उच्च न्यायालय ने अमेजन की याचिका पर फ्यूचर रिटेल से मांगी प्रतिक्रिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 13, 2021   14:51
  • Like
उच्च न्यायालय ने अमेजन की याचिका पर फ्यूचर रिटेल से मांगी प्रतिक्रिया

उच्च न्यायालय ने अपने खिलाफ निष्कर्ष हटाने की अमेजन की याचिका पर फ्यूचर रिटेल से प्रतिक्रिया मांगी है।अमेजन ने अपनी अपील में यह भी कहा है कि 21 दिसंबर, 2020 के आदेश में जो निष्कर्ष दिए गए हैं इससे एफआरएल को आपातकालीन मध्यस्थता (ईए)आदेश को नजरअंदाज करने का मौका मिल गया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने अमेरिका की ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन की एक याचिका पर किशोर बियानी की अगुवाई वाली फ्यूचर रिटेल लिमिटेड (एफआरएल) से प्रतिक्रिया मांगी है। अमेजन ने इस याचिका में एकल न्यायाधीश की पीठ के अंतरिम आदेश में अपने खिलाफ निष्कर्षों को खारिज करने की अपील की है। एकल न्यायाधीश की पीठ ने कहा था कि फ्यूचर रिटेल का नियंत्रण हासिल करने की अमेजन की कोशिश विदेशी मुद्रा विनिमय प्रबंधन अधिनियम (फेमा) और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों का उल्लंघन है।

इसे भी पढ़ें: 1 अप्रैल से पांच साल के लिए लागू होगी देश की नई विदेश व्यापार नीति

मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने 21 दिसंबर, 2020 के अंतरिम आदेश में एकल न्यायाधीश द्वारा की गयी कुछ टिप्पणियों के खिलाफ अमेजन की याचिका पर अपना पक्ष रखने के लिये एफआरएल, रिलायंस रिटेल और बियानी को नोटिस जारी किया। अमेजन ने अपनी अपील में टिप्पणियों को खारिज करने की अपील की है। अमेजन का कहना है कि ये निष्कर्ष सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र (एसआईएसी) के समक्ष शुरू हुई मध्यस्थता की कार्यवाही पर असर डालते हैं। उसने कहा है कि रिलायंस रिटेल के साथ 24,713 करोड़ रुपये के सौदे के तहत एफआरएल की परिसंपत्ति की बिक्री के खिलाफ 25 अक्टूबर, 2020 के एसआईएसी आपातकालीन मध्यस्थता आदेश के साथ एकल पीठ की टिप्पणियां असंगत हैं।

इसे भी पढ़ें: इस साल आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या 6 करोड़ तक पहुंची

अमेजन ने अपनी अपील में यह भी कहा है कि 21 दिसंबर, 2020 के आदेश में जो निष्कर्ष दिए गए हैं इससे एफआरएल को आपातकालीन मध्यस्थता (ईए)आदेश को नजरअंदाज करने का मौका मिल गया है। एफआरएल की ओर से उपस्थित वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कहा, ‘‘हमें अपील पर गंभीर आपत्तियां हैं। यह सही नहीं है। हम अपना जवाब देंगे। अपील में कई बातें कही गई हैं, जिसका हम प्रतिक्रिया देंगे। अदालत ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 12 फरवरी तय की है। एकल न्यायाधीश ने 21 दिसंबर, 2020 का अंतरिम आदेश एफआरएल की उस याचिका पर दिया था जिसमें अमेजन को एसआईएसी के मध्यस्थता आदेश पर भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी), भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) और अन्य अधिकारियों को पत्र लिखने से रोकने की अपील की गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव जारी,सेंसेक्स 531 अंक की गिरावट के साथ बंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   17:22
  • Like
शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव जारी,सेंसेक्स 531 अंक की गिरावट के साथ बंद

सेंसेक्स 375 अंक से अधिक की तेजी में खुला और कारोबार के दौरान 49,263.15 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। हालांकि इसके बाद बिकवाली के दबाव में यह एक समय गिर कर नीचे 48,274.92 अंक तक चला गया था। इसी तरह, एनएसई का निफ्टी 133 अंक यानी 0.93 प्रतिशत की गिरावट के साथ 14,238.90 अंक पर बंद हुआ।

मुंबई। पेट्रोलियम व सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) कंपनियों के शेयरों की भारी बिकवाली के दबाव में सोमवार को घरेलू शेयर बाजारों में लगातार तीसरे कारोबारी सत्र में गिरावट रही। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 530.95 अंक यानी 1.09 प्रतिशत गिरकर 48,347.59 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसमें करीब एक हजार अंकों का उतार-चढ़ाव रहा। सेंसेक्स 375 अंक से अधिक की तेजी में खुला और कारोबार के दौरान 49,263.15 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। हालांकि इसके बाद बिकवाली के दबाव में यह एक समय गिर कर नीचे 48,274.92 अंक तक चला गया था। इसी तरह, एनएसई का निफ्टी 133 अंक यानी 0.93 प्रतिशत की गिरावट के साथ 14,238.90 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज में सर्वाधिक 5.36 प्रतिशत की गिरावट रही।

