सरकार ने बैंकों से उद्योगों को कर्ज बढ़ाने को कहा

Money
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
वित्तीय सेवा सचिव संजय मल्होत्रा ने कहा कि बैंकों की तरफ से दिये गये कुल कर्ज में उद्योगों की हिस्सेदारी पिछले दशक में 16 प्रतिशत घटकर 26 प्रतिशत पर रही। इसे बढ़ाने की जरूरत है।

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को बैंकों से उद्योगों को और कर्ज देने को कहा। उसने कहा कि उद्योग के निवेश का देश की आर्थिक वृद्धि के नजरिये से व्यापक प्रभाव पड़ता है। वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला वित्तीय सेवा विभाग बैंकों के लिये ग्राहक सेवा को लेकर सर्वे पर भी विचार कर रहा है और उसके आधार पर बैंकों की रैंकिंग जारी करेगा।

वित्तीय सेवा सचिव संजय मल्होत्रा ने कहा कि बैंकों की तरफ से दिये गये कुल कर्ज में उद्योगों की हिस्सेदारी पिछले दशक में 16 प्रतिशत घटकर 26 प्रतिशत पर रही। इसे बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इन वर्षों के दौरान अधिकतम कर्ज वृद्धि खुदरा क्षेत्र में है और बैंक अब उस पर ध्यान दे रहे हैं। मल्होत्रा ने कहा कि साथ ही कॉरपोरेट बॉन्ड पर भी कंपनियों का भरोसा बढ़ा है।

उन्होंने भारतीय बैंक संघ (आईबीए) की सालाना आम बैठक में बैंक अधिकारियों से कहा, ‘‘हमें सभी क्षेत्रों को साथ लेकर चलना है। हमने गौर किया है कि समय के साथ उद्योगों को दिये जाने वाले कर्ज में कमी आई है।’’ सचिव ने कहा, ‘‘हमें इस स्थिति को बदलना है। हमें उद्योग को कर्ज देने को समर्थन देना है क्योंकि उद्योग के निवेश का अर्थव्यवस्था पर व्यापक असर पड़ता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़