बीते वित्त वर्ष में कोल इंडिया से बिजली क्षेत्र को आवंटन छह प्रतिशत घटा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 30 2019 4:35PM
बीते वित्त वर्ष में कोल इंडिया से बिजली क्षेत्र को आवंटन छह प्रतिशत घटा
Image Source: Google

विश्व बैंक की एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को अपनी बिजली मांग को पूरा करने के लिए अभी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है और देश में विश्वसनीय आपूर्ति निचले स्तर पर है।

नयी दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की कोल इंडिया लि. (सीआईएल)ने बीते वित्त वर्ष 2018-19 में ई नीलामी प्रक्रिया के जरिये बिजली क्षेत्र को 2.71 करोड़ टन कोयले का आवंटन किया। यह आंकड़ा इससे पिछले वित्त वर्ष के 2.89 करोड़ टन की तुलना में छह प्रतिशत कम है।मार्च, 2019 में कोयले का आवंटन 11.2 लाख टन रहा, जबकि इससे एक साल पहले इसी महीने में कोल इंडिया ने बिजली क्षेत्र को कोई आवंटन नहीं किया था।

इसे भी पढ़ें: वित्त वर्ष 19 में 48.80 करोड़ टन पर कोल इंडिया की बिजली आपूर्ति 7% बढ़ी

विश्व बैंक की एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को अपनी बिजली मांग को पूरा करने के लिए अभी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है और देश में विश्वसनीय आपूर्ति निचले स्तर पर है। पिछले साल कोल इंडिया ने कहा था कि वह विशेष ई-नीलामी प्रणाली के जरिये 2018-19 में 4.5 करोड़ टन कोयले की पेशकश करेगी। कोल इंडिया का घरेलू कोयला उत्पादन में 80 प्रतिशत से अधिक योगदान है। 

इसे भी पढ़ें: देश का कोयला आयात 2018-19 में 8.8 प्रतिशत बढ़कर 23.35 करोड़ टन पहुंचा



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video