Prabhasakshi Logo
रविवार, अगस्त 20 2017 | समय 05:38 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageशरद यादव अपने बारे में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्रः नीतीशTicker Imageएनडीए का हिस्सा बना जदयू, अमित शाह ने किया स्वागतTicker Imageमुजफ्फरनगर के पास पटरी से उतरी उत्कल एक्सप्रेस, 6 मरे, 50 घायलTicker Imageटैरर फंडिंगः कश्मीरी कारोबारी को एनआईए हिरासत में भेजा गयाTicker Imageमहाराष्ट्र के सरकारी विभागों में भर्ती के लिए होगा पोर्टल का शुभारंभTicker Imageकॉल ड्रॉप को लेकर ट्राई सख्त, 10 लाख तक का जुर्माना लगेगाTicker Imageआरोपों से व्यथित, उचित समय पर जवाब दूंगा: नारायणमूर्तिTicker Imageबोर्ड ने सिक्का के इस्तीफे के लिए नारायणमूर्ति को जिम्मेदार ठहराया

राष्ट्रीय

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में 60 बच्चों की मौत

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Aug 12 2017 10:33AM
गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में 60 बच्चों की मौत

गोरखपुर (लखनऊ)। गोरखपुर स्थित बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में बीते तीन दिनों में 30 बच्चों की मौत हो गयी। यह जानकारी जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने दी। उन्होंने हालांकि मौतों की वजह नहीं बतायी। इस घटना पर विपक्षी दलों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे की मांग की है। रौतेला ने पिछले दो दिन में हुई मौतौं का ब्यौरा देते हुए बताया कि 'नियो नेटल वार्ड' में 17 बच्चों की मौत हुई जबकि 'एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिन्ड्रोम यानी एईएस' वार्ड में पांच तथा जनरल वार्ड में आठ बच्चों की मृत्यु हुई। उन्होंने बताया कि मध्यरात्रि से अब तक नियो नेटल वार्ड में तीन, एईएस वार्ड में दो और जनरल वार्ड में दो बच्चों की मौत हुई। शेष 23 मौतें नौ अगस्त की मध्यरात्रि से यानी दस अगस्त मध्यरात्रि के बीच हुईं। इस सवाल पर कि क्या ये मौतें आक्सीजन की कमी की वजह से हुईं, रौतेला ने कहा कि उन्हें मेडिकल कालेज के डाक्टरों ने स्पष्ट रूप से बताया है कि आक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई। इस बीच लखनऊ में राज्य सरकार के प्रवक्ता ने कुछ समाचार चैनलों पर प्रसारित इन खबरों को 'भ्रामक' बताया कि आक्सीजन की कमी से ये मौतें हुई हैं। प्रवक्ता ने स्पष्ट किया, 'गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में आक्सीजन की कमी के कारण किसी रोगी की मृत्यु नहीं हुई है।' 

उन्होंने कहा, 'आक्सीजन की कमी से पिछले कुछ घण्टों में मेडिकल कालेज में भर्ती कई रोगियों की मृत्यु हो जाने के सम्बन्ध में कतिपय समाचार चैनलों में प्रसारित समाचार भ्रामक हैं।' प्रवक्ता ने बताया कि इस समय गोरखपुर के जिलाधिकारी मेडिकल कालेज में मौजूद हैं और स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि बच्चों की मौत अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार इस बात का पता लगाने के लिए जांच समिति का गठन करेगी कि कहीं कोई लापरवाही तो नहीं हुई है। अगर कोई दोषी पाया गया तो उसे जवाबदेह बनाया जाएगा। सात अगस्त से अब तक हुई मौतों का ब्यौरा देते हुए सिंह ने बताया कि मेडिकल कालेज के पीडियाट्रिक विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इस अवधि में 60 बच्चों की विभिन्न रोगों से मृत्यु हुई है। सिंह ने भी कहा कि आक्सीजन की कमी से मौतें नहीं हुई हैं। उधर रौतेला ने बताया कि मेडिकल कालेज में लिक्विड आक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए पड़ोस के संत कबीर नगर जिले से वैकल्पिक व्यवस्था की गयी थी। उन्होंने बताया कि इस समय 50 आक्सीजन सिलिण्डर हैं और जल्द ही सौ से डेढ़ सौ और सिलिण्डर पहुंच रहे हैं। इस सवाल पर कि क्या आक्सीजन आपूर्ति करने वाली फर्म ने लगभग 70 लाख रूपये बकाये का भुगतान ना किये जाने पर आपूर्ति रोक दी थी, उन्होंने कहा कि अस्पताल को आक्सीजन आपूर्ति करने के लिए कंपनी को आंशिक भुगतान कर दिया गया था। रौतेला ने बताया कि मौतों की वजह का पता लगाया जा रहा है और दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि असल वजह जानने के लिए घटना की मजिस्ट्रेट से जांच कराने का आदेश दिया गया है। रिपोर्ट शाम तक आने की उम्मीद है। यह घटना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर दौरे के दो दिन बाद घटी है। प्रदेश की बागडोर संभालने के साथ ही योगी चिकित्सा और शिक्षा क्षेत्रों की स्थिति सुधारने पर जोर देते आये हैं। अप्रैल में योगी सरकार ने ऐलान किया था कि उसने राज्य में छह एम्स और 25 नये मेडिकल कालेज खोलने के लिए काम चालू कर दिया है। भाजपा ने विधानसभा चुनाव से पहले जारी लोक कल्याण संकल्प पत्र में यह वायदा किया था।
 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने बच्चों की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि इससे राज्य सरकार की संवेदनहीनता का पता चलता है। उन्होंने कहा कि इन मौतों के लिए प्रदेश सरकार पूरी तरह जिम्मेदार है। राज बब्बर ने कहा कि कल स्वयं मुख्यमंत्री गोरखपुर सहित महराजगंज जनपद के दौरे पर थे। गोरखपुर मेडिकल कालेज की कमियों के बारे में उन्हें बखूबी जानकारी है। 'जब पूरे पूर्वांचल के मरीज विशेष तौर से इंसेफेलाइटिस से पीडि़त बच्चों का इलाज मेडिकल कालेज में चल रहा था और इंसेफेलाइटिस से ग्रसित बच्चों में इजाफा ऐसे समय में ही होता है तो जानकारी होने के बावजूद आक्सीजन की कमी कैसे हो सकती है?' उन्होंने मांग की कि इस भयानक त्रासदी के लिए जिम्मेदार प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री को तत्काल नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने मृतकों के परिजनों को बीस-बीस लाख रूपये आर्थिक मुआवजा प्रदान करने की मांग की। बब्बर ने मुख्यमंत्री से मांग की कि अविलम्ब गोरखपुर मेडिकल कालेज सहित उत्तर प्रदेश के तमाम अस्पतालों की रिपोर्ट मंगाकर अस्पतालों की जरूरत की चीजों को उपलब्ध कराते हुए उत्तर प्रदेश की जनता को ऐसी त्रासदी की पुनरावृत्ति से रोकने हेतु प्रभावी कदम उठायें जाएं ताकि निर्दोष जनता की जान बचायी जा सके। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इस प्रकरण में कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए और मृतक बच्चों के परिजनों को बीस..बीस लाख रूपये मुआवजा मिलना चाहिए।