Prabhasakshi
शनिवार, सितम्बर 23 2017 | समय 22:03 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageकांग्रेस ने दाऊद की पत्नी के मुंबई आने पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरणTicker Imageप्रवर्तन निदेशालय ने शब्बीर शाह के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कियाTicker Imageमोहाली में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां मृत मिलींTicker Imageमैटेरियल रिसर्च के लिये प्रोफेसर राव को मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मानTicker Imageमस्जिद के बाहर विस्फोट, म्यामां सेना ने रोहिंग्याओं को जिम्मेदार ठहरायाTicker Imageसंयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगी विदेश मंत्री सुषमा स्वराजTicker Imageआर्थिक नीतियों पर संदेह करने वाले गलत साबित हुए: मनमोहन सिंहTicker Imageयूट्यूब द्वारा उ. कोरिया के सरकारी चैनल पर रोक

राष्ट्रीय

केजरीवाल ने चंदे के नाम पर अवैध कमाई कीः कपिल मिश्रा

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: May 19 2017 2:39PM
केजरीवाल ने चंदे के नाम पर अवैध कमाई कीः कपिल मिश्रा

दिल्ली सरकार में मंत्री पद से हटाये गये आप विधायक कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अपनी अवैध कमाई पर रोक लगने के डर से नोटबंदी का विरोध किया था। मिश्रा ने आज एक बार फिर केजरीवाल के खिलाफ हमला बोलते हुये कहा कि केजरीवाल ने फर्जी कंपनियों के माध्यम से चंदे के नाम पर अवैध कमाई की। खासकर उन्होंने ऐसे व्यक्ति के मार्फत काला धन अर्जित किया जिसे दिल्ली सरकार के वैट विभाग ने ही वैट अदायगी नहीं करने का नोटिस थमाया था।

 
साल 2013 में केजरीवाल की अगुवाई में आप की पहली बार सरकार बनने से दस दिन पहले ही दिल्ली सरकार ने दिल्ली के कारोबारी मुकेश कुमार को वैट अदा नहीं करने का नोटिस थमाया था। मिश्रा ने आरोप लगाया कि मुकेश कुमार ने इस कार्रवाई के बाद ही आप को दो करोड़ रुपये का चंदा दिया। उन्होंने कुमार को कालेधन के घोषित कारोबारियों का मुखौटा बताते हुये कहा कि केजरीवाल और बतौर राजस्व मंत्री मनीष सिसोदिया ने 2013 से अब तक कुमार के खिलाफ वैट चोरी के मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।
 
मिश्रा ने केन्द्र सरकार के नोटबंदी के फैसले का भी केजरीवाल द्वारा विरोध करने के पीछे आप की अवैध कमाई बंद होने के खतरे को मुख्य वजह बताया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने देश भर में घूम घूम कर नोटबंदी के फैसले का इतना मुखर विरोध इसीलिये किया, क्योंकि मुख्यमंत्री के लिये कालेधन की उगाही करने वाले उनके सहयोगी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय और अन्य एजेंसियों की छापेमारी से उनको अहसास हो गया कि अब चंदे के नाम पर काला धन उगाहने की उनकी मुहिम थम जायेगी।