Prabhasakshi Logo
सोमवार, जुलाई 24 2017 | समय 18:24 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker ImageHPCL के शेयरों की बिक्री पर निगरानी रखने वाली समिति के प्रमुख होंगे जेटलीTicker Imageचीनी सीमा तक दूरी घटाने के लिए सुरंगें बनाएगा बीआरओTicker Imageचीन, पाक पर कोई भी भारत का खुलकर समर्थन नहीं कर रहा: ठाकरेTicker Imageसरकार ने यौन उत्पीड़न शिकायतों के लिए ‘शी बॉक्स’ पोर्टल शुरू कियाTicker Imageलोकसभा में बोफोर्स मामले पर हंगामा, सच्चाई सामने लाने की मांगTicker Imageसरकार गंगा कानून लाने पर कर रही है विचार: उमा भारतीTicker Imageट्रेनों में मिलने वाले खराब भोजन पर राज्यसभा में जतायी गयी चिंताTicker Imageईसी रिश्वत मामले के आरोपी ने हिरासत में हिंसा का आरोप लगाया

राष्ट्रीय

इस बार भी वोट डालने लखनऊ नहीं जाएंगे वाजपेयी

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Feb 17 2017 3:14PM
इस बार भी वोट डालने लखनऊ नहीं जाएंगे वाजपेयी

लखनऊ। मतदाता जागरूकता के लिये चुनाव आयोग के तमाम प्रयासों के बावजूद लखनऊ मध्य सीट से ‘वोटर संख्या 141’ इस बार भी अपना मत नहीं डाल पाएंगे। यह वोटर और कोई नहीं, बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री ‘भारत रत्न’ अटल बिहारी वाजपेयी हैं। लखनऊ से लगातार पांच दफा सांसद रह चुके 92 वर्षीय वाजपेयी धीरे-धीरे नवाबों के इस शहर का पर्याय बन गये। हालांकि लखनऊ मध्य सीट से मतदाता संख्या 141 वाजपेयी इस बार भी विधानसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। लखनऊ में आगामी रविवार को मतदान होना है।

 
वाजपेयी के करीबी सहयोगी शिव कुमार ने आज यहां बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री इस बार भी विधानसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। वाजपेयी ने आखिरी बार वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में वोट डाला था। उसके बाद वह वर्ष 2007 और 2012 के विधानसभा चुनाव और साल 2009 तथा 2014 के लोकसभा चुनाव में स्वास्थ्य कारणों से वोट नहीं डाल सके। वर्ष 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से सांसद चुने गये वाजपेयी जिस मतदान बूथ पर आधिकारिक मतदाता हैं, वह लखनऊ नगर निगम के कार्यालय परिसर में स्थित है।
 
भाजपा के प्रान्तीय प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा, ‘‘अटल जी भले ही भाजपा प्रत्याशी को वोट ना दे सकें, लेकिन उनका आशीर्वाद हमेशा हमारे साथ रहेगा। हम उनकी दुआ के साथ चुनाव मैदान में उतरेंगे और उत्तर प्रदेश जीतेंगे।’’ 25 दिसम्बर 1924 को जन्मे वाजपेयी वर्ष 1942 में ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के दौरान राजनीति में आये थे। वह संयुक्त राष्ट्र सभा में हिन्दी में भाषण देने वाले पहले भारतीय विदेश मंत्री भी थे। वाजपेयी एकमात्र ऐसे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया।