Prabhasakshi Logo
सोमवार, जुलाई 24 2017 | समय 18:27 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker ImageHPCL के शेयरों की बिक्री पर निगरानी रखने वाली समिति के प्रमुख होंगे जेटलीTicker Imageचीनी सीमा तक दूरी घटाने के लिए सुरंगें बनाएगा बीआरओTicker Imageचीन, पाक पर कोई भी भारत का खुलकर समर्थन नहीं कर रहा: ठाकरेTicker Imageसरकार ने यौन उत्पीड़न शिकायतों के लिए ‘शी बॉक्स’ पोर्टल शुरू कियाTicker Imageलोकसभा में बोफोर्स मामले पर हंगामा, सच्चाई सामने लाने की मांगTicker Imageसरकार गंगा कानून लाने पर कर रही है विचार: उमा भारतीTicker Imageट्रेनों में मिलने वाले खराब भोजन पर राज्यसभा में जतायी गयी चिंताTicker Imageईसी रिश्वत मामले के आरोपी ने हिरासत में हिंसा का आरोप लगाया

राष्ट्रीय

देश के 14वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए मतदान संपन्न, नतीजे 20 को

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jul 17 2017 10:21AM
देश के 14वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए मतदान संपन्न, नतीजे 20 को
देश के 14वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज मतदान शाम पांच बजे संपन्न हो गया। मतदान सुबह दस बजे शुरू हुआ था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले संसद भवन पहुंच कर मतदान किया। संसद परिसर में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी वोट डालने पहुंचे। वह गुजरात से विधायक हैं और उन्होंने आयोग से अपने लिए दिल्ली में मतदान की व्यवस्था करने का आग्रह किया था। संसद परिसर में कई केंद्रीय मंत्री, सांसद पंक्ति में लगे देखे गये।  
 
राष्ट्रपति पद के लिये हो रहे चुनाव में मुकाबला राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और कांग्रेस नीत विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच है। प्रधानमंत्री के अलावा मतदान करने वालों में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी प्रमुख हैं। अमित शाह गुजरात के अहमदाबाद क्षेत्र के नारनपुरा सीट से विधायक हैं। राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने वाले अन्य प्रमुख लोगों में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार, बसपा प्रमुख मायावती शामिल हैं। अभिनेता एवं सांसद परेश रावल एवं हेमा मालिनी ने भी आज सुबह मतदान किया।
 
उधर, विभिन्न राज्य विधानसभा परिसरों में भी राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान कराया गया। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुबह मतदान किया। उत्तर प्रदेश में उम्मीद जताई जा रही है कि सपा और बसपा के कुछ विधायक भाजपा उम्मीदवार के पक्ष में क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं। 
 
मतदान के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह हमारे लिये हर्ष का विषय है कि देश का राष्ट्रपति उत्तर प्रदेश से होगा। उन्होंने राजग उम्मीदवार कोविंद को समर्थन देने के लिए मुलायम सिंह यादव का आभार जताया।
 
इस बीच राष्ट्रपति चुनाव को लेकर तृणमूल कांग्रेस की त्रिपुरा इकाई में फूट पड़ गयी है और पार्टी विधायकों ने राजग उम्मीदवार को मत देने का ऐलान किया है। ममता को आशंका है कि कुछ सांसद भी क्रॉस वोटिंग कर सकते हैं इसलिए उन्होंने संसद सत्र होने के बावजूद अपने सांसदों को कोलकाता में ही मतदान करने के लिए कहा है।
 
उत्तर प्रदेश
 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में आज सुबह लखनऊ में मतदान किया। मुख्यमंत्री सुबह दस बजे ही विधानभवन पहुंचे और अपना वोट डाला। मतदान के बाद योगी ने संवाददाताओं से कहा कि राजग प्रत्याशी राम नाथ कोविंद भारी मतों से चुनाव जीत रहे हैं। उन्होंने बताया कि यह उत्तर प्रदेश के लिए गौरव की बात है कि यहां के निवासी राष्ट्रपति बनने वाले हैं। इस सवाल पर कि क्या राजग के अलावा अन्य दलों से भी कोविंद को वोट मिलेंगे, योगी ने कहा कि भाजपा और राजग के वोट तो उन्हें मिलेंगे ही। इतना कहकर वह मुस्कुरा कर चले गये। योगी के अलावा केन्द्रीय मंत्री उमा भारती, राज्य के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और योगी कैबिनेट के कुछ अन्य मंत्रियों ने मतदान किया।
 
राजस्थान
 
जयपुर से मिली खबरों के अनुसार, भारत का अगला राष्ट्रपति चुनने के लिए आज कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान आरंभ हो गया है। राष्ट्रपति पद के लिए राजग की ओर से रामनाथ कोविंद तथा विपक्षी दलों की ओर से मीरा कुमार चुनाव मैदान में हैं। राजस्थान विधानसभा सभा प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। विधानसभा परिसर में बनाए गए मतदान केन्द्र पर वोटिंग शुरू होने से पहले ही मतदाता (विधायक) कतार में लगे दिखे। राजस्थान विधानसभा में दो सौ सदस्य हैं। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुजरात वोट डालेंगे।
 
छत्तीसगढ़
 
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से मिली रिपोर्ट के अनुसार, राज्य विधानसभा के प्रमुख सचिव (सहायक निर्वाचन अधिकारी) देवेंद्र वर्मा ने आज बताया कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज सुबह 10 बजे मतदान प्रारंभ हो गया। राज्य के 90 विधायक विधानसभा भवन के समिति कक्ष क्रमांक दो स्थित मतदान कक्ष में अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। मतदान प्रारंभ होने के लगभग आधे घंटे में राज्य सरकार के मंत्री राजेश मूणत, प्रेम प्रकाश पांडेय, अमर अग्रवाल, रामसेवक पैकरा और पुन्नूलाल मोहले समेत लगभग 35 विधायकों ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया था। राष्ट्रप​ति चुनाव के लिए मतदान देने विधायक और मंत्री विधानसभा परिसर पहुंच रहे हैं।
 
वर्मा ने बताया कि विधानसभा परिसर में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त के किए गए हैं। राष्ट्रपति चुनाव के दौरान केवल पासधारक व्यक्ति ही विधानसभा परिसर में प्रवेश कर सकेंगे। मतदान क्षेत्र में मोबाईल फोन को भी प्रतिबंधित किया गया है। विधायक अपने मताधिकार का प्रयोग शाम पांच बजे तक कर सकेंगे। छत्तीसगढ़ विधानसभा में कुल 90 निर्वाचित विधायक हैं जो आज अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इनमें भारतीय जनता पार्टी के 49, कांग्रेस के 39, बहुजन समाज पार्टी के एक तथा एक निर्दलीय विधायक हैं। हालांकि, मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने मरवाही क्षेत्र के विधायक अमित जोगी को निष्कासित कर दिया है तथा गुंडरदेही के विधायक आरके राय को निलंबित कर दिया है। राष्ट्रप​ति चुनाव के दौरान राज्य में लोगों की नजर विधायक जोगी और राय पर है कि यह अपना मत किसे देते हैं।
 
गुजरात
 
राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए गांधीनगर स्थित प्रदेश सचिवालय में मतदान शुरू होने के साथ ही गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल सबसे पहले मतदान करने वाले लोगों में शामिल थीं। विधानसभा परिसर में मरम्मत का काम चलने के कारण मतदान सचिवालय के भीतर स्वर्णिम संकुल-2 परिसर में मतदान हो रहा है। अहमदाबाद के घाटलोदिया की विधायक आनंदीबेन पटेल ने अपना वोट डाला। राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद भाजपा विधायकों और सांसदों का समर्थन मांगने के लिए शनिवार को यहां आए थे। संप्रग उम्मीदवार मीरा कुमार साबरमती आश्रम से अपने अभियान की शुरूआत करने के लिए पिछले महीने गुजरात आयी थीं।
 
कांग्रेस के मुख्य सचेतक बलवंतसिंह राजपूत ने कहा कि विधायक और सांसद दिल्ली में भी मतदान कर सकते हैं। इसी बीच भाजपा के बागी विधायक नलिन कोटादिया ने कहा कि वह वर्ष 2015 के आरक्षण आंदोलन के दौरान पटेल समुदाय के लोगों पर हुए ‘‘अत्याचारों’’ के विरोध स्वरूप राजग उम्मीदवार के खिलाफ वोट देंगे। हाल में कोटादिया को भाजपा से निलंबित कर दिया गया था। 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में सत्तारूढ़ भाजपा के 122 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के 57, राकांपा के दो और जदयू के एक सदस्य हैं। लोकसभा में राज्य के सभी 26 सदस्य भाजपा के हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह दिल्ली में मतदान करेंगे। वह अहमदाबाद की नारनपुरा सीट से विधायक हैं।
 
मध्य प्रदेश
 
मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘मतदान के पहले घंटे में मध्य प्रदेश विधानसभा के 85 विधायकों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जिनमें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं मध्य प्रदेश विधानसा में प्रतिपक्ष नेता अजय सिंह शामिल हैं।’’ आज शाम पांच बजे तक चलने वाले इस मतदान में चौहान एवं सिंह के अलावा, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा, विधानसभा के उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह एवं तकरीबन 12 मंत्रियों ने भी अपना मताधिकार का उपयोग कर लिया है।
 
उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल 230 सदस्य हैं, लेकिन चित्रकूट सीट के कांग्रेस विधायक प्रेम सिंह के निधन होने एवं नरोत्तम मिश्रा को चुनाव आयोग द्वारा पेड न्यूज मामले में अयोग्य घोषित किये जाने के कारण अब प्रदेश के 228 विधायक ही आज हो रहे राष्ट्रपति चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि मतदान में पहली बार मत-पत्र पर बैंगनी रंग की स्याही वाले विशेष पेन से मतांकन चिन्हित किया जा रहा है।
 
महाराष्ट्र
 
दक्षिण मुंबई स्थित विधानभवन में राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज सुबह मतदान शुरू हो गया। सबसे पहले वोट डालने वालों में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और नागपुर से विधायक देवेंद्र फडणवीस भी शामिल थे। यहां मतदान सुबह दस बजे शुरू हुआ। पूर्व उप मुख्यमंत्री अजीत पवार भी मतदान करने मतदान केंद्र पर सुबह पहुंचे। विधान भवन के एक अधिकारी ने बताया कि जेल में बंद विधायक छगन भुजबल और रमेश कदम भी राष्ट्रपति चुनाव में मतदान कर सकते हैं। एक विशेष पीएमएलए अदालत ने भुजबल के चुनाव में मतदान करने देने का अनुरोध करने वाले आवेदन को हाल में मंजूरी दी थी। शुक्रवार को बंबई उच्च न्यायालय ने भ्रष्टाचार के कथित मामले में जेल में बंद राकांपा के विधायक रमेश कदम को भी मतदान करने की मंजूरी दे दी थी। कदम को अगस्त 2015 में गिरफ्तार किया गया था।
 
राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद विधायकों और सांसदों का समर्थन जुटाने की खातिर शनिवार को मुंबई में थे। भारत के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। महाराष्ट्र में 288 विधायक हैं जो चुनाव में मतदान कर सकते हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र में 48 लोकसभा सांसद और 19 राज्यसभा सदस्य भी हैं। अधिकारियों ने बताया कि सांसद संभवतः मतदान दिल्ली में करेंगे।
 
आंध्र प्रदेश
 
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू और राज्य विधानसभा अध्यक्ष के. शिवप्रसाद राव ने आज राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने के लिए विधायकों का नेतृत्व किया। राज्य विधानसभा के कमीटी हॉल में नायडू ने सबसे पहले राष्ट्रपति पद के लिए मतदान किया और उनके बाद राव ने मतदान किया। इसके बाद सत्तारूढ़ तेलुग देशम पार्टी के विधायकों ने मतदान किया। भाजपा के चार विधायकों ने भी अपने सहयोगियों के साथ मतदान किया। इसके बाद विपक्षी पार्टी और वाईएसआर कांग्रेस अध्यक्ष वाईएस जगमोहन रेड्डी ने मतदान प्रक्रिया में अपने विधायकों का नेतृत्व किया। आंध्र प्रदेश विधानसभा के सभी 175 विधायकों ने संकल्प लिया था कि वह राजग उम्मीदवार राम नाथ कोविंद के पक्ष में मतदान करेंगे, जिनमें एक मात्र विपक्षी दल वाईएसआरसी भी शामिल है। आंध्र प्रदेश से कांग्रेस के चार राज्यसभा सदस्य हैं लेकिन लोकसभा और राज्य विधानसभा के एक भी सदस्य नहीं है।
 
