Prabhasakshi
बुधवार, सितम्बर 27 2017 | समय 03:23 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageनिर्मला ने की अमेरिकी रक्षामंत्री से बात, अफगान में सैनिक नहीं भेजेगा भारतTicker Imageयोगी सरकार ने बीएचयू प्रकरण की न्यायिक जांच के दिये आदेशTicker Imageगुजरात में हमारी सरकार बनी तो दिल्ली के आदेशों से नहीं चलेगीः राहुलTicker Imageमोदी-राजनाथ कश्मीर में शांति के लिए कदम उठा रहेः महबूबाTicker Imageप्रशांत शिविर से शरणार्थियों का पहला समूह अमेरिका के लिये रवानाTicker Imageफिलिपीन: राष्ट्रपति के घर के निकट हुई गोलीबारीTicker Imageमारुति वैगन आर की बिक्री 20 लाख आंकड़े के पारTicker Imageयरूशलम के चर्च में कोंकणी भजन पट्टिका का अनावरण
हिंदी ने अपना दर्द कुछ इस तरह सुनाया (कविता)

हिंदी ने अपना दर्द कुछ इस तरह सुनाया (कविता)

युवा रचनाकार सनुज कुमार की कविता में जानिये किस प्रकार हम सिर्फ हिंदी दिवस पर ही अपनी मातृभाषा के प्रति गंभीर नजर आते हैं और बाकी दिन हमारे दिलोदिमाग पर अंग्रेजी ही हावी रहती है।
आधुनिक काल की मीराबाई भी कहा जाता है महादेवी वर्मा को

आधुनिक काल की मीराबाई भी कहा जाता है महादेवी वर्मा को

प्रख्यात कवयित्री महादेवी वर्मा की गिनती हिंदी कविता के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभ सुमित्रानंदन पंत, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकांत त्रिपाठी निराला के साथ की जाती है।
डिजीटल शौचालयः सुविधा से मुसीबत तक (व्यंग्य)

डिजीटल शौचालयः सुविधा से मुसीबत तक (व्यंग्य)

भारत की हमारी महान सरकार ने तय कर लिया है कि वो हर चीज को डिजीटल करके रहेगी। वैसे तो ये जमाना ही कम्प्यूटर का है। राशन हो या दूध, रुपये पैसे हों या कोई प्रमाण पत्र।