विदेश व्यापार महानिदेशालय ने Airtel का नाम ब्लैकलिस्ट से हटाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   14:43
विदेश व्यापार महानिदेशालय ने Airtel का नाम ब्लैकलिस्ट से हटाया

भारती एयरटेल ने शुक्रवार को कहा कि उसका नाम विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) की काली सूची से हटा दिया गया है। इस सप्ताह की शुरुआत में, कंपनी ने कहा था कि वह इस सूची से अपना नाम हटवाने के लिए काम कर रही है।

नयी दिल्ली। भारती एयरटेल ने शुक्रवार को कहा कि उसका नाम विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) की काली सूची से हटा दिया गया है। एक निर्यात संवर्धन योजना के तहत निर्यात दायित्वों का पूरी तरह पालन नहीं करने को लेकर एयरटेल को इस सूची में डाला गया था। कंपनी ने बयान में कहा कि हम औपचारिकताओं को पूरा करने और शेष मामलों को बंद करने के लिए अतिरिक्त दस्तावेज उपलब्ध कराने के लिए अधिकारियों के साथ सक्रिय रूप से जुड़े हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: Bharti Airtel को लगा बड़ा झटका, इस वजह से हुआ ब्लैकलिस्ट

भारती एयरटेल ने कहा कि डीजीएफटी के सामने संबंधित जानकारी और दस्तावेज का उल्लेख करने के बाद उसे अब काली सूची से बाहर कर दिया गया है। इस सप्ताह की शुरुआत में, कंपनी ने कहा था कि वह इस सूची से अपना नाम हटवाने के लिए काम कर रही है। डीजीएफटी की मौजूदा कार्रवाई उसके भविष्य में निर्यात या आयात करने की क्षमता को सीमित नहीं करती है। वाणिज्य मंत्रालय के तहत आने वाले डीजीएफटी ने कंपनी को उसे जारी कुछ पूंजीगत उत्पादों के निर्यात संवर्द्धन (ईपीसीजी) के तहत निर्यात प्रतिबद्धताओं को पूरा नहीं करने पर प्रवेश निषेध सूची में डाला है। इस सूची को काली सूची के तौर भी जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें: दूरसंचार विभाग ने पावरग्रिड से मांगे 22,000 करोड़, कंपनी ने दी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

पूंजीगत सामान निर्यात संवर्धन योजना एक निर्यात प्रोत्साहन योजना है जिसके तहत पूंजीगत सामानों का निशुल्क आयात करने की अनुमति है। योजना के तहत आयातकों को बचाये गये आयात शुल्क के मुकाबले छह गुना तक निर्यात दायित्व पूरा करना होता है। 

इसे भी देखें- मोबाइल नंबर पोर्ट कराना हुआ आसान, जानें नया नियम





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।