Prabhasakshi Logo
मंगलवार, जुलाई 25 2017 | समय 20:30 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageकांग्रेस के भारी हंगामे के कारण लोकसभा में गतिरोध कायमTicker Imageराजस्थान के जालोर, सिरोही में बाढ़ हालत में सुधार नहींTicker Imageदिल्ली-एनसीआर में टमाटर की कीमत 100 रुपये प्रति किलोTicker Imageमोदी ने कोविंद को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने पर दी बधाईTicker Imageप्रसिद्ध वैज्ञानिक और शिक्षाविद प्रो. यश पाल का निधनTicker Imageदेश की सफलता का मंत्र उसकी विविधताः राष्ट्रपतिTicker Imageसीरियाई विद्रोहियों को सहायता देना फिजूलखर्च था: ट्रंपTicker Imageश्रीनगर-मुजफ्फराबाद मार्ग पर एलओसी पार व्यापार पर लगी रोक

अंतर्राष्ट्रीय

शांति एवं प्रगति के लिए सबसे बड़ी ताकत है कूटनीति: हिलेरी

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 4:11PM
शांति एवं प्रगति के लिए सबसे बड़ी ताकत है कूटनीति: हिलेरी

वाशिंगटन। अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने आज कहा कि लोकतंत्र, स्वतंत्रता एवं कानून के शासन पर विश्व भर में हमला हो रहा है और ऐसे में शांति, समृद्धि एवं प्रगति के लिए कूटनीति दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी ताकतों में से एक है। हिलेरी ने विदेश मंत्रालय के फॉगी बॉटम मुख्यालय में आयोजित अमेरिकी डिप्लोमेटिक सेंटर पवेलियन के उद्घाटन समारोह में पूर्व विदेश मंत्रियों के साथ शिरकत की।

 
उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में नवंबर 2016 में आश्चर्यजनक रूप से हार झेलने के बाद अपने दुर्लभ जनसभा संबोधन में कहा, ‘‘कूटनीति शांति, समृद्धि एवं प्रगति के लिए विश्व में अब तक ज्ञात सबसे प्रभावी ताकतों में से एक है।’’ उन्होंने इस अवसर पर कहा, ‘‘लोकतंत्र, स्वतंत्रता एवं कानून के शासन पर विश्व भर में हमला हो रहा है। बढ़ती निरंकुशता एवं संकुचित सोच द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के दौर की उस नींव को खतरा पैदा कर रही हैं जो अमेरिकी दूतों से स्थापित की है और उन्होंने मार्शल एवं अचेसन के समय से जिसकी रक्षा की है।’’
 
इस बीच अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने कहा कि अमेरिकी नेतृत्व की दुनिया को आज भी ना केवल आवश्यकता है बल्कि इसका व्यापक स्तर पर स्वागत किया जाता है। यह बात सुनिश्चित करके अमेरिकी दूतों ने वास्तव में एक असाधारण कहानी लिखी है जो आगामी पीढ़ियों के लिए मिसाल साबित होगी। अमेरिकी कूटनीति की कहानी व्यापक रूप से अलग पृष्ठभूमियों के लोगों की शांति एवं फलदायी तरीके से काम करने की क्षमता को लेकर आशावाद की एक बहुत अलग एवं बहुत ऊंची सोच को प्रतिबिंबित करती है। उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि यह विदेश में भी हो सकता है। क्यों? क्योंकि हमने यहां अपने घर में यह किया है और किसी भी अन्य देश ने विभिन्न पृष्ठभूमियों, विविध महत्वाकांक्षाओं एवं उम्मीदों वाले इतने लोगों को गले नहीं लगाया है, जैसा कि अमेरिका ने किया है। यही बात हमें दुनिया से अलग करती है।’’