गोवा
 
पोरवोरिम स्थित गोवा सचिवालय में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए आज सुबह मतदान शुरू होने के साथ मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पहले घंटे में वोट डालने वाले लोगों में शामिल थे। गोवा फारवर्ड पार्टी (जीएफपी) के जयेश सलगांवकर एवं विनोद पालयेकर, कांग्रेस के फिलिप नेरी रोड्रिग्स, रवि नायक, दिगम्बर कामत एवं टोनी फर्नांडिस और भाजपा के प्रमोद सावंत एवं प्रवीण जंत्ये सबसे पहले वोट डालने वाले लोगों में शामिल थे। गोवा विधानसभा में 40 सदस्य हैं लेकिन आज के चुनाव में 38 विधायक ही मतदान कर सकते हैं क्योंकि दो सदस्य- विश्वजीत राणे (कांग्रेस) और सिद्धार्थ कुन्कोलिएन्कर (भाजपा) इस्तीफा दे चुके हैं। रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा देने और गोवा की राजनीति में लौटने के बाद पर्रिकर अब भी विधानसभा में निर्वाचित नहीं हुए हैं। उन्होंने लखनऊ से राज्यसभा सदस्य की अपनी हैसियत से वोट डाला। राज्य के तीन सांसद- शांताराम नाइक (राज्यसभा), श्रीपद नाइक (लोकसभा) और नरेंद्र सवाईकर (लोकसभा) दिल्ली में मतदान करेंगे। भाजपा की सहयोगी जीएफपी राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन कर रही है। पार्टी के नेता एवं राज्य के मंत्री विनोद पालयेकर ने कहा कि उनकी पार्टी ने कोविंद का समर्थन करने का सही फैसला किया है और ‘‘हम राजग का हिस्सा हैं। किसी और के लिए वोट डालने का सवाल ही नहीं उठता।’’
 
तमिलनाडु-पुडुचेरी
 
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीसामी ने सबसे पहले यहां मतदान किया। पलानीसामी के बाद वन मंत्री डिंडीगुल श्रीनिवासन, नगरपालिका प्रशासन मंत्री एसपी वेलुमनी, दुग्ध एवं डेयरी विकास मंत्री राजेंद्र बालाजी, विधानसभा अध्यक्ष पी. धनपाल और विपक्ष के नेता एम.के. स्टालीन ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान किया। राज्य के 234 विधायक राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने के योग्य हैं। पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता की मौत के बाद से आरके नगर विधानसभा सीट खाली है। विधानसभा में द्रमुक के उप नेता दुरईमुरुगन से जब संवाददाताओं ने पार्टी प्रमुख एम करुणानिधि के मतदान के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, “कृपया शाम बजे तक इंतजार करें।” करुणानिधि पिछले साल दिसंबर से ही बीमार चल रहे हैं। मतदान प्रक्रिया सुबह 10 बजे से शुरू हुई और यह शाम पांच बजे तक चलेगी। अधिकारी ने बताया कि सुबह 11 बजे तक 120 विधायक मतदान कर चुके थे। राज्य विधानसभा के विधायकों के अलावा केरल के एक विधायक और कन्याकुमारी क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले केंद्रीय मंत्री पोन राधाकृष्णन ने भी चेन्नई में यहां मतदान किया। अन्नाद्रमुक के विद्रोही नेता और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम, पूर्व स्कूल शिक्षा मंत्री पांड्याराजन और सेममलाई, कांग्रेस विधायक दल के नेता केआर रामसामी भी मतदान करने वालों में शामिल हैं। बाद में विधायक रामासामी ने मीडियाकर्मियों को बताया, “राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के चुनाव जीतने की काफी संभावना है।” विधानसभा के उपाध्यक्ष वी. जयरमन ने कहा, “रामनाथ कोविंद के चुनाव में जीतने के काफी संभावना है।”
 
इसी बीच केन्द्र शासित राज्य पुडुचेरी में मतदान हुआ। यहां विधानसभा अध्यक्ष वी. वेथीलिंगम और मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने अपने मत का प्रयोग किया। मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है।
 
तेलंगाना
 
मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने सबसे पहले वोट डाला। सत्तारुढ़ टीआरएस पहले ही चुनाव में राजग की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार राम नाथ कोविंद को समर्थन देने की घोषणा कर चुकी है। टीआरएस के सदस्य पार्टी कार्यालय से एक बस में विधानसभा पहुंचे। विधायकों को मतदान प्रक्रिया से अवगत करवाने के लिए रविवार को पार्टी ने एक बैठक भी की थी। तेलंगाना में प्रत्येक वोट का मूल्य 132 है। अधिकारियों ने मतदान के लिए व्यापक व्यवस्था की है। 119 सदस्यीय तेलंगाना विधानसभा में टीआरएस के 82, कांग्रेस के 19, एमआईएम के सात, भाजपा के पांच, तेदेपा के तीन, भाकपा के एक, माकपा के एक और एक निर्दलीय सदस्य हैं। तेलंगाना से 16 लोकसभा सदस्य और 10 राज्यसभा सदस्य हैं।
 
