1. विधानसभा चुनावों में सिर चढ़कर बोला मोदी का जादू

    विधानसभा चुनावों में सिर चढ़कर बोला मोदी का जादू

    यूपी में मोदी का जादू जमकर चला। मोदी की सुनामी के आगे उनके विरोधी ढेर हो गए। यह भी पूरी तरह साफ हो गया कि यूपी में जातीय दावे फेल हो गए और मतदाताओं ने जातीय भंवर से निकल कर साफ सुथरी सरकार के लिए अपना मत दिया।

  2. नेताजी संबंधी फाइलें तो खुल गयीं पर रहस्य बरकरार

    नेताजी संबंधी फाइलें तो खुल गयीं पर रहस्य बरकरार

    स्वतंत्रता को अहिंसा से प्राप्त करने का दावा किया जाता है लेकिन उसमें ''तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूँगा'' का नारा देकर आजाद हिन्द फौज से अंग्रेजों की ईंट से ईंट बजाने वाले नेताजी को इतिहास में अपेक्षित स्थान मिलने का आज भी इंतजार है।

  3. कहने को आधी आबादी पर हिस्से में सिर्फ एक ही दिन

    कहने को आधी आबादी पर हिस्से में सिर्फ एक ही दिन

    चंद महिलाओं की सफलता देखकर हम यह मान रहे हैं कि देश में महिलाओं की स्थिति बहुत बेहतर है, तब यह बड़ी भूल समझी जाएगी। शिक्षा, जागरूकता व अधिकारों से वंचित महिलाओं की बड़ी आबादी आज भी शारीरिक व मानसिक रूप से शोषित हो रही है।

  4. जिम्मेदार पदों पर रह चुके फारूख-चिदंबरम की गलतबयानी

    जिम्मेदार पदों पर रह चुके फारूख-चिदंबरम की गलतबयानी

    अब कांग्रेस के पी. चिदंबरम और नेशनल कांफ्रेंस के फारुख अब्दुल्ला मुखर हुए हैं। दोनों ने जम्मू कश्मीर पर बयान दिया। इनके बयान फिर पाकिस्तानी आतंकवादियों और अलगाववादियों के हौसले बढ़ाने वाले हैं।

  5. हार्डवर्क की अहमियत समझनी होगी हार्वर्ड विशेषज्ञों को

    हार्डवर्क की अहमियत समझनी होगी हार्वर्ड विशेषज्ञों को

    सरकार पर हमला बोलने के लिए कांग्रेस ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय स्तर के अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह और पी. चिदंबरम को उतारा था। दोनों का मानना था कि विकास दर में भारी गिरावट होगी।

  6. अमेठी पर चुप लेकिन बनारस में तीन साल का हिसाब चाहिए

    अमेठी पर चुप लेकिन बनारस में तीन साल का हिसाब चाहिए

    अपनी सत्ता के दस वर्षों का अमेठी में राहुल कोई हिसाब नहीं देते, लेकिन नरेन्द्र मोदी से बनारस के तीन वर्षों का हिसाब अवश्य मांगते हैं। इतना ही नहीं वह अमेठी की बदहाली के लिये मोदी को जिम्मेदार ठहराते हैं।

  7. कश्मीर केंद्रित राजनीति की बलिवेदी पर जम्मू!

    कश्मीर केंद्रित राजनीति की बलिवेदी पर जम्मू!

    विफलताओं पर पर्दा डालने के लिए ऐसा तुगलकी फरमान जारी किया गया जिसका असर जम्मू संभाग के मैदानी जिलों जम्मू, कठुआ व सांबा जिलों तथा पहाड़ी क्षेत्र के कस्बों उधमपुर, कटरा, रियासी, अखनूर, राजौरी तथा पुंछ पर ही पड़ेगा।

  8. रामजस पर हल्ला मचाने वाले केरल पर भी कुछ बोल दें

    रामजस पर हल्ला मचाने वाले केरल पर भी कुछ बोल दें

    आखिर क्यों रामजस महाविद्यालय में अभाविप का कथित हिंसक प्रदर्शन राष्ट्रीय विमर्श का मसला बना दिया गया, जबकि केरल में लगातार राष्ट्रीय विचार से जुड़े युवाओं, महिलाओं एवं बुजुर्गों की हत्याओं पर अजीब किस्म की खामोशी पसरी है?

  9. तीन तलाक मुद्दे पर मुस्लिम देशों से सबक ले भारत

    तीन तलाक मुद्दे पर मुस्लिम देशों से सबक ले भारत

    भारत में भले ही तीन तलाक को खत्म करने पर बहस अब चल रही हो पर पड़ोसी पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान और श्रीलंका समेत 22 देश इसे कब का खत्म कर चुके हैं।

  10. मजहबी वोट के लिए गठबंधन और खुद को कहते हैं धर्मनिरपेक्ष

    मजहबी वोट के लिए गठबंधन और खुद को कहते हैं धर्मनिरपेक्ष

    विडम्बना देखिये कि मोदी के कथन को वह लोग साम्प्रदायिक बता रहे हैं, जिन्होंने मजहबी वोट के लिये गठबंधन किया है, वह लोग जो बुकलेट जारी करके वर्ग विशेष के लिये किये गये कार्यों को गर्व से बता रहे हैं।

  11. हम बोलेगा तो बोलोगे के... (राजनीतिक व्यंग्य)

    हम बोलेगा तो बोलोगे के... (राजनीतिक व्यंग्य)

    अब न किशोर कुमार हैं न प्राण; लेकिन ये गीत पिछले कुछ दिनों से फिर सुनाई देने लगा है। यद्यपि इस बार ये संसद के बाहर बज रहा है और इसे बजाने वाले हैं श्री नरेन्द्र मोदी और राहुल बाबा।

  12. तमिलनाडु के गैर फिल्मी मुख्यमंत्री की राह आसान नहीं

    तमिलनाडु के गैर फिल्मी मुख्यमंत्री की राह आसान नहीं

    आजादी के बाद से ही तमिलनाडू का राजनीतिक इतिहास तमिल सिनेमा के समानान्तर चला है। पिछले साठ सालों का इतिहास गवाह है कि तमिलनाडू में सैल्यूलाइड की छवि से राजनीति में दाखिल होने वाले अभिनेता राजनीति की वैतरणी पार कर गए।

वीडियो