मनोज बाजपेयी ने कहा-स्थानीय लोगों और प्रवासियों के बीच के द्वंद की कहानी है ‘भोंसले’

मनोज बाजपेयी ने कहा-स्थानीय लोगों और प्रवासियों के बीच के द्वंद की कहानी है ‘भोंसले’

फिल्म ने एशियन फिल्म फेस्टिवल बार्सिलोना में दो पुरस्कार और एशिया पैसिफिक स्क्रीन अवार्ड्स में मनोज के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता। भोंसले को मनोज बाजपेयी प्रोडक्शंस, गोल्डन रेशियो फिल्म्स और प्रोमोडोम मोशन पिक्चर्स द्वारा सह-निर्मित किया गया है।

मुंबई। देवाशीष मखीजा की लंबे समय से विलंबित फिल्म भोंसले सोनीलिव पर 26 जून को रिलीज हो गयी। मुंबई में सेट, फिल्म में मनोज बाजपेयी को एक टर्मिनली बीमार महाराष्ट्रीयन पुलिस के रूप में दिखाये गये है जो एक प्रवासी लड़की और उसके भाई को स्थानीय राजनीतिज्ञ से बचाने की कोशिश करते है।भोंसले का प्रीमियर बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2018 में हुआ। यह MAMI मुंबई फिल्म फेस्टिवल और 2019 इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल रॉटरडैम में भी प्रदर्शित किया गया।

 

इसे भी पढ़ें: ऋचा चड्ढा और अली फजल ने मैगजीन कवर के लिए ब्राइड लुक में कराया फोटोशूट, देखें तस्वीरें 

फिल्म ने एशियन फिल्म फेस्टिवल बार्सिलोना में दो पुरस्कार और एशिया पैसिफिक स्क्रीन अवार्ड्स में मनोज के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता। भोंसले को मनोज बाजपेयी प्रोडक्शंस, गोल्डन रेशियो फिल्म्स और प्रोमोडोम मोशन पिक्चर्स द्वारा सह-निर्मित किया गया है। कलाकारों में संतोष जुवेकर, इप्शिता चक्रवर्ती, अभिषेक बनर्जी, राजेंद्र सिसादकर और विराट वैभव शामिल हैं। देवाशीष ने फीचर फिल्मों ओंगा और आजी का निर्देशन किया है।

 

इसे भी पढ़ें: आमिर खान के यहां भी पहुंचा कोरोना वायरस! घर के इस मैंबर को हुआ संक्रमण, लोग कर रहे हैं दुआ

 

अभिनेता मनोज बाजपेयी का मानना ​​है कि शायद ही कोई देश है जहां स्थानीय लोगों और प्रवासियों के बीच तनाव नहीं ना देखने को मिले और उनकी आगामी फिल्म ‘भोंसले’ की कहानी इसी द्वंद के इर्द गिर्द घूमती है। देवाशीष मखीजा के निर्देशन में बनी यह फिल्म मुंबई की पृष्ठभूमि पर है जिसकी कहानी एक सेवानिवृत्त पुलिस कांस्टेबल पर केंद्रित है जो प्रवासियों को स्थानीय नेताओं के खिलाफ आवाज उठाने में मदद करता है। बाजपेयी का कहना है कि इस फिल्म में साम्प्रदायिक भेदभाव, क्षेत्रीय भेदभाव और महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे समसामायिक मुद्दों के बारे में प्रभावशाली संदेश है।

बाजपेयी ने एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘यह फिल्मक्षेत्र और धर्म की तर्ज पर विभाजित हमारी सामाजिक प्रणाली के बारे में बात करती है। यह महिलाओं की सुरक्षा, अकेलेपन और बुजुर्ग लोगों की सेवानिवृत्ति के बाद की स्थिति के बारे में बात करती है। यह प्रवासियों के मुद्दों के बारे में भी बात करती है।” अभिनेता ने कहा कि ‘‘भोंसले’’ का उद्देश्य दर्शकों को इस विभाजित समाज में लोगों के व्यवहार के बारे में दिखाना है। 2018 में बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में ‘‘भोंसले’’ का प्रीमियर हुआ और कई अन्य समारोहों में प्रदर्शित किए जाने के बाद अब इस फिल्म का प्रसारण सोनी लाइव पर किया जा रहा है।