ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन में 1 अक्टूबर से लागू होंगे नए नियम, जानें पूरी डिटेल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2021   21:01
ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन में 1 अक्टूबर से लागू होंगे नए नियम, जानें पूरी डिटेल

आरबीआई द्वारा यूटिलिटी बिल, मोबाइल बिल और ओटीपी मंचों के सब्सक्रिप्शन के लिए लगाए जाने वाले ऑटो डेबिट सिस्टम की आखिरी तारीख 30 सितंबर 2021 तय कर दी गई है। यानी 1 अक्टूबर से देश में ऑटो डेबिट लेन-देन में नए नियम लागू होंगे।

देश का सर्वोच्च बैंक आरबीआई हाल ही में बैंकिंग ट्रांजैक्शन से जुड़े नए नियम लेकर सामने आया है। आरबीआई द्वारा यूटिलिटी बिल, मोबाइल बिल और ओटीपी मंचों के सब्सक्रिप्शन के लिए लगाए जाने वाले ऑटो डेबिट सिस्टम की आखिरी तारीख 30 सितंबर 2021 तय कर दी गई है। यानी 1 अक्टूबर से देश में ऑटो डेबिट लेन-देन में नए नियम लागू होंगे।आरबीआई के इन नए नियमों के तहत 1 अक्टूबर से बैंकों को ऑटो- डेबिट भुगतान की तारीख से 5 दिन पूर्व ग्राहक को एक नोटिफिकेशन भेजना होगा। ग्राहक की मंजूरी देने के बाद ही भुगतान संभव हो पाएगा ,इसके अलावा अगर भुगतान की राशि ₹5000 से अधिक है तो बैंक ग्राहक को ओटीपी भी भेजेगा।

इसे भी पढ़ें: आरबीआई रिपोर्ट ने खोल दी है,योगी के दावों की पोलः मायावती

सरल भाषा में समझे तो 1 अक्टूबर से नए ऑटो डेबिट पेमेंट सिस्टम लागू होने के बाद बैंक और पेटीएम ,फोन  पे जैसे ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफार्म को किस्त या बिल के पैसे काटने के पहले हर बार ग्राहक की मंजूरी की आवश्यकता होगी। ग्राहक की अनुमति के बाद ही पैसे काटे जाएंगे।इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए ग्राहक के मोबाइल नंबर का बैंक में अपडेट होना आवश्यक है ,क्योंकि ग्राहक के मोबाइल नंबर पर ही ऑटो डेबिट से जुड़ा नोटिफिकेशन या एस एम एस भेजा जाएगा।

इसे भी पढ़ें: RBI का बड़ा फैसला! इन 21 बैंकों के ग्राहकों को मिलेगा 5 लाख, यहां चेक करें लिस्ट

आपको बता दें कि पहले इस की आखिरी तारीख 31 मार्च 2021 थी, यानी कि 1 अप्रैल से नए नियम लागू होने थे। लेकिन बैंक और भुगतान सुविधा प्रदान करने वाले प्लेटफार्म द्वारा नए नियमों को लागू करने के लिए कुछ समय की मांग की गई थी, इसलिए सर्वोच्च बैंक द्वारा यह तारीख बढ़ा दी गई थी, ताकि ग्राहकों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो।बढ़ते फ्रॉड को मध्य नजर रखते हुए यह बदलाव किया गया है। वर्तमान में ज्यादातर लोग अपने मोबाइल, पानी का बिल आदि के बिलों को ऑटो पेमेंट मोड में रख देते हैं, यानी डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म या बैंक ग्राहक से एक बार अनुमति लेने के बाद हर महीने बिना किसी जानकारी के अकाउंट से पैसे काट लिए जाते हैं।नए नियम लागू होने पर करोड़ों ग्राहक प्रभावित होंगे। हालांकि यूपीआई के ऑटो  पे  सिस्टम से ऐसे ऑटो डेबिट भुगतान पर कोई असर नहीं पड़ेगा और साथ ही साथ ऑटो पेमेंट मोड से जुड़े फ्रॉड भी काबू में आ पाएंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।