Prabhasakshi
बुधवार, सितम्बर 27 2017 | समय 03:16 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageनिर्मला ने की अमेरिकी रक्षामंत्री से बात, अफगान में सैनिक नहीं भेजेगा भारतTicker Imageयोगी सरकार ने बीएचयू प्रकरण की न्यायिक जांच के दिये आदेशTicker Imageगुजरात में हमारी सरकार बनी तो दिल्ली के आदेशों से नहीं चलेगीः राहुलTicker Imageमोदी-राजनाथ कश्मीर में शांति के लिए कदम उठा रहेः महबूबाTicker Imageप्रशांत शिविर से शरणार्थियों का पहला समूह अमेरिका के लिये रवानाTicker Imageफिलिपीन: राष्ट्रपति के घर के निकट हुई गोलीबारीTicker Imageमारुति वैगन आर की बिक्री 20 लाख आंकड़े के पारTicker Imageयरूशलम के चर्च में कोंकणी भजन पट्टिका का अनावरण

अंतर्राष्ट्रीय

सिंधु जल आयोग बैठक में भारत-पाक ने की मुद्दों पर चर्चा

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Mar 20 2017 5:40PM
सिंधु जल आयोग बैठक में भारत-पाक ने की मुद्दों पर चर्चा

इस्लामाबाद। भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों ने स्थायी सिंधु जल आयोग (पीआईसी) की आज से यहां शुरू हो रही दो दिवसीय बैठक में सिंधु बेसिन से संबंधित परेशानियों के बारे में चर्चा की। पाकिस्तान के जल एवं ऊर्जा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा, ‘‘बातचीत आज आरंभ हुई जो दोनों देशों के संबंधों के लिए अच्छा है।’’ सिंधु जल आयुक्त पीके सक्सेना की अगुवाई में 10 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल बैठक में हिस्सा लेने के लिए रविवार को यहां पहुंचा। इस प्रतिनिधिमंडल में विदेश मंत्रालय के अधिकारी और तकनीकी विशेषज्ञ शामिल हैं।

 
बंद कमरे में हुई बातचीत में पाकिस्तानी पक्ष का नेतृत्व मिर्जा सईद ने किया। बैठक के दौरान पाकिस्तान ने अपनी तरफ बहने वाली नदियों पर बन रही तीन भारतीय पनबिजली परियोजनाओं के बारे में चिंताएं प्रकट की। पाकिस्तानी पक्ष का नेतृत्व सिंधु जल आयुक्त मिर्जा आसिफ सईद करेंगे और उनके साथ जल और ऊर्जा मंत्रालय के अधिकारी तथा अन्य विशेषज्ञ भी मौजूद रहेंगे। पाकिस्तान ने जिन परियोजनाओं का मुद्दा उठाया है वे हैं चेनाब पर 1000 मेगावॉट की पाकुल डल परियोजना, मियार नाला पर 120 मेगावॉट की मियार परियोजना और लोअर कलनाई नाला पर 43 मेगावॉट की लोअर कलनाई जल विद्युत परियोजना। पाकिस्तान की दलील है कि ये परियोजनाएं 1960 में हुए सिंधु जल समझौते का उल्लंघन करती हैं। आज की बैठक स्थायी सिंधु जल आयोग का 113वां सत्र है। आयोग की स्थापना 1960 में हुई थी। इससे पहले आयोग की बैठक 2015 में हुई थी। हालांकि एक अन्य बैठक सितंबर 2016 में होनी थी लेकिन उरी आतंकी हमले के बाद उपजे तनाव के चलते उसे रद्द कर दिया गया था।