नेशनल अवॉर्ड मिलने पर आयुष्मान खुराना ने कही दिल की बात

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 12 2019 5:52PM
नेशनल अवॉर्ड मिलने पर आयुष्मान खुराना ने कही दिल की बात
Image Source: Google

अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना है कि विश्वसनीय निर्देशकों के साथ काम करने की उनकी लालसा और हिंदी सिनेमा में नई तरह की कहानियों में काम करने से उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने में मदद की। श्रीराम राघवन की फिल्म ‘अंधाधुन’ और अमित शर्मा निर्देशित फिल्म ‘बधाई हो’ में खुराना मुख्य भूमिका में थे और ये दोनों ही फिल्में 2018 की बड़ी फिल्म साबित हुई थीं।

मुंबई। अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना है कि विश्वसनीय निर्देशकों के साथ काम करने की उनकी लालसा और हिंदी सिनेमा में नई तरह की कहानियों में काम करने से उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने में मदद की। श्रीराम राघवन की फिल्म ‘अंधाधुन’ और अमित शर्मा निर्देशित फिल्म ‘बधाई हो’ में खुराना मुख्य भूमिका में थे और ये दोनों ही फिल्में 2018 की बड़ी फिल्म साबित हुई थीं।



इन फिल्मों ने अभिनेता को बॉक्स ऑफिस पर लगातार अच्छी कमाई और अच्छा अभिनय करनेवाले अभिनेताओं में शामिल कर दिया। ‘बधाई हो’ को सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म के रूप में राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया।‘अंधाधुन’ के लिए खुराना को विक्की कौशल के साथ सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए चुना गया। विक्की कौशल को ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ के लिए चुना गया है। 

इसे भी पढ़ें: बुनकर ने जीता राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, निर्देशक बोले- भारतीय विरासत को बचाना सबका दायित्व

अभिनेता ने कहा कि कुछ सामान्य और अलग करने की इच्छा ने सफलता में मेरी मदद की। मैं हमेशा से कुछ ऐसा करना चाहता था जो सिनेमा जगत में पहले नहीं हुआ है। जब लोग ट्रेलर देखें तो ऐसा महसूस करें ‘यह कुछ ऐसा है जिसे मैंने पहले कभी नहीं देखा।’और इसके अलावा मैं हमेशा विश्वसनीय निर्देशकों के साथ काम करना चाहता था। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे सिनेमा उद्योग में स्थापित हैं या नहीं।’’
अभिनेता को जब राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुने जाने की जानकारी मिली तो उस समय वह एक विज्ञापन की शूटिंग कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी भावनाएं जाहिर करने का मौका ही नहीं मिल पाया और अभी भी वह उसी खयाल में हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह एक ऐसा पुरस्कार है जिसकी घोषणा सार्वजनिक तौर पर की जाती है। यह किसी अन्य पुरस्कार की तरह नहीं है जहां आप दर्शकों के बीच बैठे हों और वहीं आपको इसकी जानकारी मिले। वहां आप तैयार होते हैं। लेकिन इस पुरस्कार के लिए मैं तैयार नहीं था।’’ अभिनेता ने बताया कि इस पुरस्कार के लिए चुने जाने के बाद उनके पिता ने भावुक होते हुए उन्हें फोन किया। एक पारिवारिक रात्रिभोज का आयोजन हुआ। 
 



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप