Prabhasakshi
शुक्रवार, जनवरी 19 2018 | समय 05:18 Hrs(IST)

राष्ट्रीय

प्रधानमंत्री को देश के बारे में ज्यादा चिंता करनी चाहिए: सिब्बल

By anand@prabhasakshi.com | Publish Date: Dec 7 2017 11:57AM
प्रधानमंत्री को देश के बारे में ज्यादा चिंता करनी चाहिए: सिब्बल

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देश के समक्ष प्राथमिकताओं के बारे में ज्यादा चिंता करनी चाहिए, बजाय इसके कि अदालत में कौन किसका प्रतिनिधित्व कर रहा है। उन्होंने दावा किया कि अयोध्या मामले में उन्होंने सुन्नी वक्फ बोर्ड का कभी प्रतिनिधित्व नहीं किया। मोदी को दिए जवाब में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने उनसे सार्वजनिक रूप से कुछ कहने से पहले तथ्यों की जांच कर लेने को कहा। सिब्बल ने कहा, ‘‘मुझे पता चला कि प्रधानमंत्री और अमित शाह ने कहा है कि मैंने उच्चतम न्यायालय में सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व किया लेकिन अयोध्या मामले में मैंने सुन्नी वक्फ बोर्ड का कभी प्रतिनिधित्व नहीं किया। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह बेहतर होता कि प्रधानमंत्री ज्यादा सावधान रहते और सार्वजनिक रूप से कुछ कहने से पहले तथ्यों की जांच कर लेते। मैंने न्यायालय में उनके विभाजनकारी एजेंडा के बारे में जो कहा, उसे उन्होंने एक ही दिन में सही साबित कर दिया।’’ गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने सुन्नी वक्फ बोर्ड और अन्य की यह अपील खारिज कर दी कि राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद स्थल के मालिकाना हक संबंधी विवाद की सुनवाई अगले आम चुनाव के बाद जुलाई 2019 में की जाए। न्यायालय ने मामले की सुनवाई के लिए अगले साल आठ फरवरी की तारीख तय की।

सिब्बल ने कहा कि न्यायालय में वह किसका प्रतिनिधित्व करते हैं, इस बारे में चिंता करने की बजाय प्रधानमंत्री को देश और अपने गृह राज्य गुजरात के समक्ष मौजूद समस्याओं के बारे में चिंतित होना चाहिए। उन्होंने कहा नोटबंदी के फैसले और जीएसटी को लागू किए जाने से गंभीर समस्याएं पैदा हो रही हैं। इसके अलावा नौकरियों, शिक्षा और स्वासथ्य के अभाव को लेकर भाजपा के खिलाफ युवा आंदोलन कर रहे हैं। सिब्बल ने कहा, ‘‘हम देश को आगे ले जाना चाहते हैं लेकिन वे इसे पीछे ले जाना चाहते हैं। हम समाज को एकजुट करना चाहते हैं लेकिन वे इसे बांटना चाहते हैं।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या वह चाहते हैं कि मंदिर बनना चाहिए, सिब्बल ने कहा कि ऐसा होना भगवान राम और न्यायालय पर निर्भर है, ना कि नरेन्द्र मोदी पर। उन्होंने कहा, ''ईश्वर और भगवान राम में हमारी आस्था है, मोदी में नहीं। जब भगवान चाहेंगे और अदालतें फैसला करेंगी तभी अयोध्या में राम मंदिर बनेगा, ना कि मोदी के चाहने पर।’’ गौरतलब है कि मोदी ने अयोध्या मामले की सुनवाई टालने की मांग करने को लेकर सिब्बल को गुजरात में चुनाव प्रचार करने के दौरान आज आड़े हाथ लिया। उन्होंने हैरानगी जताई कि क्या ऐसे मुद्दे को राजनीतिक नफा नुकसान के लिए अनसुलझा रखा जाना चाहिए।

मोदी ने अहमदाबाद में एक रैली में कहा कि आप चाहते हैं कि चुनाव के नाम पर राम मंदिर मुद्दा की सुनवाई रोक दी जाए। उन्होंने कहा कि अब वह समझ रहे हैं कि कांग्रेस ने कई मुद्दों को अनसुलझा क्यों रखा।  मोदी ने कांग्रेस से पूछा, ‘‘क्या वक्फ बोर्ड चुनाव लड़ता है? देश में चुनाव कांग्रेस पार्टी लड़ा करती है। आप चुनावों में राजनीतिक नफा -नुकसान के लिए मुद्दों को अनसुलझा रखना चाहते हैं।'