धर्मस्थल

श्री धुष्मेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन से मिलेगा सुख ही सुख

श्री धुष्मेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन से मिलेगा सुख ही सुख

मान्यता है कि धुष्मेश्वर महादेव के दर्शन से सभी पाप दूर हो जाते हैं और जीवन में सुख ही सुख आ जाता है। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना से जुड़ी कथा बड़ी रोचक है।

भगवान पर लेख

शिव पूजा में केतकी पुष्प का निषेध होता है

शिव पूजा में केतकी पुष्प का निषेध होता है

केतकी पुष्प ने भी ब्रह्मा के पक्ष में विष्णु को असत्य साक्ष्य दिया। इस पर भगवान शिव प्रकट हो गये और उन्होंने असत्यभाषिणी केतकी पर क्रुद्ध होकर उसे सदा के लिए त्याग दिया।

व्रत त्योहार

आदि और अंत न होने से अनंत हैं भगवान शिव

आदि और अंत न होने से अनंत हैं भगवान शिव

ज्ञान, बल, इच्छा और क्रिया शक्ति में भगवान शिव के जैसा कोई नहीं है। वे सभी के मूल कारण, रक्षक, पालक तथा नियन्ता होने के कारण महेश्वर कहे जाते हैं। उनका आदि और अंत न होने से वे अनंत हैं।

वीडियो