राज्यों से सलाह किए बिना GST परिषद तय करती है बैठक का एजेंडा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 10 2019 8:08PM
राज्यों से सलाह किए बिना GST परिषद तय करती है बैठक का एजेंडा
Image Source: Google

छोटे कारोबारियों को राहत देते हुए जीएसटी परिषद ने बृहस्पतिवार को जीएसटी छूट सीमा को बढ़ाकर दोगुना कर दिया। अब यह सीमा 40 लाख रुपये होगी।

नयी दिल्ली। आंध्र प्रदेश के वित्त मंत्री यानमाला रामकृष्णुडु ने बृहस्पतिवार को कहा कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने राज्य सरकारों से परामर्श किये बिना बैठक के मुद्दे तय किए। उन्होंने इस बात पर गंभीर चिंता व्यक्त की। हालांकि, उन्होंने जीएसटी परिषद के विभिन्न फैसलों का समर्थन किया है।

इसे भी पढ़ें: चंद्रबाबू नायडू ने अर्थव्यवस्था पर मोदी को बहस करने की चुनौती दी

उल्लेखनीय है कि छोटे कारोबारियों को राहत देते हुए जीएसटी परिषद ने बृहस्पतिवार को जीएसटी छूट सीमा को बढ़ाकर दोगुना कर दिया। अब यह सीमा 40 लाख रुपये होगी। इसके अलावा अब डेढ करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाली इकाइयां एक प्रतिशत दर से जीएसटी भुगतान की कम्पोजिशन योजना का लाभ उठा सकेंगी। कम्पोजिशन योजना का विकल्प चुनने वालों को सालाना सिर्फ एक कर रिटर्न दाखिल करनी होगी। 

इसे भी पढ़ें: मौजूदा सरकार से जनता नाखुश, येचुरी बोले- अब मोदी को जाना होगा

एक आधिकारिक बयान में रामकृष्णुडु ने इस बात पर गंभीर चिंता जाहिर की कि परिषद राज्यों से परामर्श लिए बगैर एजेंडा तय कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्यों को छूट और कर में कमी से जुड़ी कुछ दिक्कतें हैं, जिनमें से कुछ पर कई बार पत्र लिखने के बावजूद चर्चा नहीं की गयी। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video