1. छुट्टी और मनोरंजन नहीं मिलने से हताशा बढ़ती है सुरक्षा बलों में

    छुट्टी और मनोरंजन नहीं मिलने से हताशा बढ़ती है सुरक्षा बलों में

    सुरक्षा बलों में बढ़ते मनोरोगों का प्रभाव आतंकवाद विरोधी अभियानों पर तो पड़ ही रहा है उस समय स्थिति और खतरनाक हो जाती है जब मानसिक रूप से पीड़ित जवान द्वारा हताशा की स्थिति में गोलीबारी कर दी जाती है।

  2. अनूठा है कश्मीरी पंडितों का शिवरात्रि मनाने का तरीका

    अनूठा है कश्मीरी पंडितों का शिवरात्रि मनाने का तरीका

    तीन दिन तक तीन-चार घंटे तक विधिवित् पूजा होती है। तीसरे दिन कलश को प्रवाहित करने का प्रचलन है। पहले मिट्टी के कलश को झेलम में प्रवाहित किया जाता था।

  3. सरकार ने दिल से किया काम, दिल के मरीजों को दी राहत

    सरकार ने दिल से किया काम, दिल के मरीजों को दी राहत

    यह सरकार की हिम्मत की बात है कि उसने लोगों के हित को सर्वोपरि मानते हुए स्टेंट की दरों को तय करने का फैसला लिया। हालांकि इस व्यवसाय से जुड़े लोगों द्वारा सरकार के फैसले को विफल करने के हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

  4. अमेरिकी संस्थाओं के निशाने पर हिन्दू धर्म, कुछ करेंगे ट्रम्प?

    अमेरिकी संस्थाओं के निशाने पर हिन्दू धर्म, कुछ करेंगे ट्रम्प?

    हिन्दू धर्म के दानवीकरण तथा हिन्दू-समाज के विखण्डन में अमेरिका की संस्था ‘सेन्टर फार रिलीजियस फ्रीडम’ काफी सक्रिय है जो भारत में पश्चिमी रुझान के तथाकथित बुद्धिजीवियों, खास कर दलितों को धार्मिक स्वतंत्रता का छ्द्म अर्थ समझाता है।

  5. पाकिस्तानी आवाम के प्रति सहानुभूति आखिर क्यों होनी चाहिए?

    पाकिस्तानी आवाम के प्रति सहानुभूति आखिर क्यों होनी चाहिए?

    मुझे यह मानने में रत्ती भर भी संकोच नहीं है कि खुद पाकिस्तान की बहुतायत आवाम ''आतंकवाद'' की पक्षधर है। कारण चाहे जो हो, किन्तु अगर पाकिस्तान आतंकवाद का गढ़ बना हुआ है तो वहां की आवाम को ''क्लीन चिट'' कतई नहीं दी जा सकती है।

  6. वायु प्रदूषण के कारण हर मिनट मरते हैं दो भारतीय

    वायु प्रदूषण के कारण हर मिनट मरते हैं दो भारतीय

    चिकित्सीय पत्रिका ‘द लांसेट’ के अनुसार, हर साल वायु प्रदूषण के कारण 10 लाख से ज्यादा भारतीय मारे जाते हैं और दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से कुछ शहर भारत में हैं।

  7. उन्नति के लिए व्यक्ति के जीवन में अनुशासन जरूरी

    उन्नति के लिए व्यक्ति के जीवन में अनुशासन जरूरी

    देश और समाज को हमें सभ्य व प्रगति के रास्ते पर ले जाना है तो हर नागरिक का अनुशासित होना सबसे आवश्यक और पहला कर्तव्य है। हमारे जीवन मे ''अनुशासन'' एक ऐसा गुण है, जिसकी आवश्यकता मानव जीवन में पग−पग पर पड़ती है।

  8. बजट भी है, सुविधाएँ भी हैं फिर भी बेहाल हैं प्राथमिक विद्यालय

    बजट भी है, सुविधाएँ भी हैं फिर भी बेहाल हैं प्राथमिक विद्यालय

    प्राइमरी स्कूल किस्मत कोसता हुआ बद्हाली की मर्म कहानी सुना रहा है। मगर आपाधापी भरी जिन्दगी में भला किसके पास वक्त है कि वह उसके करीब जाकर उसकी ख़बर ले, ख़ामोशी की वजह पूछे और दशकों पहले दिए हुए अतुलनीय योगदान की सराहना करे।

  9. दक्षिण की गंगा कावेरी के जल विवाद पर एक नजर

    दक्षिण की गंगा कावेरी के जल विवाद पर एक नजर

    कावेरी नदी जिसे दक्षिण का गंगा कहा जाता है। यह नदी तीनों राज्यों की सेवा में अपना जल प्रवाह देती रही है। इसकी प्रदूषण की बात छोड़ दें तो भी मौजूदा नदी जल विवाद का विषय बन गया है।

  10. इसरो ने बनायी अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की नयी पहचान

    इसरो ने बनायी अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की नयी पहचान

    एक समय था जब दुनिया के देशों द्वारा उपग्रह किराए पर लिए जाते थे। किराए पर लिए जाने वाले उपग्रहों पर अधिक खर्चा होने के कारण अंतरिक्ष में अपने स्वयं के उपग्रह स्थापित करने पर बल दिया जाने लगा।

  11. आगे बढ़ने की होड़ में इंसानियत को पीछे छोड़ रहा इंसान

    आगे बढ़ने की होड़ में इंसानियत को पीछे छोड़ रहा इंसान

    इंसान धर्म की आड़ में अपने अंदर पल रहे वैर, निंदा, नफरत, अविश्वास, उन्माद और जातिवादी भेदभाव के कारण अभिमान को प्राथमिकता दे रहा है। जिससे उसके भीतर की मानवता शनै: शनै: दम तोड़ रही है।

  12. समस्याओं को हल नहीं करना चाहते युवा, विदेश जाना चाहते हैं

    समस्याओं को हल नहीं करना चाहते युवा, विदेश जाना चाहते हैं

    माना कि हमारे देश में तरह-तरह की समस्यायें हैं, किन्तु इनसे जूझने की बजाय पलायन करने अथवा कोरा लफ्फाजी करने कि हमें प्रधानमंत्री बना दिया जाए तो देश को सुंदर बना देंगे, अति महात्वाकांक्षा-युक्त मानसिक असंतुलन का ही द्योत्तक है।

वीडियो