हिमाचल प्रदेश
 
हिमाचल प्रदेश में सौ फीसदी मतदान दर्ज किया गया जहां सभी 67 विधायकों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। हिमाचल प्रदेश की 68 सदस्यीय विधानसभा में, कांग्रेस के एक विधायक करन सिंह के निधन के बाद एक सीट रिक्त पड़ी है। सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी दल भाजपा के विधायक दस बजे विधानसभा में एकत्र हुए और मतदान शुरू हुआ। यहां मुख्य संसदीय सचिव आईडी लखनपाल ने सबसे पहले मतदान किया। भाजपा के 28 विधायकों और एक निर्दलीय विधायक के मतदान करने के बाद मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह तथा कांग्रेस के विधायकों ने मतदान किया। राष्ट्रपति पद के लिए वोटों की गिनती 20 जुलाई को होगी।
 
ओडिशा
 
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, विपक्ष के नेता नरसिंह मिश्रा और भाजपा विधायक दल के नेता केवी सिंहदेव ने आज राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए अपने मताधिकार का उपयोग किया। राज्य विधानसभा में मतदान की प्रक्रिया शुरू होने पर विभिन्न राजनीतिक दलों के विधायक चुनाव प्रक्रिया में शामिल हुये और मतदान किया। पटनायक और मिश्रा पहले मतदान करने वालों में शामिल रहे। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान की प्रक्रिया सुबह 10 बजे शुरू हुयी। सुबह मतदान करने वालों में केवी सिंहदेव, पटनागढ़ के विधायक बसंत पांडा, भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष और पूर्व केन्द्रीय मंत्री दिलीप रे शामिल रहे।
 
ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजद राजग के राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद का समर्थन कर रही है। कोविंद 14 जुलाई को ओडिशा आए थे और राज्य की राजधानी में बीजद और भाजपा के नेताओं से अलग-अलग मुलाकात की थी। सप्रंग प्रत्याशी मीरा कुमार ओडिशा नहीं आ सकीं क्योंकि उनका दौरा रद्द हो गया था। 147 सदस्यीय ओडिशा विधानसभा में बीजद के 117 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के 16, भाजपा के 10 और माकपा तथा समता क्रांति दल के एक एक विधायक हैं। सदन में दो निर्दलीय विधायक भी हैं।
 
दिल्ली
 
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेन्द्र गुप्ता के साथ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायकों ओपी शर्मा, जगदीश प्रधान और मनजिंदर सिंह सिरसा ने सबसे पहले मतदान किया। सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के लगभग 11 बजे विधानसभा पहुंचने के बाद मतदान किया। सिसोदिया के साथ विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल, विधायक अलका लांबा और संजीव झा ने मतदान किया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बारिश के कारण देर से लगभग साढ़े ग्यारह बजे विधानसभा पंहुचे। केजरीवाल ने आप विधायक कमांडो सुरेन्द्र सिंह के साथ मतदान किया। लगभग दो घंटे की बारिश ने मतदान की गति को धीमा कर दिया। दोपहर दो बजे तक 70 सदस्यीय विधानसभा के लगभग 25 विधायकों ने ही मतदान किया था।
 
मतदान के बाद केजरीवाल ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उन्होंने अंतरात्मा की आवाज पर मतदान किया है। उन्होंने कहा कि आप सैद्धांतिक आधार पर विपक्षी गठबंधन संप्रग की उम्मीदवार मीरा कुमार का समर्थन कर रही है। मतदान शुरू होने से पहले गुप्ता के साथ तीन अन्य भाजपा विधायक सुबह साढ़े नौ बजे ही विधानसभा में पहुंच गये थे। भाजपा की अगुवाई वाले गठबंधन राजग के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने दिल्ली विधानसभा में गुप्ता को अपना पोलिंग एजेंट बनाया है। आप विधायकों में आपसी दरार को देखते हुये आप में क्रॉस वोटिंग की आशंकाओं के बीच भाजपा ने आप के लगभग दर्जन भर विधायकों का वोट कोविंद के पक्ष में डाले जाने का दावा किया है। भाजपा विधायक ओपी शर्मा ने कहा कि केजरीवाल से नाराज चल रहे आप के 10 से 12 विधायकों ने कोविंद को वोट दिया है। शर्मा के दावे को सही साबित करने के लिये केजरीवाल सरकार से बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा ने मतदान करने के बाद कहा कि ‘‘मेरा वोट उस उम्मीदवार को गया है जो देश का नया राष्ट्रपति बनने जा रहा है।’’
 
राष्ट्रपति चुनाव के लिये दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को इस बार दिल्ली विधानसभा में पीठासीन अधिकारी बनाया गया है। सामान्य तौर पर विधानसभा सचिव को राज्यों की विधानसभा में बनने वाले मतदान केन्द्रों का पीठासीन अधिकारी बनाया जाता है। लेकिन दिल्ली विधानासभा के सचिव प्रसन्न कुमार सूर्यदेवरा की नियुक्ति के बाद तबादले को लेकर जारी कानूनी विवाद के कारण चुनाव आयोग ने उनकी जगह राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पीठासीन अधिकारी बनाया है।
 
झारखंड
 
82 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में निर्वाचित सभी 81 विधायकों ने दोपहर डेढ़ बजे तक अपना वोट डाल लिया। झारखंड विधानसभा में बने मतदान केन्द्र में राजग के पोलिंग एजेंट एवं राज्य के शहरी विकास एवं परिवहन मंत्री सीपी सिंह ने पत्रकारों को बताया कि दिन के बारह बजे तक ही विधानसभा के 81 निर्वाचित विधायकों में से 80 ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया था। विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार के पोलिंग एजेंट झारखंड विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने बताया कि बाद में हजारीबाग जेल से अदालत की अनुमति से मतदान करने यहां पहुंची कांग्रेस विधायक निर्मला देवी ने अंतिम मतदाता के रूप में डेढ़ बजे अपना वोट डाला। सीपी सिंह ने बताया कि विधानसभा परिसर में देश के राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज सुबह ठीक दस बजे मतदान शुरू हुआ और सबसे पहले मतदान देने वालों में वह स्वयं शामिल थे।
 
बाद में तय रणनीति के तहत दिन के ग्यारह बजते बजते राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के लगभग सभी विधायकों ने अपना मतदान कर दिया। इनमें मुख्यमंत्री रघुवर दास उनके मंत्रिमंडल के सभी सदस्य तथा अन्य विधायक भी शामिल हैं। सत्ताधारी पक्ष के विधायकों के मतदान के बाद विपक्ष भी अपनी तय रणनीति के तहत लगभग एक साथ राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन एवं सदन में कांग्रेस विधायक तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखदेव भगत के नेतृत्व में मतदान करने पहुंचा। संयुक्त प्रगतिशील मोर्चा की ओर से विपक्ष की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार पूर्व लोकसभाध्यक्ष मीरा कुमार के पक्ष में लामबंद होकर झामुमो के सभी 19, कांग्रेस के सात, बाबूलाल मरांडी की पार्टी के दो, भाकपा माले के एक एवं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट कमिटी के एक विधायक ने मतदान करने की घोषणा की। विपक्ष ने कुल मिलाकर जहां तीस विधायकों ने अपने पक्ष में मतदान का दावा किया वहीं भाजपा ने अपने 43, अपने गठबंधन सहयोगी ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन के चार, निर्दलीय गीता कोड़ा एवं भानु प्रताप शाही के मतों को मिलाकर कुल 49 विधायकों के मत अपने उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के पक्ष में पड़ने का दावा किया। बसपा के कुशवाहा शिवपूजन मेहता एवं निर्दलीय एनोस एक्का ने अपने मतदान के बारे में स्पष्ट कोई बात नहीं रखी। सदन में एंग्लो इंडियन समुदाय के एक मनोनीत विधायक भी हैं लेकिन उन्हें संविधान के अनुसार राष्ट्रपति चुनाव में मताधिकार नहीं है। सीपी सिंह ने बताया कि मतपेटिका नियत समय शाम पांच बजे सील की जायेगी क्योंकि उस समय तक राज्य का कोई सांसद भी मतदान के लिए यहां आ सकता है। झारखंड के लोकसभा में कुल चैदह एवं राज्यसभा में छह सांसद हैं। जिनमें से लोकसभा के बारह एवं राज्य सभा के दो सांसद भाजपा के हैं जबकि उनके उम्मीदवार कोविंद को निर्दलीय परिमल नाथवाणी का भी समर्थन प्राप्त है। दूसरी ओर लोकसभा में झामुमो के दो सांसदों एवं राज्यसभा में झामुमो के एक, कांग्रेस एवं राजद के एक-एक सांसदों का समर्थन यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार को हासिल है।
 
