Cannes 2022: कान में ऐश्वर्या राय के 20 साल पूरे, फैशन डिजाइनर गौरव गुप्ता ने यादगार बनाया इवेंट

Aishwarya Rai
ani
फैशन डिजाइनर गौरव गुप्ता का कहना है कि वह कान फिल्म महोत्सव में अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन के 20 साल पूरे होने के मौके को एक खास यादगार लम्हा बनाना चाहते थे और इसने उन्हें पूर्व विश्व सुदरी को एक नयी अवधारणा के साथ ‘‘सौंदर्य की देवी’’ के रूप में पेश करने के लिए प्रेरित किया।

नयी दिल्ली। फैशन डिजाइनर गौरव गुप्ता का कहना है कि वह कान फिल्म महोत्सव में अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन के 20 साल पूरे होने के मौके को एक खास यादगार लम्हा बनाना चाहते थे और इसने उन्हें पूर्व विश्व सुदरी को एक नयी अवधारणा के साथ ‘‘सौंदर्य की देवी’’ के रूप में पेश करने के लिए प्रेरित किया। गौरव गुप्ता द्वारा डिजाइन किए गए गाउन को बनाने में 20 दिन और 100 से अधिक कारीगर लगे। अभिनेत्री खुद भी इसे बनाने की प्रक्रिया में शामिल थीं।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान जाइए और दाऊद को पकड़ कर लाइए, संजय राउत ने नवाब मलिक और डी कंपनी के संबंध पर दिया बयान

ऐश्वर्या ने कान फिल्म महोत्सव के तीसरे दिन ‘‘आर्मगेडन टाइम’’ के प्रीमियर के लिए गौरव की ‘कस्टम-मेड क्वीन पिंक स्कल्प्टेड क्रिएशन’ पहनी थी, जबकि महोत्सव के दूसरे दिन उन्होंने काले रंग की पोशाक चुनी थी। गौरव ने कान से टेलीफोन पर ‘पीटीआई-भाषा’ को दिये एक साक्षात्कार में बताया, ‘‘ऐश्वर्या बेहद खूबसूरत हैं और उनमें नारी की सम्पूर्ण झलक दिखती है। इस पूरी यात्रा में मैंने उन्हें करीब से जाना है जो अद्भुत और आध्यात्मिक हैं। उनकी खूबसूरती ने मुझे ‘बर्थ ऑफ वीनस’ की अवधारणा के बारे में सोचने के लिए प्रेरित किया।’’ ऐश्वर्या ने पहली बार 2002 में अपनी फिल्म ‘देवदास’ के प्रीमियर के लिए कान फिल्म समारोह में भाग लिया था। सौंदर्य प्रसाधन ब्रांड लॉरियल की ग्लोबल एंबेसडर के रूप में वह पिछले दो दशक से हर साल कान का हिस्सा बनती रही हैं। अपनी इस लंबी यात्रा के दौरान उन्होंने रेड कार्पेट पर शानदार उपस्थिति दर्ज करायी है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने पूर्वोत्तर में ‘भ्रष्टाचार की संस्कृति’ को समाप्त किया: अमित शाह

दिल्ली के डिजाइनर गुप्ता अपने प्रयोगात्मक मूर्तिकला (स्कल्प्टेड) से प्रेरित डिजाइनों के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम कुछ ऐसा चाहते थे जो आशा, जीवन और सुंदरता को दर्शाता हो। पिछले कुछ वर्षों में पूरी दुनिया जिस दौर से गुजरी है, ऐसे में हम जीवन और कला का जश्न मनाना चाहते थे।’’ गौरव ने कहा कि पोशाक बनाना एक विस्तृत प्रक्रिया है, जिसमें कई दिनों की कड़ी मेहनत शामिल होती है। उन्होंने कहा कि वह ‘‘दुनिया की सबसे खूबसूरत महिलाओं में से एक’’ को अपने डिजाइन से निराश नहीं करना चाहते थे। यह पूछे जाने पर कि क्या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने का उन पर दबाव था, गौरव ने कहा कि वह बस अपनी सहज प्रवृत्ति के साथ गए थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़