इसे भी पढ़ें: रिलायंस को पीछे छोड़ एक बार फिर सबसे मूल्यवान घरेलू कंपनी बनी TCS

इसके अलावा इंडसइंड बैंक, एचसीएल टेक, एशियन पेंट्स, अल्ट्राटेक सीमेंट और पावरग्रिड के शेयर 4.72 प्रतिशत तक लुढ़क गये। सेंसेक्स में 21 कंपनियों के शेयर गिरावट में रहीं, जबकि नौ में तेजी रही। तेजी वाले शेयरों में एक्सिस बैंक, सन फार्मा, बजाज ऑटो, बजाज फिनसर्व, एचडीएफसी बैंक और डॉ रेड्डीज शामिल हैं। विश्लेषकों का मानना ​​है कि डेरिवेटिव बाजार में मासिक निपटान, कंपनियों के तिमाही परिणाम और आगामी केंद्रीय बजट पहले बीच में अवकाश से प्रभावित कारेाबार के बीच बाजार अस्थिर रह सकता है। भारतीय शेयर बाजार बाजार गणतंत्र दिवस के मौके पर मंगलवार को बंद रहेंगे। एशियाई शेयर सोमवार को बढ़त के साथ बंद हुए। इस बीच अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले तीन पैसे बढ़कर 72.94 पर बंद हुआ। वैश्विक स्तर पर ब्रेंट क्रूड सोमवार को 0.56 फीसदी बढ़कर 55.69 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




यस बैंक संस्थापक राण कपूर को झटका, बॉम्बे हाई कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   17:04
  • Like
यस बैंक संस्थापक राण कपूर को झटका, बॉम्बे हाई कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

उच्च न्यायालय ने यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को जमानत देने से इनकार कर दिया है।पिछले साल जुलाई में मुंबई की एक विशेष अदालत ने कपूर की जमानत याचिका खारिज कर दी थी जिसके बाद उन्होंने उच्च न्यायालय का रुख किया था।

मुंबई।बंबई उच्च न्यायालय ने धन शोधन मामले में आरोपी यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को जमानत देने से सोमवार को इनकार कर दिया। प्रवर्तन निदेशालय ने कपूर को पिछले साल मार्च में गिरफ्तार किया था। केंद्रीय एजेंसी डीएचएफएल से संबंद्ध कंपनी से कथित तौर पर 600 करोड़ रुपये हासिल करने के मामले में कपूर, उनकी पत्नी और उनकी तीन बेटियों के खिलाफ जांच कर रही है। पिछले साल जुलाई में मुंबई की एक विशेष अदालत ने कपूर की जमानत याचिका खारिज कर दी थी जिसके बाद उन्होंने उच्च न्यायालय का रुख किया था।

इसे भी पढ़ें: रिलायंस को पीछे छोड़ एक बार फिर सबसे मूल्यवान घरेलू कंपनी बनी TCS

कपूर के वकील हरीश साल्वे ने सोमवार को न्यायमूर्ति पी डी नाइक की अध्यक्षता वाली एकल पीठ को बताया कि कपूर की कंपनी को 600 करोड़ रुपये का कर्ज मिला था, रिश्वत के तौर पर यह राशि नहीं दी गयी थी। ईडी के वकील हितेन वेनेगांवकर ने जमानत याचिका का विरोध किया और अदालत को बताया कि कंपनी के मालिकों में कपूर की बेटियां भी हैं। प्रवर्तन निदेशलालय (ईडी) ने कपूर को धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया था। ईडी के मुताबिक, कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और सहयोगियों को कर्ज की मंजूरी देने के लिए उनके नियंत्रण वाली कंपनियों के जरिए 4,300 करोड़ रुपये का फायदा हुआ। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) भी इससे जुड़े एक मामले की जांच कर रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




जायडस कैडिला ने कहा, कोविड-19 की दवा के दूसरे चरण के परीक्षण से सकारात्मक परिणाम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   16:38
  • Like
जायडस कैडिला ने कहा, कोविड-19 की दवा के दूसरे चरण के परीक्षण से सकारात्मक परिणाम

जायडस कैडिला ने कहा, कोविड-19 की दवा के दूसरे चरण के परीक्षण से ‘सकारात्मक परिणाम’ दिए है।कंपनी ने बताया कि इस दवा के इस्तेमाल से लाल रुधिर कणिकाओं के निर्माण में बढ़ोतरी हुई और ऑक्सीजन स्तर में भी सुधार हुआ।

नयी दिल्ली।दवा कंपनी जायडस कैडिला ने सोमवार को कहा कि मैक्सिको में कोविड-19 के मरीजों पर उसकी दवा डेसीडुस्टैट के दूसरे चरण के परीक्षण के नतीजे सकारात्मक हैं। जायडस कैडिला को जून 2020 में मैक्सिको के नियामक प्राधिकरण से कोविड-19 के इलाज की संभावित दवा डेसीडुस्टैट के परीक्षण की अनुमति मिली थी।

इसे भी पढ़ें: रिलायंस को पीछे छोड़ एक बार फिर सबसे मूल्यवान घरेलू कंपनी बनी TCS

कैडिला हेल्थकेयर ने शेयर बाजार को बताया कि कोविड के इलाज में डेसीडुस्टैट के दूसरे चरण के परीक्षण सकारात्मक रहे हैं। कंपनी ने बताया कि इस दवा के इस्तेमाल से लाल रुधिर कणिकाओं के निर्माण में बढ़ोतरी हुई और ऑक्सीजन स्तर में भी सुधार हुआ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept