Prabhasakshi Logo
शुक्रवार, जुलाई 28 2017 | समय 08:05 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageलालू यादव ने कहा- नीतीश कुमार तो भस्मासुर निकलेTicker Imageबिहार में जो हुआ वो लोकतंत्र के लिये शुभ संकेत नहीं: मायावतीTicker Imageलोकसभा में राहुल गांधी ने आडवाणी के पास जाकर बातचीत कीTicker Imageप्रधानमंत्री ने रामेश्वरम में कलाम स्मारक का उद्घाटन कियाTicker Imageकेंद्र ने SC से कहा- निजता का अधिकार मूलभूत अधिकार नहींTicker Imageसंसद के दोनों सदनों में भाजपा का समर्थन करेंगे: जद (यू)Ticker Imageकर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एन धरम सिंह का निधनTicker Imageसरकार गौ रक्षकों के मसले पर चर्चा कराने को तैयार: अनंत

राष्ट्रीय

उत्तराखंड के साथ भेदभाव बंद करे केन्द्र सरकारः रावत

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 5 2017 4:44PM
उत्तराखंड के साथ भेदभाव बंद करे केन्द्र सरकारः रावत

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केन्द्र की मोदी सरकार पर उत्तराखंड के साथ विभिन्न मामलों में सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुये आज कहा कि केन्द्र के इस व्यवहार से राज्य के विकास कार्यों में बाधा खड़ी हो रही है। केन्द्र दूसरे राज्यों के लिये अलग मानदंड जबकि उत्तराखंड के लिये अलग मानदंड अपना रहा है। मोदी सरकार की उत्तराखंड के प्रति जनविरोधी नीतियों एवं मानसिकता के खिलाफ यहां जंतर मंतर पर सत्याग्रह व उपवास का आयोजन किया गया था। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुये कहा कि केन्द्र उत्तराखंड के विकास में बाधा खड़ी कर रहा है। पारिस्थितिकीय लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र (इकोसिंसिटिव जोन) के मामले में उत्तराखंड के लिये अलग मानदंड अपनाये जा रहे हैं जबकि हिमाचल प्रदेश और दूसरे प्रदेशों के लिये अलग मानदंड रखे गये हैं।

 
रावत ने कहा कि उत्तराखंड के क्षेत्रीय मास्टर प्लान को केन्द्र सरकार तुरंत मंजूरी दे। उन्होंने कहा, ‘‘क्षेत्रीय मास्टर प्लान को खारिज करने के आदेश को केन्द्र तुरंत वापस ले। राज्य सरकार द्वारा भारत सरकार को भेजे गये भगीरथी ईको-सेंसिटिव जोन के क्षेत्रीय मास्टर प्लान को यथावत रखते हुये तुरंत मंजूरी दी जाये।’’ रावत ने कहा कि जिस प्रकार हिमाचल प्रदेश सहित दूसरे पहाड़ी राज्यों को पर्यावरण मानकों में छूट दी गई है, ‘‘पश्चिमी घाट पारिस्थितिकीय संवेदनशील क्षेत्र’’ में महाराष्ट्र को दी गई है, उसी प्रकार उत्तराखंड को भी दी जानी चाहिये। उन्होंने कहा कि अन्य प्रदेशों की तरह उत्तराखंड को भी 25 मेगावाट क्षमता तक की जलविद्युत परियोजनाओं के लिये अनुमति दी जानी चाहिये ताकि राज्य का तेजी से विकास हो सके।
 
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने मोदी सरकार को नोटबंदी के मुद्दे पर आड़े हाथों लिया और कहा कि इससे राज्य को 1,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ, लेकिन केन्द्र ने कोई सहायता नहीं पहुंचाई। गरीब परिवारों को सस्ता गेहूं उपलब्ध कराने के लिये भी राज्य को स्वयं 350 करोड़ रुपये की व्यवस्था करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय में राज्य में लगाये गये आईडीपीएल और एचएमटी कारखानों को फिर से खड़ा करने के बजाय केन्द्र सरकार ने बंद करने का फैसला किया है। यह उत्तराखंड के साथ सरासर अन्याय है। इस अवसर पर उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, प्रदेश के राज्य मंत्री धीरेंद्र प्रताप सिंह सहित अनेक मंत्री और कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 
किशोर उपाध्याय ने कहा कि राज्य सरकार पर्यावरण कानूनों का पालन कर रही है और इसके लिये उसे केन्द्र से ग्रीन बोनस मिलना चाहिये। उन्होंने कहा कि पहाड़ी राज्य होने के नाते पानी, वन और भूमि यही उसकी सबसे बड़ी संपत्ति हैं। राज्य को टिहरी बांध सहित वहां लगने वाली सभी बिजली परियोजनाओं और जल संपत्ति के प्रशासन और नियंत्रण का अधिकार मिलना चाहिये।