Prabhasakshi
शुक्रवार, जनवरी 19 2018 | समय 05:27 Hrs(IST)

राष्ट्रीय

मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को कहा 'नीच', राहुल गांधी ने कहा माफी मांगें

By rajnikant@prabhasakshi.com | Publish Date: Dec 7 2017 6:27PM
मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को कहा 'नीच', राहुल गांधी ने कहा माफी मांगें
नयी दिल्ली। कांग्रेस ने अपनी ही पार्टी के एक वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ की गई अभद्र टिप्पणी को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि इसके लिए अय्यर को सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए। पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि वह अय्यर के इस ‘‘लहजे और भाषा’’ को पसंद नहीं करते। अय्यर ने प्रधानमंत्री मोदी के संविधान निर्माता डा. बी आर अंबेडकर के बारे में एक बयान पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा, ‘‘ये आदमी बहुत नीच किस्म का आदमी है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?’’ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल ने अय्यर की टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि वह एवं कांग्रेस, दोनों उम्मीद करते हैं कि अय्यर इस टिप्पणी के लिए माफी मांगेंगे।
 
राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘भाजपा एवं प्रधानमंत्री कांग्रेस पार्टी पर हमला करने के लिए नियमित तौर पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हैं। कांग्रेस की अलग संस्कृति और विरासत है। प्रधानमंत्री को संबोधित करने के लिए श्री मणिशंकर अय्यर द्वारा इस्तेमाल किये गये लहजे और  मैं पसंद नहीं करता हूं। कांग्रेस और मैं, दोनों उनसे यह उम्मीद करते हैं कि उन्होंने जो कुछ कहा, उसके लिए वह माफी मांगेंगे।’’ कांग्रेस के प्रवक्ता अजय कुमार ने भी अय्यर की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया पूछे जाने पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘ पार्टी उनके इस बयान का पूरी तरह से खंडन करती है और उन्हें इसके लिए सार्वजनिक माफी मांगनी चाहिए।’’
 
उन्होंने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को हमेशा यह निर्देश देते रहे हैं कि किसी भी तरह से अपशब्दों तथा अभद्र एवं गलत भाषा का प्रयोग नहीं किया जाए। उन्होंने भाजपा के कुछ प्रवक्ताओं के नाम लेते हुए कहा कि वे भले ही जितने भी नीचे गिरकर बयान दें, कांग्रेस नेताओं एवं प्रवक्ताओं ने हमेशा अपने बयानों में एक उच्च स्तर को बकरार रखा है। अजय कुमार ने कहा कि वह प्रधानमंत्री को संविधान निर्माता बी आर अंबेडकर की पुण्यतिथि के अवसर पर देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बारे में ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए जो तथ्यों (इतिहास) आंकड़ों के विरूद्ध हो।
 
उन्होंने कहा कि नेहरू ने न केवल अंबेडकर को अपनी सरकार में कानून मंत्री बनाया बल्कि लोकसभा चुनाव हारने के बाद उन्हें राज्यसभा के माध्यम से संसद में भेजा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इस प्रकार तथ्यों को ‘‘तोड़-मरोड़कर’’ पेश नहीं करना चाहिए। राजधानी में बी आर अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय केंद्र के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने आज नेहरू-गांधी परिवार पर परोक्ष निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के जाने के बरसों बाद तक राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान को मिटाने के प्रयास किए जाते रहे लेकिन जिस ‘परिवार’ के लिए ये सब किया गया, उस परिवार से कहीं ज्यादा लोग आज बाबा साहेब से प्रभावित हैं। राहुल गांधी पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा कि आजकल कुछ लोगों को ‘बाबा साहब’ नहीं बल्कि ‘बाबा भोले’ याद आ रहे हैं। प्रधामनंत्री के इसी बयान को लेकर अय्यर ने यह विवादास्पद टिप्पणी की है।