Prabhasakshi
रविवार, फरवरी 25 2018 | समय 21:04 Hrs(IST)
ताज़ा खबर

कहानी/कविता

(राजनीतिक हालात पर कविता) तुमसे ही सवाल क्यूँ?

By शालिनी तिवारी | Publish Date: Apr 10 2017 11:46AM
(राजनीतिक हालात पर कविता) तुमसे ही सवाल क्यूँ?
Image Source: Google

जय जवान जय किसान 

दोनों आज बेहाल हैं
एक सीमा पर खड़ा है
दूजा खेत में डटा है
अन्न और रक्षा से ही
देश आज भी खड़ा है
देश के जवानों की 
वेतन इतनी कम है क्यूँ ?
अन्नदाता आत्महत्या और 
भुखमरी का शिकार क्यूँ ?
सबका साथ सबका विकास
इसका उल्टा दिखता क्यूँ ?
फिर तुम मुझसे क्यूँ पूछते हो
तुमसे ही सवाल क्यूँ .....?
 
यह तो गर्व का विषय है
हिन्द नौजवान है
आज दशा देखकर 
सत्ता से सवाल है
पीएम साहब कहते हो कि
मै तो पहरेदार हूँ
पढ़ लिखकर नौजवान 
ज्यादातर बेरोजगार क्यूँ ?
तुम तो कहते हो कि ये
गरीबों की सरकार है
फिर गरीब अमीर में दूरियाँ
लगातार बढ़ रही हैं क्यूँ ?
फिर तुम मुझसे क्यूँ पूछते हो
तुमसे ही सवाल क्यूँ .....?
 
अन्ना जी के आन्दोलन की
रोज दुहाई देते थे
लोकपाल के तरफदार बन
खुद को गाँधीवादी कहते थे
सत्ता में जब आऊँगा तो
जन लोकपाल बनाऊँगा
हिन्दुस्तान के हर खाते में
पन्द्रह लाख भेजवाऊँगा
बीत चले इन तीन बरस में
तुम अपने वादे भूल गए
ललित मोदी और माल्या पर
कार्यवाही क्यूँ न कर पाए तुम ?
फिर तुम मुझसे क्यूँ पूछते हो
तुमसे ही सवाल क्यूँ .....?
 
लोकतंत्र का चौथा खम्भा
भी अब बिकता दिख रहा है
सस्ती लोकप्रियता पर आज
सत्ता का सिरमौर खड़ा है
मै तो छोटी कलमकार हूँ
सच पर मरने वाली हूँ
कलम प्रथा की मर्यादा को
कायम रखनें वाली हूँ
नहीं चाहिए वाह मुझे इन
चोरों और लुटेरों से
गर तुम कर न सकते हो तो
जुम्लेबाजी करते क्यूँ ?
फिर तुम मुझसे क्यूँ पूछते हो
तुमसे ही सवाल क्यूँ .....?
 
- शालिनी तिवारी