1. महाराष्ट्र का लोकप्रिय पर्वतीय स्थल है महाबलेश्वर

    महाराष्ट्र का लोकप्रिय पर्वतीय स्थल है महाबलेश्वर

    बंबई प्रसिडेंसी की ग्रीष्मकालीन राजधानी रहे महाबलेश्वर को महाराष्ट्र के सर्वाधिक लोकप्रिय पर्वतीय स्थलों में शुमार किया जाता है। 1372 मीटर की ऊंचाई पर स्थित महाबलेश्वर महाराष्ट्र राज्य का सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित पर्वतीय स्थल भी है जोकि पांच किलोमीटर के घेरे में बसा हुआ है।

  2. एक ऐसा नगर जहां खजाने से धन निकाला नहीं जाता था

    एक ऐसा नगर जहां खजाने से धन निकाला नहीं जाता था

    पुरातन काल में कर्नाटक के विजयनगर में राजाओं का विशेष खजाना स्वर्ण मुद्राओं से भरा रहता था। खजाने में हमेशा धन जमा किया जाता था। वहां से धन कभी निकाला नहीं जाता था।

  3. गर्मियों की छुटि्टयों का लोकप्रिय हिल स्टेशन है कोडईकनाल

    गर्मियों की छुटि्टयों का लोकप्रिय हिल स्टेशन है कोडईकनाल

    कोडईकनाल गर्मी की छुटि्टयों यानी मई-जून के लिए बेहतरीन हिल स्टेशन है। आप विमान या ट्रेन से यहां पहुंच सकते हैं। सड़क मार्ग से भी वहां जाया जा सकता है। उत्तर भारत की बार-बार यात्रा से उकता गए हों, तो आप इस बार दक्षिण का रूख कर सकते हैं।

  4. जीवन के हर रंग देखने को मिलते हैं कोलकाता में

    जीवन के हर रंग देखने को मिलते हैं कोलकाता में

    दरअसल कोलकाता अपने सीने में अंग्रेजों के जुल्म से लेकर बंगाल के विभाजन के दर्द को भी समेटे हुए है। इस शहर की सड़कों पर जीवन की खुशियों से लेकर दरिद्रता की उदासी भी दिखाई देती है।

  5. बोधगया का धार्मिक ही नहीं ऐतिहासिक महत्व भी है

    बोधगया का धार्मिक ही नहीं ऐतिहासिक महत्व भी है

    बोध गया का महाबोधी मंदिर वास्तु शिल्प का बेजोड़ उदाहरण है। मंदिरों को पिरामिड और बेलना आकार में बनाया गया है। 170 फीट ऊंचे इस मंदिर का बेंसमेंट 48 वर्ग फीट का है।

  6. कुतुब मीनार देखा तो होगा पर इसके बारे में यह जानते हैं?

    कुतुब मीनार देखा तो होगा पर इसके बारे में यह जानते हैं?

    इस स्तंभ का समय चौथी शताब्दी निर्धारित किया गया है। यह स्तंभ किसी और स्थान से यहां लाया गया था क्योंकि इस स्थल पर चौथी शताब्दी की अन्य धरोहर नहीं है। यह लाट किस−किस धातु की बनी हुई है इसके लिए भिन्न राय है।

  7. पीसा की झुकी मीनार पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र

    पीसा की झुकी मीनार पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र

    विश्व की प्रसिद्ध और आश्चर्यजनक पीसा की झुकती मीनार को सुरक्षित बचाने के लिए बनाई गई परियोजना का उद्देश्य है कि मीनार के झुकाव को आधे अंश तक कम कर दिया जाए।

  8. अध्यात्मिक ही नहीं प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है गंगोत्री

    अध्यात्मिक ही नहीं प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है गंगोत्री

    गंगोत्री के प्राकृतिक सौंदर्य की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। यह स्थान अनुपम प्राकृतिक सौंदर्य के लिए जाना जाता है। यात्रा पर आए सैलानियों को यहां का अलौकिक सौंदर्य मंत्रमुग्ध कर देता है।

  9. अपने गौरवशाली इतिहास को दर्शाता शहर भरतपुर

    अपने गौरवशाली इतिहास को दर्शाता शहर भरतपुर

    भरतपुर का इतिहास थोड़ा अलग है। यह राज्य एक जाट शासक द्वारा बसाया गया था। यहां चूड़ामन, बदन सिंह और सूरजमल जैसे वीरों ने राज किया जिनकी वीरता का लोहा मुगल, मराठे व अंग्रेज भी मानते थे।

  10. वास्तुकला का अद्भुत नमूना है लखनऊ की भूल भुलैया

    वास्तुकला का अद्भुत नमूना है लखनऊ की भूल भुलैया

    भूल भुलैया की दीवारें, छतें और एक-एक ईंट इस बात की गवाह है कि अवध के नवाब गीत गजल नृत्य के ही नहीं बल्कि वास्तुकला के भी मुरीद थे। भूल भुलैया की लम्बाई 183 फुटए चौड़ाई 53 फुट और ऊंचाई 50 फुट के करीब बताई जाती है।

  11. जानते हैं भारत में ''चन्द्रभूमि'' किसे कहा जाता है?

    जानते हैं भारत में ''चन्द्रभूमि'' किसे कहा जाता है?

    लद्दाख, जिसे ‘चन्द्रभूमि’ का नाम भी दिया जाता है सचमुच चन्द्रभूमि ही है। यहां पर धर्म को अधिक महत्व दिया जाता है। लेह में कितने स्तूपा हैं, कोई गिनती नहीं है। कहीं-कहीं पर इनकी कतारें नजर आती हैं।

  12. कश्मीर में रमणीक स्थलों की सूची बहुत लंबी है

    कश्मीर में रमणीक स्थलों की सूची बहुत लंबी है

    दो-चार दिन का कार्यक्रम बना कर कश्मीर आने वाले अपने कार्यक्रम में बदलाव कर इसे 7 से 8 दिनों तक ले जाने लगे हैं। कारण स्पष्ट है कि कश्मीर में सिर्फ राजधानी शहर श्रीनगर ही खूबसूरत नहीं है बल्कि खूबसूरत और रमणीक स्थलों की सूची लंबी है।

वीडियो