Prabhasakshi
रविवार, सितम्बर 24 2017 | समय 19:36 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageसाल की ये यात्रा देशवासियों की, भावनाओं की, अनुभूति की एक यात्रा है ‘मन की बात’Ticker Imageआठ शीर्ष कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 54,539 करोड़ रुपये घटाTicker Imageहमने IIT, IIM, AIIMS बनाये और पाक ने आतंकी बनायेः सुषमाTicker Imageकांग्रेस ने दाऊद की पत्नी के मुंबई आने पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरणTicker Imageप्रवर्तन निदेशालय ने शब्बीर शाह के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कियाTicker Imageमोहाली में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां मृत मिलींTicker Imageमैटेरियल रिसर्च के लिये प्रोफेसर राव को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मानTicker Imageमस्जिद के बाहर विस्फोट, म्यामां सेना ने रोहिंग्याओं को जिम्मेदार ठहराया

अंतर्राष्ट्रीय

अमेरिका, भारत के रक्षा संबंध सही मार्ग पर हैं: कार्टर

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 12:49PM
अमेरिका, भारत के रक्षा संबंध सही मार्ग पर हैं: कार्टर

वाशिंगटन। अमेरिका के निवर्तमान रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर ने आज कहा कि भारत एवं अमेरिका के रक्षा संबंध सही मार्ग पर हैं और दोनों देश तकनीक के आदान प्रदान और सह निर्माण के माध्यम से इस साझेदारी को विकसित करने के तरीकों पर चर्चा कर रहे हैं। कार्टर ने पेंटागन में बतौर रक्षा मंत्री अपने अंतिम संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम सही मार्ग पर हैं। यह केवल इन कदमों को उठाने की बात है और कई माध्यमों से हमारा सहयोग मजबूत हो रहा है। मेरा मतलब है, इसमें कई प्रकार की गतिविधियां शामिल हैं।’’

 
कार्टर ने पिछले वर्षों में अमेरिका एवं भारत के संबंधों को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाई है और पिछले कुछ वर्षों में उन्होंने विश्व के दो बड़े लोकतांत्रिक देशों के बीच संबंधों को बहुत प्रोत्साहित किया है। उन्होंने पिछली गर्मियों में भारत को अमेरिका का एक अहम रक्षा साझेदार घोषित किए जाने में मुख्य भूमिका निभाई थी। कार्टर ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ''मेरा मानना है कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की सोच भी मेरी एवं अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा की तरह ही है। हमारा नई तकनीक के लिए रक्षा संबंधों को विकसित करने की ओर झुकाव रहा है जिसके लिए प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आदान प्रदान, सह निर्माण एवं अन्य बातें शामिल हैं।’’
 
उन्होंने कहा, ‘‘हमारी कई परियोजनाएं हैं। मैं कुछ समय पहले नयी दिल्ली में था और मैंने इन सभी पर चर्चा की। उनके पूरा होने की अपनी तय योजना एवं एक प्रकार की तकनीकी समय सीमा है।’’ कार्टर ने कहा, ''मैंने कई बार कहा है कि दोनों समाजों की प्रकृति, हमारे साझे मूल्यों और हमारे लोगों के बीच मानवीय संबंधों के कारण इन संबंधों का भविष्य में आगे बढ़ना तय है।’’