पंजाब-हरियाणा
 
पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा समेत दोनों राज्यों के विधायकों ने राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए आज चंडीगढ़ में मतदान किया। पंजाब में मतदान विधानसभा परिसर में हुआ जबकि हरियाणा में मतदान के लिए ‘ओल्ड कमीटी रूम’ को मतदान केन्द्र बनाया गया। चुनाव कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि अमरिंदर सिंह, बादल, वरिष्ठ आप नेता सुखपाल खैरा और अमन अरोड़ा, लोक इंसाफ पार्टी के बलविंदर सिंह बैंस और सिमरजीत सिंह बैंस ने पंजाब विधानसभा परिसर में मत डाले। हरियाणा के लिए बनाए मतदान केन्द्र में कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी ने मत डाला।
 
पश्चिम बंगाल
 
मतदान करने वाले तृणमूल कांग्रेस के विधायकों में सुब्रत मुखर्जी, राजीव बनर्जी, शशि पांजा और लक्ष्मी रतन शुक्ला शामिल हैं। माकपा विधायक सुजान चक्रवर्ती और कांग्रेस के विधायक मनोज चक्रवर्ती ने भी राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान किया। 294 सदस्यीय राज्य विधानसभा में मतदान सुबह दस बजे शुरू हुआ। तृणमूल, माकपा और कांग्रेस पहले ही विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन की घोषणा कर चुके हैं। भाजपा के तीन विधायकों और उसकी राजनीतिक सहयोगी गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के तीन विधायकों- सारिता राय, रोहित शर्मा और अमर सिंह राय ने भी मतदान किया। चुनाव आयोग के निर्देशों के मुताबिक मतदान करने के लिए विधायकों को विशेष तौर पर तैयार किए गए मार्कर दिए गए थे। उन्हें अपनी निजी कलम वोटिंग चेंबर के भीतर ले जाने की अनुमति नहीं थी। मतगणना 20 जुलाई को होगी।
 
उत्तराखंड
 
उत्तराखंड में सभी 70 विधायकों ने वोट डाले। बिहार ​के एक विधायक ने भी उत्तराखंड में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि राज्य विधानसभा में बनाये गये मतदान कक्ष में सुबह 10 बजे मतदान शुरू हुआ। दोपहर सवा दो बजे तक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद्र अग्रवाल सहित प्रदेश के सभी 70 विधायकों ने अपने मत डाल दिये। बिहार के विधायक वीरेंद्र कुमार ने भी उत्तराखंड विधानसभा में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। देश का 14वां राष्ट्रपति चुनने के लिये हो रहे चुनाव में राजग प्रत्याशी रामनाथ कोविंद का सीधा मुकाबला विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार से है।
 
अरुणाचल प्रदेश
 
अरुणाचल प्रदेश के विधायकों ने देश का अगला राष्ट्रपति चुनने के लिए आज मतदान किया। साठ सदस्यों वाली विधानसभा के कुल 59 विधायकों में से 58 ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जोमडे केना ने यहां अपना वोट नहीं डाला क्योंकि वह दिल्ली में थे। विधानसभा सचिव एम लासा ने बताया कि केना ने दिल्ली में वोट डाला। उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं विधायक कामेंग डोलो की सदस्यता चली गई थी जिसके चलते विधानसभा में एक सीट खाली हो गई थी। उनके खिलाफ भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री अतुम वेली की याचिका पर न्यायालय का आदेश आया था।
 
राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा के पास 47 विधायक हैं। नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस की घटक पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल के नौ विधायक हैं जो राष्ट्रपति पद के लिए राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविन्द का समर्थन कर रहे हैं। सदन में दो निर्दलीय और कांग्रेस का एक सदस्य है। दोनों निर्दलीय भी कोविन्द का समर्थन कर रहे हैं।