Prabhasakshi Logo
शुक्रवार, जुलाई 28 2017 | समय 08:12 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageलालू यादव ने कहा- नीतीश कुमार तो भस्मासुर निकलेTicker Imageबिहार में जो हुआ वो लोकतंत्र के लिये शुभ संकेत नहीं: मायावतीTicker Imageलोकसभा में राहुल गांधी ने आडवाणी के पास जाकर बातचीत कीTicker Imageप्रधानमंत्री ने रामेश्वरम में कलाम स्मारक का उद्घाटन कियाTicker Imageकेंद्र ने SC से कहा- निजता का अधिकार मूलभूत अधिकार नहींTicker Imageसंसद के दोनों सदनों में भाजपा का समर्थन करेंगे: जद (यू)Ticker Imageकर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एन धरम सिंह का निधनTicker Imageसरकार गौ रक्षकों के मसले पर चर्चा कराने को तैयार: अनंत

स्थल

गुलमर्ग में पयर्टकों को मंत्रमुग्ध करने के लिए है बहुत कुछ

By ईशा | Publish Date: May 17 2017 2:49PM
गुलमर्ग में पयर्टकों को मंत्रमुग्ध करने के लिए है बहुत कुछ

कश्मीर से 56 किलोमीटर दूर खूबसूरत हिल स्टेशन है गुलमर्ग। यह हर किसी का पसंदीदा पर्यटन स्थल है। गुलमर्ग जम्मू−कश्मीर राज्य की खूबसूरती में जादू बिखेरने वाला स्थल है। गुल मतलब 'फूल' है। गुलमर्ग को फूलों का मैदान कहते हैं। यहां आप रंग−बिरंगे विविध फूल जैसे ब्लूबेल्स, डेजी, फारगेट−मी−नॉट और बटरकप देख सकते हैं। समुद्रतल से 2730 मीटर ऊपर गुलमर्ग खूबसूरती की मिसाल है। यहां की चोटियां बर्फ से ढंकी होने के कारण खूबसूरती का अद्भुत दृश्य पेश करती हैं।

गुलमर्ग को गौरीमर्ग भी कहते हैं। कहा जाता है कि गुलमर्ग में मां गौरी ने भगवान शिव के लिए खड़े रह कर तपस्या की थी। गुलमर्ग में हिमालय की बेहद खूबसूरत चोटियां हैं, जो बर्फ से ढंकने के बाद कुछ अलग ही नजारा प्रस्तुत करती हैं। सर्दियों के दिनों में जब गुलमर्ग में चारों तरफ बर्फ ही बर्फ होती है, तो यह जगह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन जाती है। दूर−दूर से पर्यटक गुलमर्ग में हो रही बर्फबारी का आनंद लेने आते हैं। 1927 में ब्रिटिश शासकों ने गुलमर्ग को अपना हिल रिसार्ट बनाया था।
 
गुलमर्ग चारों तरफ से घने जंगलों और बड़े−बड़े शंकु वृक्ष (कानीफर) से घिरा है। गुलमर्ग का फूलों का मैदान दुनिया भर में प्रसिद्ध है जिसे मुगल और ब्रिटिश शासकों की पसंदीदा जगह माना जाता था। गुलमर्ग का खूबसूरत सूर्योदय और सूर्यास्त दर्शनीय है। दोनों ही बेला में पर्यटक इसके विस्मयकारी दृश्य को दिलों में संजो लेते हैं। यहां का वातावरण हर किसी को आकर्षित कर लेता है। ठंड के दौरान यहां बर्फबारी के कारण स्कीइंग प्रेमियों के लिए सबसे बेहतरीन ढलान बनती है।
 
गुलमर्ग में आप खेल−कूद का मजा ले सकते हैं जैसे ट्रैकिंग, मांउटेंन क्लाइबिंग, गोल्फ, गोंडला राइड। गुलमर्ग का ग्रीन गोल्फ कोर्स और गोंडला लिफ्ड राइड पर्यटकों के खास आर्कषण का केंद्र होता है। स्कीइंग प्रेमियों के लिए गुलमर्ग सबसे बेहतर जगह है। दिसम्बर से लेकर अप्रैल तक यहां बर्फ जमी होती है। इसीलिए स्कीइंग के लिए यहां बेहतरीन विकल्प दिए जाते हैं। आधुनिक सुविधाएं जैसे स्कीलिफ्ट, चेयर केबल कार और रोपवे गुलमर्ग में मौजूद है। बर्फ पर हॉकी (आइस हॉकी) और बर्फ पर स्केटिंग (आइस स्केटिंग) भी अब गुलमर्ग में होने लगी है।
 
हाल ही में शुरू हुई गोंडला राइड आपको गुलमर्ग की पहाड़ों की चोटियों के ऊपर तक ले जाती है और वहां से आप गुलमर्ग का खूबसूरत नजारा देख सकते हैं। गुलमर्ग से आप पोनी की सवारी कर किलामर्ग, कांगडोरी और सेवन स्प्रींग जा सकते हैं। गुलमर्ग से थोड़ा नीचे पवित्र स्थल बाबा रेशी का मकबरा है, जो एक संत थे। किलनमर्ग गुलमर्ग का सबसे महत्वपूर्ण स्कीइंग केंद्र है। गुलमर्ग का सबसे पसंदीदा खेल है स्कीइंग, ट्रेकिंग और हेलिसकिंग। हेलिसकिंग ऐसा खेल है जिसमें हेलिकॉप्टर से व्यक्ति को पसंदीदा जगह पर आगे जाने के लिए उतार दिया जाता है।
 
गुलमर्ग की सबसे खूबसूरत जगह है बायोस्फेयर रिजर्व और एलपैथर झील। अपर्वत पहाड़ पर बनी यह झील बेहद खूबसूरत दृश्य प्रस्तुत करती है। जून के महीने में भी यहां बर्फ जमी रहती है। इस पहाड़ से धीरे−धीरे पिघलती बर्फ इस झील की खूबसूरती को और भी बेहतर बनाती है, जिसे देखने के लिए देश−विदेश से पर्यटक आते है। आप गुलमर्ग जाएं तो इस झील का नजारा देखना न भूलें।
 
गुलमर्ग ऐसा हिल स्टेशन है, जिसे देखने आप पूरे साल कभी भी वहां जा सकते हैं। अगर आप स्कीइंग के शौकीन हैं, तो ठंड में इसका मजा ले सकते हैं। कुछ साहसिक खेल का आनंद लेना हो तो स्नोफॉल के बाद जा सकते हैं यानी दिसम्बर से अप्रैल तक। पर अपने गर्म कपड़े ले जाना न भूलें। आप हवाई यातायात और रेल यातायात से गुलमर्ग पहुंच सकते हैं।
 
ईशा