1. रोष भरे बयानों, कड़े प्रस्तावों से ही लड़ेंगे आतंकवाद से?

    रोष भरे बयानों, कड़े प्रस्तावों से ही लड़ेंगे आतंकवाद से?

    आतंकवाद से लड़ना है तो दृढ़ इच्छा-शक्ति चाहिए। विश्व की आर्थिक और सैनिक रणनीति को संचालित करने वाले देश अगर ईमानदारी से ठान लें तो आतंकवाद पर काबू पाया जा सकता है।

  2. विदेश यात्राओं पर सवाल उठाने से पहले उपलब्धियाँ देखें

    विदेश यात्राओं पर सवाल उठाने से पहले उपलब्धियाँ देखें

    यद्यपि मजबूत विदेश नीति की बुनियाद मजबूत घरेलू नीति ही होती है। वह भारत, जहाँ सम्पूर्ण विश्व का छठवां भाग निवास करता है, हमेशा अपनी शक्ति से बहुत कम प्रहार करता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वह नियम मानने वाला देश रहा है।

  3. कोयला घोटाला मामले में आया फैसला बेईमानों को सबक

    कोयला घोटाला मामले में आया फैसला बेईमानों को सबक

    भ्रष्टाचार के इन ढेर सारे मामलों की तरह कोयला घोटाला भी भ्रष्ट नौकरशाही और बेईमान कारोबारियों के गठजोड़ की तरफ इशारा करता है। यह पद के दुरुपयोग का मामला भी है, जिसके बिना कोई घोटाला संभव नहीं हो सकता।

  4. मनमोहन और मोदी सरकार के बीच जमीन-आसमान का अंतर

    मनमोहन और मोदी सरकार के बीच जमीन-आसमान का अंतर

    कार्यशैली और घोटालों के मामले में मनमोहन सिंह व मोदी सरकार के बीच जमीन−आसमान का अन्तर है। इस तथ्य को देश का आम जनमानस भी स्वीकार करता है। हालिया चुनाव परिणामों ने भी यह बात साबित की है।

  5. दो करोड़ रोजगार हर वर्ष देने का वादा रह गया अधूरा

    दो करोड़ रोजगार हर वर्ष देने का वादा रह गया अधूरा

    भाजपा ने हर वर्ष दो करोड़ रोजगार मुहैया कराने की वादा किया था, इस पर सरकार मौन है। मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, स्मार्ट सिटी, स्वच्छ भारत और गुड गवर्नेंस के नारे तो नजर आते हैं लेकिन रोजगार की बात सिरे से गायब है।

  6. देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर ले आई मोदी सरकार

    देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर ले आई मोदी सरकार

    मोदी सरकार न केवल फैसले ले रही है, बल्कि पारदर्शी और प्रभावी तरीके से लागू भी कर रही है। जबकि पूर्व सरकार की नीतियों से देश की अर्थव्यवस्था तेजी से बिगड़ रही थी।

  7. तीन सालों में कोई घोटाला नहीं, यह भी बड़ी उपलब्धि

    तीन सालों में कोई घोटाला नहीं, यह भी बड़ी उपलब्धि

    लोकतंत्र में जब लोक विश्वास, आत्म सम्मान और ऊर्जा से भर जाए तो लोकतंत्र की सच्ची संकल्पना साकार लेने लगती है। मोदी ने लोकतंत्र में लोक को स्वामी होने का एहसास बखूबी कराया है।

  8. दूसरों पर आरोप लगाने वाले केजरीवाल खुद पर चुप क्यों

    दूसरों पर आरोप लगाने वाले केजरीवाल खुद पर चुप क्यों

    लगातार चुनावी हार और कपिल मिश्रा के आरोपों के बाद केजरीवाल घिर गये हैं और भाई-भतीजावाद और रिश्वतखोरी के नित नए आरोप लग रहे हैं। दूसरों पर बिना सबूतों के आरोप लगाने वाले केजरीवाल अब खुद शिकार हो गये हैं।

  9. PM की इजराइल यात्रा से पहले भारत ने फिलिस्तीन को साधा

    PM की इजराइल यात्रा से पहले भारत ने फिलिस्तीन को साधा

    फिलिस्तीनी राष्ट्रपति की यह यात्रा इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि जुलाई में प्रधानमंत्री मोदी इजराइल की यात्रा पर जा रहे हैं। भारत-इजराइल संबंध अभी उच्च स्तर पर हैं। ज्ञात हो भारत ने लंबे समय तक इजराइल से कूटनीतिक संबंध नहीं रखे थे।

  10. राष्ट्रपति चुनाव में जादुई आंकड़ा एनडीए के पास

    राष्ट्रपति चुनाव में जादुई आंकड़ा एनडीए के पास

    वर्तमान में एनडीए के पास 410 सांसद और 1691 विधायक हैं। एनडीए के पास 5 लाख 32 हजार 19 मत हैं जबकि जीत के लिए 5 लाख 49 हजार 442 मतों की जरूरत है। इस भांति 17 हजार 423 मत कम पड़ते हैं।

  11. इसलिए शत प्रतिशत ईवीएम प्रणाली अपना रहा है भारत

    इसलिए शत प्रतिशत ईवीएम प्रणाली अपना रहा है भारत

    आज केवल करीब दो दर्जन देशों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग का तरीका अपना रखा है। और इस मामले में निःसंदेह भारत अग्रणी है। साल 2014 में देश की आधी अरब से अधिक आबादी ने ईवीएम से वोट डाला था जो एक विश्व रिकार्ड था।

  12. महापुरूषों की आत्माओं ने भी कहा होगा धन्यवाद ''योगी''

    महापुरूषों की आत्माओं ने भी कहा होगा धन्यवाद ''योगी''

    उन महापुरूषों की भी आत्मायें गदगद हुई होंगी और वे भी योगी जी को आशीर्वाद स्वरूप ऐसे ही कर्मयोग के मार्ग पर आगे बढ़ने की कामना कर रहे होंगे जिनके नाम पर अनावश्यक छुट्टियां करके जनता की गाढ़ी कमाई को पानी में बहाया जाता रहा है।

वीडियो