Prabhasakshi Logo
सोमवार, जुलाई 24 2017 | समय 18:23 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker ImageHPCL के शेयरों की बिक्री पर निगरानी रखने वाली समिति के प्रमुख होंगे जेटलीTicker Imageचीनी सीमा तक दूरी घटाने के लिए सुरंगें बनाएगा बीआरओTicker Imageचीन, पाक पर कोई भी भारत का खुलकर समर्थन नहीं कर रहा: ठाकरेTicker Imageसरकार ने यौन उत्पीड़न शिकायतों के लिए ‘शी बॉक्स’ पोर्टल शुरू कियाTicker Imageलोकसभा में बोफोर्स मामले पर हंगामा, सच्चाई सामने लाने की मांगTicker Imageसरकार गंगा कानून लाने पर कर रही है विचार: उमा भारतीTicker Imageट्रेनों में मिलने वाले खराब भोजन पर राज्यसभा में जतायी गयी चिंताTicker Imageईसी रिश्वत मामले के आरोपी ने हिरासत में हिंसा का आरोप लगाया
    संपूर्ण विश्व में भगवान शंकर की होती है सर्वाधिक पूजा

    संपूर्ण विश्व में भगवान शंकर की होती है सर्वाधिक पूजा

    संपूर्ण विश्व में शिव मंदिर, ज्योतिर्लिंग, स्वयम्भूलिंग से लेकर छोटे−छोटे चबूतरों पर शिवलिंग स्थापित करके भगवान शंकर की सर्वाधिक पूजा की जाती है। भगवान शिव शंकर का परिवार भी बहुत व्यापक है।

    इस प्रकार सृष्टि की रचना की भगवान ब्रह्मा जी ने

    इस प्रकार सृष्टि की रचना की भगवान ब्रह्मा जी ने

    ब्रह्मा जी ने सृष्टि रचने का दृढ़ संकल्प लिया और उनके मन से मरीचि, नेत्रों से अत्रि, मुख से अंगिरा, कान से, पुलस्त्य, नाभि से पुलह, हाथ से कृतु, त्वचा से भृगु, प्राण से वशिष्ठ, अंगूठे से दक्ष तथा गोद से नारद उत्पन्न हुये।

    इस तरह करें हवन, आहुति के लिए यह कुछ चीजें हैं जरूरी

    इस तरह करें हवन, आहुति के लिए यह कुछ चीजें हैं जरूरी

    शास्त्रों के अनुसार वेदी के पांच संस्कार किये जाते हैं। तीन कुशों में वेदी या ताम्र कुण्ड का दक्षिण से उत्तर की ओर परिमार्जन करें। फिर उन कुशों से वेदी या ताम्र कुण्ड को ईशान दिशा में फेंक दें। गोबर और जल से लीपकर पृथ्वी शुद्ध करें।

advertisement