर 2016 है और वह 360 दिन से एक्यूआईएम की बंधक है। वीडियो में स्टोकली फ्रेंच में बोल रही थीं और वीडियो में उनकी आवाज मुश्किल से ही सुनी जा सकती है। उनका चेहरा धुंधला कर दिया गया है। स्टोकली ने वीडियो में अपने माता-पिता का अभिवादन किया और स्विस सरकार को ‘‘उसके द्वारा किए गए प्रयासों के लिए’’ धन्यवाद कहा। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा स्वास्थ्य ठीक है।’’
 
पिछले साल जनवरी 2016 में एक्यूआईएम ने एक वीडियो में स्टोकली के अपहरण की जिम्मेदारी लेते हुए कहा था कि स्विस मिशनरी का अपहरण सात जनवरी को किया गया। आतंकी समूह ने स्टोकली को छोड़ने के बदले माली के जेल में बंद एक्यूआईएम के लड़ाकों को और द हेग में गिरफ्तार हुए एक नेता को छोड़ने की भी मांग की थी। स्विट्जरलैंड ने बिना किसी शर्त के स्टोकली की रिहाई की मांग की है। स्टॉकली (40 वर्षीय) ईसाई मिशनरी हैं।