डांसर सपना चौधरी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, जानें- क्या है पूरा मामला

डांसर सपना चौधरी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, जानें- क्या है पूरा मामला

लखनऊ की अदालत ने सपना चौधरी के खिलाफ एक कार्यक्रम को मनमाने तरीके से रद्द करने और टिकट खरीदने वालों को उनका धन वापस नहीं करने के मामले में को गिरफ्तारी वारंट जारी किया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शांतनु त्यागी की अदालत ने यह वारंट जारी करते हुए मामले की अगली सुनवाई की तारीख 22 नवंबर नियत की है।

लखनऊ। हरियाणा की डांसर और बिग बॉस स्टार सपना चौधरी की जिंदगी हमेशा से ही विवादों का सामना कर रही हैं। उनके काम को लेकर उन्हें समाज में कई बार अपशब्द कहें लेकिन उन्होंने धीरे-धीरे करके सभी के मुंह पर ताला लगा दिया। ाज सपना के करोड़ों फैंस उनकी एक झलक पाने के लिए तरसते हैं। लोग उनके ठुमकों के दीवाने हैं। सपना चौधरी इस समय शादी करके अपने पति के साथ अपनी शादीशुदा लाइफ को एंजोय कर रही हैं लेकिन ताजा रिपोर्ट के मुताबिक उनकी मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं।

इसे भी पढ़ें: फैंस जिस कपल के प्यार की खाते थे कसमें, वो रिश्ता हुआ खत्म! अलग हुए शॉन मेंडेस और कैमिला कैबेलो 

सपना चौधरी के लिए गिरफ्तारी वारंट जारी

लखनऊ की एक अदालत ने मशहूर नृत्यांगना सपना चौधरी के खिलाफ एक कार्यक्रम को मनमाने तरीके से रद्द करने और टिकट खरीदने वालों को उनका धन वापस नहीं करने के मामले में बुधवार को गिरफ्तारी वारंट जारी किया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शांतनु त्यागी की अदालत ने यह वारंट जारी करते हुए मामले की अगली सुनवाई की तारीख 22 नवंबर नियत की है। दारोगा फिरोज खान ने 14 अक्टूबर 2018 को इस सिलसिले में आशियाना थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। इस मुकदमे में सपना के अलावा कार्यक्रम के आयोजक जुनैद अहमद, नवीन शर्मा, इवाद अली, अमित पांडे और रत्नाकर उपाध्याय को भी आरोपी बनाया गया था।

इसे भी पढ़ें: आइए जानते हैं बॉलीवुड की इन सेलेब्रिटीज के कैसे हैं अपने परिवार से रिश्ते 

यह है पूरा मामला 

मुकदमे में आरोप है कि नृत्यांगना सपना चौधरी को 13 अक्टूबर 2018 को स्मृति उपवन में अपराह्न तीन बजे से रात 10 बजे तक कार्यक्रम पेश करना था। इसके लिए 300 रुपये प्रति टिकट की दर से टिकट बेचे गए थे। कार्यक्रम के लिए स्मृति उपवन में हजारों की संख्या में लोग आए थे लेकिन जब सपना रात 10 बजे तक कार्यक्रम स्थल पर नहीं पहुंचीं तो भीड़ ने टिकट का धन वापस देने की मांग को लेकर हंगामा किया था। हालांकि, उन्हें पैसे वापस नहीं किये गए। अदालत इस प्रकरण में मामला खत्म करने के अनुरोध वाली सपना चौधरी की याचिका को पहले ही खारिज कर चुकी है। अब अदालत सपना तथा इस मामले के अन्य अभियुक्तों के खिलाफ आरोप तय करेगी।