Prabhasakshi Logo
रविवार, अगस्त 20 2017 | समय 05:44 Hrs(IST)
ब्रेकिंग न्यूज़
Ticker Imageशरद यादव अपने बारे में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्रः नीतीशTicker Imageएनडीए का हिस्सा बना जदयू, अमित शाह ने किया स्वागतTicker Imageमुजफ्फरनगर के पास पटरी से उतरी उत्कल एक्सप्रेस, 6 मरे, 50 घायलTicker Imageटैरर फंडिंगः कश्मीरी कारोबारी को एनआईए हिरासत में भेजा गयाTicker Imageमहाराष्ट्र के सरकारी विभागों में भर्ती के लिए होगा पोर्टल का शुभारंभTicker Imageकॉल ड्रॉप को लेकर ट्राई सख्त, 10 लाख तक का जुर्माना लगेगाTicker Imageआरोपों से व्यथित, उचित समय पर जवाब दूंगा: नारायणमूर्तिTicker Imageबोर्ड ने सिक्का के इस्तीफे के लिए नारायणमूर्ति को जिम्मेदार ठहराया

उत्तर प्रदेश

ओवैसी कैराना से शुरू करेंगे उप्र चुनाव प्रचार अभियान

By admin@PrabhaSakshi.com | Publish Date: Jan 11 2017 1:53PM
ओवैसी कैराना से शुरू करेंगे उप्र चुनाव प्रचार अभियान

मुजफ्फरनगर। ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) यहां निकटवर्ती शामली जिले में कैराना से शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए अपना प्रचार अभियान शुरू करेगी। पार्टी प्रवक्ता शादाब चौहान ने मंगलवार शाम शामली में कहा कि एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी अपने पार्टी उम्मीदवार के समर्थन में 13 जनवरी को एक चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए कैराना विधानसभा सीट से मसीउल्लाह समेत अपने 11 उम्मीदवारों की एक सूची जारी की है। प्रवक्ता ने कहा कि एआईएमआईएम पिछड़े वर्गों एवं दलितों समेत समाज के वंचित तबकों संबंधी मुद्दे उठाएगी।

 
इस बीच मुजफ्फरनगर जिले के अधिकारियों ने 11 फरवरी को पहले चरण के तहत छह विधानसभा क्षेत्रों में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए सुरक्षा इंतजाम करने शुरू कर दिए हैं। शहर के पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह ने बताया कि अर्धसैन्य बलों की 80 कंपनियां तैनात की जाएंगी। कैराना पिछले साल उस समय सुर्खियों में आया था जब भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने हिंदू परिवारों की एक सूची जारी करके दावा किया था कि ये परिवार ‘‘एक विशेष समुदाय के आपराधिक तत्वों की ओर से खतरा पैदा होने एवं जबरन वसूली के कारण अपने घर छोड़कर चले गए हैं।’’
 
राजनीतिक दलों, विशेषकर कांग्रेस एवं समाजवादी पार्टी ने राज्य विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में साम्प्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश करने को लेकर भाजपा की निंदा की है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के जांच दल ने बाद में सितंबर में पाया था कि कई परिवार ‘‘अपराध बढ़ने’’ से पैदा हुए खतरों एवं वहां कानून व्यवस्था के हालात ‘‘खराब’’ होने के कारण ‘‘पलायन’’ कर गए हैं।