Prabhasakshi
बुधवार, सितम्बर 27 2017 | समय 03:26 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageनिर्मला ने की अमेरिकी रक्षामंत्री से बात, अफगान में सैनिक नहीं भेजेगा भारतTicker Imageयोगी सरकार ने बीएचयू प्रकरण की न्यायिक जांच के दिये आदेशTicker Imageगुजरात में हमारी सरकार बनी तो दिल्ली के आदेशों से नहीं चलेगीः राहुलTicker Imageमोदी-राजनाथ कश्मीर में शांति के लिए कदम उठा रहेः महबूबाTicker Imageप्रशांत शिविर से शरणार्थियों का पहला समूह अमेरिका के लिये रवानाTicker Imageफिलिपीन: राष्ट्रपति के घर के निकट हुई गोलीबारीTicker Imageमारुति वैगन आर की बिक्री 20 लाख आंकड़े के पारTicker Imageयरूशलम के चर्च में कोंकणी भजन पट्टिका का अनावरण

राष्ट्रीय

इस बार भी वोट डालने लखनऊ नहीं जाएंगे वाजपेयी

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Feb 17 2017 3:14PM
इस बार भी वोट डालने लखनऊ नहीं जाएंगे वाजपेयी

लखनऊ। मतदाता जागरूकता के लिये चुनाव आयोग के तमाम प्रयासों के बावजूद लखनऊ मध्य सीट से ‘वोटर संख्या 141’ इस बार भी अपना मत नहीं डाल पाएंगे। यह वोटर और कोई नहीं, बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री ‘भारत रत्न’ अटल बिहारी वाजपेयी हैं। लखनऊ से लगातार पांच दफा सांसद रह चुके 92 वर्षीय वाजपेयी धीरे-धीरे नवाबों के इस शहर का पर्याय बन गये। हालांकि लखनऊ मध्य सीट से मतदाता संख्या 141 वाजपेयी इस बार भी विधानसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। लखनऊ में आगामी रविवार को मतदान होना है।

 
वाजपेयी के करीबी सहयोगी शिव कुमार ने आज यहां बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री इस बार भी विधानसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। वाजपेयी ने आखिरी बार वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में वोट डाला था। उसके बाद वह वर्ष 2007 और 2012 के विधानसभा चुनाव और साल 2009 तथा 2014 के लोकसभा चुनाव में स्वास्थ्य कारणों से वोट नहीं डाल सके। वर्ष 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से सांसद चुने गये वाजपेयी जिस मतदान बूथ पर आधिकारिक मतदाता हैं, वह लखनऊ नगर निगम के कार्यालय परिसर में स्थित है।
 
भाजपा के प्रान्तीय प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा, ‘‘अटल जी भले ही भाजपा प्रत्याशी को वोट ना दे सकें, लेकिन उनका आशीर्वाद हमेशा हमारे साथ रहेगा। हम उनकी दुआ के साथ चुनाव मैदान में उतरेंगे और उत्तर प्रदेश जीतेंगे।’’ 25 दिसम्बर 1924 को जन्मे वाजपेयी वर्ष 1942 में ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के दौरान राजनीति में आये थे। वह संयुक्त राष्ट्र सभा में हिन्दी में भाषण देने वाले पहले भारतीय विदेश मंत्री भी थे। वाजपेयी एकमात्र ऐसे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया।