अच्छी प्रतिभा की तलाश में हायरिंग एजेंसियां ! इन लोगों को दी जा रही वरीयता

अच्छी प्रतिभा की तलाश में हायरिंग एजेंसियां ! इन लोगों को दी जा रही वरीयता

हायरिंग एजेंसियों ने बताया कि उन्हें फर्मों से विशेषतौर पर ऐसे उम्मीदवारों को लाने के लिए जोर दिया जा रहा है जो काम बाधित होने की वजह से नौकरी गवा चुके हैं।

नयी दिल्ली। कोरोना काल में अगर आपने किसी ऐसे सेक्टर में काम किया है जिसने संकट को बड़े करीब से देखा है जैसे कि ऑटोमोबाइल, विमानन सेक्टर इत्यादि। ऐसे में इन सेक्टरों में काम करने वालों लोगों की डिमांड काफी ज्यादा है। अंग्रेजी समाचार पत्र द टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक इन सेक्टरों में व्यवधानों को देखने वाले लोगों का उनकी सीवी पर अच्छा असर पड़ने वाला है।

हायरिंग एजेंसियों ने बताया कि उन्हें फर्मों से विशेषतौर पर ऐसे उम्मीदवारों को लाने के लिए जोर दिया जा रहा है जो काम बाधित होने की वजह से नौकरी गवा चुके हैं। कम्पनियां/फर्म्स ऐसी प्रतिभा की तलाश में हैं जो दबाव में भी अच्छा काम कर सकें और लचीला हों। 

इसे भी पढ़ें: नौकरियों को लेकर आने वाला हैे बड़ा संकट, फाडा की रिपोर्ट के मुताबिक ट्रांसपोर्ट डीलरशिप की होगी बुरी स्थिति 

क्लैरिएंट पार्टनर की मैनेजिंग पार्टनर ज्योति बोवेन नाथ ने बताया कि प्रमुख सीमेंट कम्पनी सीएक्सओ स्तर के लिए ऑटो इंडस्ट्री से प्रतिभा की तलाश कर रही है, जो कोविड-19 संकट के समय में बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। उन्होंने बताया कि ऑटो इंडस्ट्री में अच्छे पेशेवर लोग हैं। इसके अलावा दूसरे सेक्टर के लोगों को हायर करने का प्राफिट यह है कि वह एक अलग तरह के दृष्टिकोण को लेकर आते हैं।

वहीं, आरपीजी एंटरप्राइजेज के अध्यक्ष (ग्रुप एचआर) एस वेंकटेश ने कहा कि ग्रुप इंडस्ट्रीय में प्रतिभा को देखता रहता है जो उनके व्यापार मॉडल में व्यवधान और चुनौतियों से पार पाकर निकलते हैं। उन्होंने बताया कि किसी नेता या प्रबंधक के लिए एक ऐसे संगठन में अच्छा प्रदर्शन करना बहुत आसान है, जिसका एक क्षेत्र में एकाधिकार है। 

इसे भी पढ़ें: ऑटोमोबाइल सेक्टर का हाल बेहाल, गाड़ियों की बिक्री में भी 51 फीसदी की गिरावट दर्ज 

उन्होंने कहा कि हम इस बात को देखते है कि क्या हमारे लोग संकट की स्थिति से गुजरते रहे हैं। ऐसे लोग जो दबाव में और चुनौतीपूर्ण माहौल में काम करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कोविड से प्रभावित सेक्टरों में काम करने वाले लोगों को कम पैसे में नहीं रखा जा रहा है। सेक्टर अच्छी प्रतिभा की तलाश में हैं और वह उन्हें अच्छा पैसा देने के लिए तैयार भी है। दरअसल, कोविड-19 से प्रभावित सेक्टरों में काम करने वाले लोगों की हायरिंग एजेंसिया तलाश कर रही है वो भी उन्हें जिनमें प्रतिभा की कमी नहीं है और वह लोग दबाव में काम करना भलीभांति जानते हैं। ऐसे लोगों को कम्पनियां अच्छा पैसा देने के लिए भी तैयार हैं।

गौरतलब है कि कोरोना काल में ऑटोमोबाइल सेक्टर और विमानन सेक्टर में काम करने वाले बहुत से लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा था। जिसके बाद से वह लगातार नौकरियों की तलाश में जुटे हुए थे लेकिन लॉकडाउन की वजह से कम्पनियां हायरिंग नहीं कर रही थी। हालांकि अब धीरे-धीरे कम्पनियां सामान्य कामकाज की तरफ वापस लौट रही हैं ऐसे में उन्हें स्किल्ड लोगों की आवश्यकता है।