Prabhasakshi Logo
सोमवार, जुलाई 24 2017 | समय 18:23 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker ImageHPCL के शेयरों की बिक्री पर निगरानी रखने वाली समिति के प्रमुख होंगे जेटलीTicker Imageचीनी सीमा तक दूरी घटाने के लिए सुरंगें बनाएगा बीआरओTicker Imageचीन, पाक पर कोई भी भारत का खुलकर समर्थन नहीं कर रहा: ठाकरेTicker Imageसरकार ने यौन उत्पीड़न शिकायतों के लिए ‘शी बॉक्स’ पोर्टल शुरू कियाTicker Imageलोकसभा में बोफोर्स मामले पर हंगामा, सच्चाई सामने लाने की मांगTicker Imageसरकार गंगा कानून लाने पर कर रही है विचार: उमा भारतीTicker Imageट्रेनों में मिलने वाले खराब भोजन पर राज्यसभा में जतायी गयी चिंताTicker Imageईसी रिश्वत मामले के आरोपी ने हिरासत में हिंसा का आरोप लगाया

अंतर्राष्ट्रीय

चीनी सेना ने सौ बैलिस्टिक मिसाइल के साथ अभ्यास किया

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 4:12PM
चीनी सेना ने सौ बैलिस्टिक मिसाइल के साथ अभ्यास किया

बीजिंग। चीन की नवगठित रॉकेट फोर्स ने पिछले वर्ष सौ बैलिस्टिक मिसाइल लांच किए जबकि सेना ने दर्जनों अभ्यास किए। यह जानकारी सरकारी मीडिया ने दी है। सरकारी अखबार चाइना डेली ने खबर दी है कि 23 लाख सैनिकों वाली दुनिया की सबसे बड़ी सेना पीएलए की हर लड़ाकू शाखा- सेना, नौसेना, वायुसेना और रॉकेट फोर्स ने पुष्टि की है कि चीन के राष्ट्रपति ची शिनफिंग द्वारा पिछले वर्ष शुरू किए गए सेना सुधार पहल के तहत प्रशिक्षण कौशल और अभ्यास में तेजी लाई गई है।

 
अखबार ने एक बड़े लेख में बताया है कि किस तरह चीन की सेना खुद को बदल रही है। खबर में कहा गया है, ‘‘सेना ने सौ से ज्यादा अभ्यास में शामिल होने के लिए 15 ब्रिगेड भेजे, वायुसेना ने पश्चिमी प्रशांत महासागर और दक्षिण चीन सागर में कम से कम छह बड़े अभ्यास किए, रॉकेट फोर्स ने 20 से ज्यादा बड़े अभ्यास किए और करीब 100 बैलिस्टिक मिसाइल लांच किया।’’ इसने कहा, ‘‘नौसेना ने तीन बड़े अभ्यास किए जिसमें इसके तीन फ्लीट के सैनिकों ने बड़ी संख्या में हिस्सा लिया।’’ इसके अलावा इसके पहले विमानवाहक पोत लियानिंग ने पहला युद्धाभ्यास किया। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘वायुसेना को वाई-20 सामरिक परिवहन विमान मिलने शुरू हो गए हैं, जे-20 लड़ाकू विमान का उत्पादन शुरू हो गया है। वायुसेना के लिए अगली पीढ़ी के विमानवर्षक जहाज विकसित किए गए हैं और जल्द ही इसका प्रदर्शन किया जाएगा।’’ चीन जहां नयी पीढ़ी के लड़ाकू विमान का विकास कर रहा है फिर भी यह इंजन के लिए रूस पर आश्रित है जो बड़ा प्रौद्योगिकी साझीदार है।