DGCA ने स्पाइसजेट पर लगे बैन को 29 अक्टूबर तक बढ़ाया, 0 फीसदी उड़ानों की ही है इजाजत

DGCA
ANI
अभिनय आकाश । Sep 21, 2022 6:04PM
प्राधिकरण ने 27 जुलाई 2022 को सम संख्या का अंतरिम आदेश जारी किया, जिससे प्रतिबंधित किया गया। 19ए एयरक्राफ्ट रूल्स, 1937 के तहत कार्रवाई करते हुए स्पाइसजेट को आठ हफ्तों के लिए 50% विमान सेवाओं का ही संचालन करने की अनुमति दी थी।

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने स्पाइसजेट पर केवल 50% उड़ानों के संचालन के लिए लगा प्रतिबंध 29 अक्तूबर 2022 तक  बढ़ा दिया। हालांकि डीजीसीए की ओर से जारी नोट में यह बात कही गई है कि विमानन कंपनी उड़ान सेवाओं में सुरक्षा से जुड़ी घटनाओं की संख्या में कमी आई है। प्राधिकरण ने 27 जुलाई 2022 को सम संख्या का अंतरिम आदेश जारी किया, जिससे प्रतिबंधित किया गया। 19ए एयरक्राफ्ट रूल्स, 1937 के तहत कार्रवाई करते हुए स्पाइसजेट को आठ हफ्तों के लिए 50% विमान सेवाओं का ही संचालन करने की अनुमति दी थी।

इसे भी पढ़ें: स्पाइसजेट ने 80 पायलटों को ‘जबरन’ बिना वेतन छुट्टी पर भेजा

स्पाइसजेट को लिखे एक पत्र में नागरिक उड्डयन के संयुक्त महानिदेशक ने उल्लेख किया कि 1 अप्रैल से 5 जुलाई 2022 तक स्पाइसजेट द्वारा संचालित विमानों पर रिपोर्ट की गई घटनाओं की समीक्षा की गई और यह देखा गया कि कई अवसरों पर विमान या तो वापस अपने प्रारंभिक स्टेशन या अवक्रमित सुरक्षा मार्जिन के साथ गंतव्य के लिए निरंतर लैंडिंग। खराब आंतरिक सुरक्षा निरीक्षण और अपर्याप्त रखरखाव कार्रवाइयां हैं, जिसके परिणामस्वरूप सुरक्षा मार्जिन में गिरावट आई है।

इसे भी पढ़ें: स्पाइसजेट ने मुख्य वित्त अधिकारी के रूप में आशीष कुमार को किया नियुक्त

बता दें कि बीते दिनों डीजीसीए ने आदेश जारी करते हुए कहा था कि अगर भविष्य में स्पाइजेट एयरलाइन 50 फीसदी से ज्यादा उड़ानें चाहती है तो उसे साबित करना होगा कि ये अतिरिक्त भार उठाने की क्षमता उसके पास है। स्पाइसजेट कंपनी के पास कुल 90 विमान हैं। हालांकि डीजीसीए के आदेश के बाद कंपनी केवल 50 विमान ही ऑपरेट कर पा रही है। इस फैसले का एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट के आर्थिक हालात पर भी असर पड़ा। 

अन्य न्यूज़