अब इस ऐप से पता कर सकेंगे सोना असली है या नकली! सरकार ने किया लॉन्च

अब इस ऐप से पता कर सकेंगे सोना असली है या नकली! सरकार ने किया लॉन्च

उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने मंगलवार को एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है जिसका नाम है BIS-Care। ये एक मोबाइल ऐप है जिसके जरिए अब आप आसानी से सोने की असलियत का पता लगा पाएंगे। इस ऐप का इस्तेमाल आप कंज्यूमर्स, ISI और हॉलमार्क क्वालिटि प्रमाणित प्रोडक्टस की प्रामणिकता की जांच के लिए कर सकते है।

अब आप भी इस ऐप के मदद से ये पता लगा सकेंगे की सोना कितना असली है और नकली। खरे सोने की पहचान करना अब काफी आसान हो गया है। अब आपको सोने की असली और नकली की पहचान के लिए दुकान के चक्कर नहीं लगाने पड़ंगे। उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने मंगलवार को एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है जिसका नाम है BIS-Care। ये एक मोबाइल ऐप है जिसके जरिए अब आप आसानी से सोने की असलियत का पता लगा पाएंगे। इस ऐप का इस्तेमाल आप कंज्यूमर्स, ISI और हॉलमार्क क्वालिटि प्रमाणित प्रोडक्टस की प्रामणिकता की जांच के लिए कर सकते है। इस ऐप को आप किसी भी एंड्रॉयड फोन में डाउनलोड कर सकते है। पासवान ने ब्यूरो ऑफ इंडिया स्टैंडर्ड (BIS) के तीन पोर्टल भी लॉन्च किए है। 

इसे भी पढ़ें: IBM की एक रिपोर्ट में खुलासा, भारत में डेटा चोरी से कंपनियों को हुआ औसतन 14 करोड़ का नुकसान

क्या है BIS?

BIS भारत में मानक निर्धारित करने वाला नेशनल मानक निकाय है। इसने अब तक 358 प्रोडक्ट के लिए 20,866 मानक और अनिवार्य मानक निर्धारित किए हैं। बता दें कि ISI मार्क 1955 से भारत में औघोगिक उत्पादों के लिए एक मानक-अनुपालन का  चिह्न है। इस हॉलमार्क से ही सोने की पहचान होती है और सोने के आभूषणों के लिए गुणवत्ता सर्टिफिकेट भी यही हॉलमार्क है। इस लिंक पर WWW.manakonline.in उपभोक्ता लॉगइन कर सकते है और किसी भी  एंड्रॉयड फोन में इसको चला सकते है। आप इस ऐप को गूगल प्लेस्टोर से फ्री में डाउनलोड कर सकते है। पासवान के मुताबिक, यह ऐप यूजर्स के लिए काफी कारगार साबित होगा और वह इसकी मदद से केवल हॉलमार्क वाले प्रोडक्ट की ही प्रामणिकता चेक कर सकेंगे कि प्रोडक्ट कितना असली है और कितना नकली।