30 घंटे का सफर तय करके अमेरिका पहुंचे अभिनेता अंशुमान, लॉकडाउन में प्रेमिका से की सगाई

30 घंटे का सफर तय करके अमेरिका पहुंचे अभिनेता अंशुमान, लॉकडाउन में प्रेमिका से की सगाई

इसलिए 30 जून को वह अपनी प्रेमिका के साथ रहने के लिए अमेरिका गए और दोनों ने सगाई की अंगूठियों का आदान-प्रदान किया। वह इस साल की शुरुआत में 3 महीने के लिए भारत आई थी जब अंशुमन ने अपनी माँ को खो दिया था।

1 मार्च से 29 जून तक घर पर क्वारंटाइन में 102 दिन - अंशुमान झा ने वेदों को पढ़ा, बड़े पैमाने पर खाना भी बनाया और उनका नया वेब शो मस्तराम को 400 मिलियन से अधिक बार देखा गया। यह भारतीय ओटीटी के इतिहास की सबसे बड़ी वेब श्रृंखला बन गई। लेकिन इस जनवरी में अपनी मां को खो देने वाले अभिनेता को घर पर अकेले यह मुश्किल लग रहा था। इसलिए 30 जून को वह अपनी  प्रेमिका के साथ रहने के लिए अमेरिका गए और दोनों ने सगाई की अंगूठियों का आदान-प्रदान किया। वह इस साल की शुरुआत में 3 महीने के लिए भारत आई थी जब अंशुमन ने अपनी माँ को खो दिया था। अंशुमन, जो हमेशा अपने निजी जीवन के बारे में बहुत शांत रहे है, पिछले एक साल से अपने साथी के साथ गुप्त चित्रों को पोस्ट कर रहे थे। और हाल ही में एक और पोस्ट किया जिसमे लिखा था 'गॉन बॉय' और दोनों एक दुसरे का हाथ थामे हुए है सगाई की अंगूठियां के साथ।

इसे भी पढ़ें: द एकेडमी के नए वीडियो में नजर आए दिवंगत इरफान खान, देख कर इमोशनल हुए फैन्स

अंशुमन 30 घंटे तक पीपीई किट में थे, किसी भी सार्वजनिक शौचालय का उपयोग नहीं किया और न ही उन्होंने यात्रा की अवधि में कुछ खाया केवल घर से लाये कुछ ड्राई फ्रूट्स खाए। अंशुमन ने दो सप्ताह के लिए नॉर्थ कैरोलिना में घर पर ज़िम्मेदारी से खुद को क्वारंटाइन किया था। उसके बाद ही 15 जुलाई को पहाड़ों में ट्रेक के लिए प्रस्थान किया।

इसे भी पढ़ें: सुशांत के केस में भूत वाला एंगल! इन तीन लोगों ने कहा- रिया मैडम को घर में आत्मा दिखाती थी

अंशुमन ने कहा, "मैं बस आभारी हूं कि मैं उसके साथ रहने के लिए मैं यहाँ तक पहुंच सका हूं। यह यात्रा एक साहसिक कार्य था, जेएफके हवाई अड्डा एक सई-फाई फिल्म के सेट की तरह महसूस हो रहा था - पूरी तरह से खाली। इस बार की यात्रा एक 'तपस्या' की तरह महसूस हुई। वह कभी मुझसे पूछती है कि मैं उससे कितना प्यार करता हूं, मैं उसे पीपीई सूट में अपनी तस्वीर दिखाता हूं।”

अंशुमन ने आगे कहा, "मैं धर्मशाला में सिएरा से मिला था, जब मैं कैंसर से पीड़ित अपनी मां के लिए तिब्बती दवा लेने के लिए गया था। इस बात को एक साल से अधिक समय हो गया है। सिएरा ड्यूक विश्वविद्यालय से फ़ूड साइंस मेजर है और एक ट्राइथलॉन एथेलेट भी है। वह आखिरी बार भारत में पिछले वर्ष दिसंबर से मार्च तक मेरा साथ देने के लिए और मेरी माँ को देखने के लिए थी।

ज़रीन खान के साथ अंशुमान झा की अगली फिल्म 'हम भी अकेले, तुम भी अकेले' जल्द ही ओटीटी पर रिलीज़ होने वाली है और वह अगस्त में वापस लौटेंगे।