माल्या के शेयरों को बेचने से मिले 1,008 करोड़ रुपये- प्रवर्तन निदेशालय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 27, 2019   17:23
माल्या के शेयरों को बेचने से मिले 1,008 करोड़ रुपये- प्रवर्तन निदेशालय

जेंसी ने कहा कि ईडी द्वारा उठाए गए कदमों एवं दी गई जानकारियों तथा किंगफिशर एयरलाइंस और विजय माल्या पर भारतीय स्टेट बैंक की अगुआई वाले समूह के भारी बकाये को देखते हुए विशेष पीएमएलए अदालत ने 26 मार्च को शेयरों को बेचने की अनुमति दी।

नयी दिल्ली। फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के यूनाइटेड ब्रुअरीज होल्डिंग्स लिमिटेड (यूबीएचएल) के शेयरों की बिक्री से 1,008 करोड़ रुपये मिले हैं। इन शेयरों की बिक्री ऋण वसूली न्यायाधिकरण (डीआरटी) ने की है। प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को यह जानकारी दी। ईडी ने कहा कि विजय माल्या के खिलाफ चल रही मनी लॉन्ड्रिंग जांच को लेकर एजेंसियों ने शेयरों को जब्त किया था। ये शेयर यस बैंक के पास पड़े थे। कर्नाटक उच्च न्यायालय ने हाल ही में बैंक को बेंगलुरू स्थित ऋण वसूली न्यायाधिकरण के पक्ष में इन शेयरों को सुपुर्द करने का आदेश दिया था। प्रवर्तन निदेशालय ने कहा कि इसके बाद डीआरटी के वसूली अधिकारी ने यूबीएचएल के 74,04,932 शेयरों की बिक्री के लिए इस महीने की शुरुआत में नोटिस प्रकाशित किया था।

इसे भी पढ़ें: विजय माल्या की मुश्किलें बढ़ी, अदालत ने दिया संपत्तियाों को कुर्क करने का आदेश

एजेंसी ने कहा कि ईडी द्वारा उठाए गए कदमों एवं दी गई जानकारियों तथा किंगफिशर एयरलाइंस और विजय माल्या पर भारतीय स्टेट बैंक की अगुआई वाले समूह के भारी बकाये को देखते हुए विशेष पीएमएलए अदालत ने 26 मार्च को शेयरों को बेचने की अनुमति दी। इसके बाद डीआरटी के वसूली अधिकारी ने बुधवार को शेयरों की बिक्री की और इससे 1,008 करोड़ रुपये मिले हैं।

इसे भी पढ़ें: माल्या की कंपनी के पास पड़े 1,025 करोड़ रुपये के शेयर यूबीएल को स्थानांतरित

ईडी ने बताया कि यूनाइटेड ब्रुअरीज लिमिटेड (यूबीएल) के ये शेयर यूबीएचएल के पास थे और किंगफिशर एयरलाइंस ने ऋण के बदले में ये शेयर बैंक के पास रखे थे। उल्लेखनीय है कि माल्या इस समय लंदन में हैं और उनको भारत ला ने के लिए प्रत्यर्पण की कार्रवाई चल रही है। बैंक के साथ 9,000 करोड़ रुपये की ऋण धोखाधड़ी मामले में माल्या के खिलाफ ईडी और सीबीआई जांच कर रही हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।