1. भागदौड़ से ऊब कर आराम करना चाहते हैं तो कसौली जाएं

    भागदौड़ से ऊब कर आराम करना चाहते हैं तो कसौली जाएं

    जो लोग रोज की भागदौड़ की जिंदगी से ऊबकर कुछ दिन आराम करना चाहते हैं, उनके लिए कसौली एक आदर्श जगह है। यहां संगठित क्रियाकलाप का पूर्णतया अभाव है। इसलिए ऐसा लगता है मानो समय ठहर गया हो।

  2. दुनिया का सबसे बड़ा किलों का शहर है ''मांडू''

    दुनिया का सबसे बड़ा किलों का शहर है ''मांडू''

    यह दुनिया का सबसे बड़ा किलों का शहर है। किलों ने चारों तरफ से इस शहर को घेर रखा है। यहां की दीवारें आज भी वैसी ही लगती हैं, जैसी 300 साल पहले लगती थीं।

  3. गुलमर्ग में पयर्टकों को मंत्रमुग्ध करने के लिए है बहुत कुछ

    गुलमर्ग में पयर्टकों को मंत्रमुग्ध करने के लिए है बहुत कुछ

    गुलमर्ग में आप खेल−कूद का मजा ले सकते हैं जैसे ट्रैकिंग, मांउटेंन क्लाइबिंग, गोल्फ, गोंडला राइड। गुलमर्ग का ग्रीन गोल्फ कोर्स और गोंडला लिफ्ड राइड पर्यटकों के खास आर्कषण का केंद्र होता है।

  4. बेजोड़ कला का नमूना है विश्व प्रसिद्ध ''ढाई दिन का झोंपड़ा''

    बेजोड़ कला का नमूना है विश्व प्रसिद्ध ''ढाई दिन का झोंपड़ा''

    मूलतः यह महाविद्यालय का भवन था (सरस्वती कण्ठा भरण) किन्तु तराइन के दूसरे युद्ध 1192 में पृथ्वीराज चौहान तृतीय के हार जाने के बाद अजमेर में व्यापक स्तर पर तोड़फोड़ की गई और इस भवन को भी बहुत नुकसान पहुंचाया गया।

  5. धर्मशाला में ठंडी हवाओं के बीच लें पर्यटन का मज़ा

    धर्मशाला में ठंडी हवाओं के बीच लें पर्यटन का मज़ा

    धर्मशाला काफी चौड़े भाग में है। मगर यह दो हिस्से में बंटा है। निचला धर्मशाला 1350 मीटर में फैला है। यह व्यस्त व्यापारिक केंद्र है। ऊपरी धर्मशाला 1830 मीटर में है।

  6. पूरब और पश्चिम की संस्कृति देखने को मिलती है गोवा में

    पूरब और पश्चिम की संस्कृति देखने को मिलती है गोवा में

    पूरब और पश्चिम की संस्कृति और शताब्दियों से धार्मिक गतिविधियों पर नजर डाली जाए, तो गोवा की जीवनशैली पूरे भारत से अलग है। हिंदू और कैथलिक समुदाय मिली−जुली संस्कृति प्रस्तुत करते हैं।

  7. खूबसूरत हिल मुन्नार में पर्यटकों के लिए है बहुत कुछ

    खूबसूरत हिल मुन्नार में पर्यटकों के लिए है बहुत कुछ

    केरल का खूबसूरत हिल स्टेशन है मुन्नार। यहां पर्यटक प्रकृति की खूबसूरती का आनंद ले सकते हैं। मुन्नार को ईश्वर का देश भी कहा जाता है। खूबसूरती ऐसी कि जैसे यह धरती के स्वर्ग की तरह लगता है।

  8. महाराष्ट्र का लोकप्रिय पर्वतीय स्थल है महाबलेश्वर

    महाराष्ट्र का लोकप्रिय पर्वतीय स्थल है महाबलेश्वर

    बंबई प्रसिडेंसी की ग्रीष्मकालीन राजधानी रहे महाबलेश्वर को महाराष्ट्र के सर्वाधिक लोकप्रिय पर्वतीय स्थलों में शुमार किया जाता है। 1372 मीटर की ऊंचाई पर स्थित महाबलेश्वर महाराष्ट्र राज्य का सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित पर्वतीय स्थल भी है जोकि पांच किलोमीटर के घेरे में बसा हुआ है।

  9. एक ऐसा नगर जहां खजाने से धन निकाला नहीं जाता था

    एक ऐसा नगर जहां खजाने से धन निकाला नहीं जाता था

    पुरातन काल में कर्नाटक के विजयनगर में राजाओं का विशेष खजाना स्वर्ण मुद्राओं से भरा रहता था। खजाने में हमेशा धन जमा किया जाता था। वहां से धन कभी निकाला नहीं जाता था।

  10. गर्मियों की छुटि्टयों का लोकप्रिय हिल स्टेशन है कोडईकनाल

    गर्मियों की छुटि्टयों का लोकप्रिय हिल स्टेशन है कोडईकनाल

    कोडईकनाल गर्मी की छुटि्टयों यानी मई-जून के लिए बेहतरीन हिल स्टेशन है। आप विमान या ट्रेन से यहां पहुंच सकते हैं। सड़क मार्ग से भी वहां जाया जा सकता है। उत्तर भारत की बार-बार यात्रा से उकता गए हों, तो आप इस बार दक्षिण का रूख कर सकते हैं।

  11. जीवन के हर रंग देखने को मिलते हैं कोलकाता में

    जीवन के हर रंग देखने को मिलते हैं कोलकाता में

    दरअसल कोलकाता अपने सीने में अंग्रेजों के जुल्म से लेकर बंगाल के विभाजन के दर्द को भी समेटे हुए है। इस शहर की सड़कों पर जीवन की खुशियों से लेकर दरिद्रता की उदासी भी दिखाई देती है।

  12. बोधगया का धार्मिक ही नहीं ऐतिहासिक महत्व भी है

    बोधगया का धार्मिक ही नहीं ऐतिहासिक महत्व भी है

    बोध गया का महाबोधी मंदिर वास्तु शिल्प का बेजोड़ उदाहरण है। मंदिरों को पिरामिड और बेलना आकार में बनाया गया है। 170 फीट ऊंचे इस मंदिर का बेंसमेंट 48 वर्ग फीट का है।

वीडियो